• Home
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • सिर-आंखों में लंबे समय से दर्द हो, साइड से कम दिखे तो कराएं चेकअप, हो सकता है ग्लूकोमा
--Advertisement--

सिर-आंखों में लंबे समय से दर्द हो, साइड से कम दिखे तो कराएं चेकअप, हो सकता है ग्लूकोमा

वर्ल्ड ग्लूकोमा वीक के तहत 17 मार्च तक शहर में जगह-जगह आई चेकअप कैंप आयोजित किए जा रहे हैं। ग्लूकोमा के प्रति लोगों...

Danik Bhaskar | Mar 14, 2018, 04:25 AM IST
वर्ल्ड ग्लूकोमा वीक के तहत 17 मार्च तक शहर में जगह-जगह आई चेकअप कैंप आयोजित किए जा रहे हैं। ग्लूकोमा के प्रति लोगों को अवेयर करने के लिए कैंप में डॉक्टर्स इससे बचने और लक्षणों के बारे में बता रहे हैं। एक्सपर्ट्स का कहना है कि आंखों की समस्या में ग्ल्ूकोमा एक कॉमन प्रॉब्लम है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार वर्ल्ड में लगभग 70 करोड़ लोग ग्लूकोमा से पीड़ित हैं। एक रिसर्च के अनुसार इंडिया में लगभग एक करोड़ 20 लाख लोग ग्लूकोमा से ग्रसित हैं। डॉक्टर आशीष महोबिया ने बताया कि इस बीमारी का सबसे बड़ा कारण है अवेयरनेस की कमी। 40 प्लस के बाद आंखों की रेगुलर जांच करानी चाहिए, खासकर ग्लूकोमा की। इसके अलावा खाने-पीने में कुछ एहतियात बरतने से भी इससे बचा जा सकता है।

क्या है ग्लूकोमा: आई स्पेशलिस्ट डाॅ. दिनेश मिश्रा ने बताया कि आंखों को पोषण देने वाला लिक्विड एक्वेस ह्यूमर होता है। ये आंखों से बाहर निकलता है, लेकिन जब किसी कारण से इसके बाहर निकलने में रुकावट आती है, तो आंखें सूखने लगती हैं। आंखों पर दबाव बढ़ने लगता है। इस प्रेशर से आंखों की महीन नसों पर बुरा असर पड़ता है। समय पर इलाज न करवाने से कई बार आंखों की रोशनी जाने का खतरा बढ़ जाता है।

ग्लूकोमा के लक्षण: सिर और आईब्रोज के पास लंबे समय तक लगातार दर्द होना।




डाइट में हरी सब्जियां ड्रायफ्रूट करें शामिल: आंखों को हेल्दी रखने के लिए विटामिन ए, बी, सी और ई जरूरी होता है। इसके लिए ड्रायफ्रूट्स, गाजर, सेब, खट्टे फल और पत्तेदार हरी सब्जियां खाएं। दूध, सी फूड, चेरी, टमाटर डायट में शामिल करें। शराब, तंबाकू, शक्कर, मसाले, अचार, चाय, काॅफी और कोल्ड ड्रिंक अवाॅइड करें।

मरीजों का फ्री चेकअप कर बांटे गए चश्मे: जिला अंधत्व नियंत्रण समिति, मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी की ओर से ग्लूकाेमा अवेयरनेस प्रोग्राम आयोजित किया जा रहा है। डॉ. संजय पाटिल ने बताया कि जिले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों में जांच के बाद मरीजों को चश्मा निशुल्क दिया जा रहा है। इसके अलावा लोगों को 40 प्लस होते ही हर साल आई चेकअप कराने की सलाह दी जा रही है। फाफाडीह के साईं बाबा आई हॉस्पिटल में भी मरीजों का फ्री चेकअप किया गया।