--Advertisement--

सुसाइड न्यूज

सुसाइड न्यूज

Danik Bhaskar | Nov 21, 2017, 07:05 PM IST
मृतका छात्रा। मृतका छात्रा।


धमतरी। ग्राम बासीखाई की 5वीं की 11 वर्षीय कमार छात्रा ने अपनी मां की फटकार से नाराज होकर घर में फांसी लगा ली। मां ने उसे स्कूल जाने के लिए डांट-फटकार लगाई थी, जबकि मृतका शिक्षाकर्मियों की हड़ताल के कारण स्कूल नहीं जाना चाहती थी। शव को फांसी से उतारकर रातभर माता-पिता सीने से लगाकर बिलखते रहे। मंगलवार को सुबह पुलिस ने शव का पीएम कराकर परिजनों को सौंप दिया। जानिए पूरी घटना...


- केरेगांव पुलिस के अनुसार घटना ग्राम बासीखाई की है। धूरसिंह कमार की 11 वर्षीय बेटी संगीता कमार स्कूल जाने के नाम पर आनाकानी करती थी। सोमवार से शिक्षाकर्मियों के हड़ताल पर जाने के कारण उसने स्कूल जाने से साफ इंकार कर दिया, तब मां हीराबाई कमार ने डांट-फटकार कर उसे स्कूल भेजा, लेकिन मध्याह्न भोजन के बाद वह घर लौट आई।

- इस दौरान उसकी मां पास के घर में टीवी देख रही थी, जबकि पिता धूरसिंह लकड़ी लाने जंगल गया था। घर आने के बाद मां ने देर-शाम तक संगीता नहीं देखा, तब उसने खोजबीन शुरू की। इस दौरान मां ने उसके कमरे को देखा, तो म्यार में फांसी पर लटकी हालत में मिली।


रात होने के कारण सुबह पुलिस को दी सूचना


- घटना थाना क्षेत्र से करीब 10 किमी दूर बासीखाई की है। यह क्षेत्र वन्यप्राणियों के अावागमन का क्षेत्र भी है। फलस्वरूप धुरसिंह रात में घटना की सूचना देने थाने नहीं जा सका। इधर बेटी की लाश को माता-पिता अपने सीने से लगाकर रातभर रोते-बिलखते रहे।

- मंगलवार को सुबह 10 बजे वे थाने पहुंचे और घटना की जानकारी दी, तब जांच अधिकारी सालिक यादव घटना स्थल पर पहुंचे और शव का पंचनामा कर परिजनों का बयान दर्ज किया। उन्होंने बताया कि छात्रा की मां हीराबाई ने उसे स्कूल जाने के लिए डांटा-फटकारा था, जिससे क्षुब्ध होकर उसने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली।


90 प्रतिशत कारण डिप्रेशन


- जिला अस्पताल के मनोचिकित्सक डाॅ. सीपी सुमन कुमार ने कहा कि सर्वे के अनुसार 90 प्रतिशत लोग डिप्रेशन के कारण सुसाईट कर लेते हैं। छोटी उम्र में छात्रा ने फांसी लगा ली, इसमें बच्ची को स्कूल जाने को लेकर कोई न कोई परेशानी होगी।

- उसकी पढ़ाई में कमजोरी, किसी के द्वारा मजाक उड़ाना, स्कूल जाने में मन न लगना सहित कई कारण हो सकते हैं। कई लोग उत्तेजित प्रवृत्ति के होते हैं और छोटी-छोटी बातों को लेकर बढ़ा निर्णय ले लेते हैं। छात्रा भी थोड़ी उत्तेजित प्रवृत्ति की रही होगी।

फोटो : अजय देवांगन