--Advertisement--

पीएससी के लिए इस बार युवाओं का रुझान बढ़ा, १ लाख २२ हजार आवेदकों में भरा फॉर्म

पीएससी के लिए इस बार युवाओं का रुझान बढ़ा, १ लाख २२ हजार आवेदकों में भरा फॉर्म

Dainik Bhaskar

Jan 22, 2018, 04:45 PM IST
प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।

रायपुर। राज्य सेवा परीक्षा-2017 के लिए इस बार आवेदकों की संख्या पिछले साल की तुलना में काफी बढ़ गई है। इस बार करीब 1 लाख 22 हजार उम्मीदवारों ने पीएससी के लिए आवेदन किया है। पिछले साल यह संख्या मात्र 53 हजार 214 थी। आयोग के अफसरों का कहना है कि इस बार डिप्टी कलेक्टर और डीएसपी की संख्या अधिक होने से युवाओं का रुझान राज्य सेवा परीक्षा की आेर बढ़ा है।

- आयोग 299 पदों के लिए भर्ती प्रकिया का आयोजन करेगा। डिप्टी कलेक्टर के लिए 36 और डीएसपी के 34 पद निकाले गए हैं। इन दोनों ही पदों की संख्या बेहतर होने से पीएससी की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों का उत्साह बढ़ा है।

- इसके अलावा 18 विभिन्न विभागों के लिए जारी पदों में सबसे अधिक नायब तहसीलदार के लिए 51 पदों के लिए आवेदन मांगे गए हैं।

- जारी नोटीफिकेशन के मुताबिक पदों की संख्या में बदलाव भी संभव है, यानी पदों की संख्या बढ़ भी सकती है।

- इसी कारण इस बार आवेदकों की संख्या 1 लाख से पार हुई है। आयोग से मिली जानकारी के मुताबिक आवेदन करने की अंतिम तिथि 7 जनवरी थी।

- अब आवेदन के किसी तरह की त्रुटि में सुधार के लिए 10 से 16 जनवरी तक का समय उम्मीदवारों को दिया गया है। प्रारंभिक परीक्षा 18 फरवरी को दो पालियों में होगी।

- इसके बाद मुख्य परीक्षा 22 से 25 जून तक आयोजित करने की तैयारी है।

सी-सेट में क्वालीफाई से भी बढ़े उम्मीदवार


- अायोग द्वारा पीएससी-2017 के लिए जारी नोटीफिकेशन के अनुसार इस बार परीक्षा पैटर्न में कुछ बदलाव किया गया है।

- द्वितीय प्रश्न पत्र रीजनिंग और एप्टीट्यूट(सी-सैट) को केवल क्वालीफाइंग कर दिया है। इस प्रश्न पत्र में प्राप्तांक को मुख्य परीक्षा के लिए तैयार होने वाली मेरिट लिस्ट में नहीं जोड़ा जाएगा।

- प्रथम प्रश्न-पत्र सामान्य अध्ययन की प्रावीण्य सूची के आधार पर मुख्य परीक्षा के लिए अभ्यर्थियों का चयन किया जाएगा।

- इस बदलाव के बाद अब आर्ट्स विषय वाले उम्मीदवारों को पीएससी क्रेक करना आसान होगा। इस कारण भी आवेदकों की संख्या बढ़ी है।


पांच साल से सी-सैट का विवाद


- छत्तीसगढ़ में सी-सैट का पैटर्न साल 2012 में पहली बार लागू किया गया था। जिसके बाद सामान्य ज्ञान के साथ-साथ सी-सैट का नंबर भी मेंस में जोड़ा जाने लगा।

- दोनों प्रश्न पत्र 100-100 नंबर के होते हैं। कुछ छात्र इसका इस दावे के साथ विरोध कर रहे थे कि गणित-विज्ञान वाले छात्रों को पीएससी में लगातार फायदा हो रहा है, क्योंकि उन्हें दोनों सबजेक्ट का फायदा मिलता है, जो वो साथ-साथ पढ़ते हैं, जबकि आर्ट्स व कामर्स के साथ ऐसा नहीं हो रहा था।

- अब सी-सेट में केवल क्वालीफाई करने से हजारों उम्मीदवारों को राहत मिल गई है।

X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..