--Advertisement--

अपने प्रेमी यश से शादी करने सात समुंदर पार से आई अमेरिका की विदेशी मैम

अपने प्रेमी यश से शादी करने सात समुंदर पार से आई अमेरिका की विदेशी मैम

Danik Bhaskar | Dec 14, 2017, 03:56 PM IST
हिंदुस्तानी लड़के के साथ हिंदू हिंदुस्तानी लड़के के साथ हिंदू

रायपुर। कहते हैं जब दिल किसी पर आ जाता है तो फिर कोई दीवार उन्हें एक दूजे का होने से रोक नहीं पाती। महजब, देश, भाषा समेत कई सीमाओं को लांघकर अमेरिका की लॉस एंजिलिस की मलिशा रायपुर आ गईं। इन्होंने होने वाले ससुर की सारी शर्तें ही नहीं मानी बल्कि उनकी अच्छी बहू बनकर दिखाने का भी वादा किया। इसी वादे के साथ दोनों ने हिंदू रीति-रिवाज से मंत्रोच्चारों के बीच गुरुवार को शादी की और एक दूजे के हो गए। जानिए लव स्टोरी के बारे में…

- शहर के तेलीबांधा स्थित पार्क पैलेस में 14 दिसंबर को हुई एक शादी ने सबका ध्यान खींच लिया। न तो ये शाही शादी थी और न ही इसमें बड़े-बड़े मिनिस्टर और सेलिब्रिटी बतौर मेहमान आए थे।

- इस शादी की सबसे खास बात दूल्हा-दुल्हन की जोड़ी थी। दूल्हा थे डॉ. यशवर्धन तिवारी और दुल्हन मलिशा।

- दुल्हन अमेरिका से अपने दूल्हे के लिए आई थी। चूंकि दुल्हन के पिता बीमार हैं और भाई को वीजा नहीं मिल पाया तो मलिशा का कन्यादान भी यशवर्धन के फैमिली फ्रेंड ने कर दिया।

- यानी मलिशा को रायपुर में केवल ससुराल ही नहीं मिला बल्कि उन्हें मायका भी मिल गया। इस शादी की चर्चा आज पूरे शहर में है।

ऐसे हुआ प्यार…

- रायपुर में पं. रविशंकर यूनिवर्सिटी कैंपस में रहने वाले यशवर्धन तिवारी ने पढ़ाई पूरी करने के बाद अमेरिका के टेक्सास यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया। यहां स्टडी के दौरान इनकी एक कॉमन फ्रेंड ने मलिशा से मुलाकात कराई।

- देखते-देखते दोनों के बीच गहरी दोस्ती हो गई। एक दूसरे के घर जाने से लेकर साथ लंच और डिनर पर जाना आम बात हो गई।

- जब कभी यशवर्धन इंडिया चले आते थे तब मलिशा उन्हें बहुत मिस करती थीं। यशवर्धन को भी वो भा गईं थीं। बस प्रपोज करना बाकी था।

- अब यशवर्धन लॉस एंजेलिस के एक मेडिकल मैनुफैक्चरिंग कंपनी में बतौर साइंटिस्ट हैं जबकि मलिशा फाइनेंस सेक्टर में काम करती हैं।

ऐसे किया प्रपोज

- पीएचडी कंप्लीट होते ही डॉक्टर यशवर्धन को जॉब मिली तो इन्हें लगा कि अब ये अपने पैरों पर खड़े हो गए हैं।

- अब ये मलिशा को दुलहन बनाने की सोचने लगे और एक दिन मौका पाकर इन्होंने मलिशा को कह ही दिया – Will U marry me?

- मलिशा भी इसी वक्त के इंतजार में थीं। इन्होंने तुरंत यशवर्धन को हग करके प्रपोजल एक्सेप्ट कर लिया।

होने वाले ससुर ने रख दी ये शर्त

- यशवर्धन ने मलिशा से शादी करने की इच्छा जाहिर की तो पहले घर वालों ने मना किया और थोड़े नाराज भी हुए, लेकिन यश की इच्छा को देखते हुए उन्होंने हां कर दी।

- पैरेंट्स ने शादी की 2 शर्तें रखी। पहली शर्त यह थी कि मलिशा को हिंदू धर्म अपनाकर शादी करनी होगी और दूसरी शर्त यह थी कि शादी हिंदू रीति-रिवाज से इंडिया में होगी।

- यश बहुत परेशान थे कि ये शर्तें वो मलिशा के सामने कैसे शेयर करेंगे। वो क्या सोचेंगीं। इधर इसी उधेड़बुन में यश ने मलिशा को ये सारी बात बता दी। मलिशा ने झट से कहा कि उन्हें सारी शर्तें मंजूर हैं।

ससुर ने ईमेल पर भेजा शादी के 7 वचन

- इधर मलिशा के होने वाले ससुर प्रोफेसर हर्षवर्धन तिवारी और सास जीता तिवारी ने तय किया कि बहू को शादी से पहले ही रीति-रिवाज के बारे में बताना होगा।

- फिर हर्षवर्धन ने शादी के 7 वचनों को इंग्लिश में ट्रांसलेट करके मलिशा को ईमेल किया। इसके बाद शादी की डेट फिक्स होने के बाद यशवर्धन के साथ मलिशा 4 दिसंबर को रायपुर पहुंची।

- यश ने बताया कि वे दोनों दिसंबर तक इंडिया में ही रहेंगे और इसके बाद अमेरिका चले जाएंगे।

फोटो/ वीडियो : प्रवीण देवांगन

आगे की स्लाइड्स में क्लिक करके देखिए खबर की और Photos…