Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» Police Fair On Smugglers, Arms Fair In Neighboring State

पड़ोसी राज्य में हथियारों का मेला, तस्करों पर पुलिस की नजर

सिमडेगा जिले में लगता है अवैध हथियारों का मेला, पुलिस ने बढ़ाई चौकसी।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 05, 2017, 05:51 AM IST

  • पड़ोसी राज्य में हथियारों का मेला, तस्करों पर पुलिस की नजर
    जशपुरनगर(रायपुर)।पड़ोसी राज्य के सिमडेगा जिले में अवैध हथियारों का मेला लगता है। मेले में हथियार खरीदने के लिए लोग दूर-दूर से पंहुचे हैं। यहां तलवार व खुखरी जैसे हथियार लोग खुलेआम खरीदते हैं। हथियार तस्करों पर पुलिस ने अपनी चौकसी बढ़ा दी है। जिससे कोई भी हथियार लेकर जिले में प्रवेश न कर सके। जशपुर से 40 किलोमीटर दूर सरहदी क्षेत्र के रामरेखा धाम में कार्तिक पूर्णिमा के दिन जन सैलाब उमड़ पड़ता है।
    - इस स्थान में कार्तिक पूर्णिमा के दिन से तीन दिवसीय मेले का आयोजन किया जाता है। मेले में झारखण्ड, बिहार, ओडिशा के लोग लाखों की संख्या में पंहुचे है और रामरेखा मंदिर में मत्था टेकते है। जाते-जाते अपने पसंदीदा हथियार कम दामों में खरीद लेते है।
    - धर्म और आस्था के स्थल रामरेखा धाम लगने वाले मेले में खुले स्थानों में लोगों के द्वारा हथियारों की खरीद बिक्री की जाती है और इस मेले में लोगों को आसानी से हर प्रकार के हथियार उपलब्ध हो जाते है। मेले में तलवार, फरसा, खुखरी, गुप्ती सहित बटन चाकू सहित कई हथियार 150 रुपए से लेकर 500 रुपए में बिकते है।
    - राम रेखा मेला में शामिल होने के लिए जिले से 3 से 4 हजार लोग जाते हैं। इनमें से कुछ लोग वहां से अपने साथ तलवार, चाकू खरीद कर आते हैं। पूर्व की घटनाक्रम को देखते हुए पुलिस इस अलर्ट हो गई है। इस संबंध में एसपी प्रशांत सिंह ठाकुर ने बताया कि जिले में लगातार बार्डरों पर नजर रखी जा रहा है व पेट्रोलिंग की जा रही है। बार्डर के अासपास के थाना, चौकी अलर्ट पर है।
    वर्ष 2011 में जिले में हुई थी कार्रवाई
    - मेले को लेकर जिले की पुलिस सतर्क रहती है। इसके बावजूद जंगल के रास्ते बार्डर क्षेत्र के गांव में हथियारों का जखीरा इकट्‌ठा हो जाता है जो जिले के लिए भविष्य में घातक साबित होगा।
    - वर्ष 2011 में तत्कालीन एसपी डॉ. संजीव शुक्ला के निर्देश पर तत्कालीन थाना प्रभारी गोपाल वैश्य ने सुबह 4.30 बजे बालाछापर एवं बोकी चौक में मेले से आने वाले लोगों की चेकिंग अभियान शुरु की थी। जिसमें कई लोगों के पास से पुलिस की टीम ने तलवार, खुखरी, बटन चाकू जैसे हथियार बरामद किए गए थे।
    पुलिस से बचने पगडंडियों से आते हैं
    - अवैध हथियारों के साथ जिले में आने वाले लोग पुलिस के दबाव के चलते जंगल के रास्ते पगडंडियों के पंहुचे हैं। चूंकि बार्डर झारखंड, ओडिशा सीमा से सटा हुआ है और चारों ओर जंगल होने के कारण इस मार्ग में आम दिनों में आवागमन बहुत की कम होता है।
    - जिसका फायदा उठा कर लोग आसानी से हअपने घरों तक पहुंच जातेे है। जब छत्तीसगढ़ पुलिस इस मार्ग में ज्यादा दबाव बनाकर वाहनों की सघन चेकिंग करती है तो हथियार लेकर आने वाले लोग अपना रास्ता बदल देते है और झारखंड व ओडिशा होते हुए जिले में प्रवेश कर जाते हैं।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×