--Advertisement--

१०वीं और १२ परीक्षा का ये है टाइम टेबल, नतीजे अप्रेल में आएंगे

१०वीं और १२ परीक्षा का ये है टाइम टेबल, नतीजे अप्रेल में आएंगे

Dainik Bhaskar

Dec 21, 2017, 11:21 AM IST
प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।


रायपुर। माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) यानी सीजी बोर्ड की दसवीं की परीक्षा का पहला पर्चा गणित होगा। बारहवीं परीक्षा की शुरुआत पर्यावरण के पर्चे से होगी। पिछले कुछ सालों में परीक्षाओं की शुरुआत या तो प्रथम भाषा जैसे हिंदी, अंग्रेजी, मराठी, उर्दू के साथ हुई, या फिर पर्यावरण के पर्चे से। लेकिन इस बार की समय के साथ-साथ समय सारिणी भी बदली है। ध्यान देने वाली बात है कि सीजी बोर्ड में सबसे ज्यादा स्टूडेंट्स मैथ में ही फेल होते हैं। ऐसे में पहले पर्चे से ही वो हतोत्साहित हो सकते हैं। जानिए क्या है टाइम टेबल...


- दसवीं बोर्ड परीक्षा की शुरुआत पांच मार्च से होगी। पहला पर्चा गणित का होगा।
- आठ मार्च को दूसरा पर्चा प्रथम भाषा विशिष्ट, हिंदी, अंग्रेजी, मराठी, उर्दू का होगा।
- दस मार्च को सामाजिक विज्ञान, 13 मार्च को विज्ञान, 15 को तृतीय भाषा संस्कृत, मराठी, बंगाली, गुजराती, तेलुगू, तमिल, पंजाबी, उर्दू, सिंधी, मलयालम, कन्नड़, उड़िया की परीक्षा होगी।
- १७ को द्वितीय भाषा तृतीय भाषा सामान्य हिंदी, 21 को द्वितीय तृतीय भाषा सामान्य अंग्रेजी का पर्चा होगा।
- २३ को व्यावसायिक पाठ्यक्रम, २६ को सिर्फ दृष्टिहीन छात्रों के लिए संगीत, सिर्फ मूक बधिर छात्रों के लिए ड्राइंग एंड पेंटिंग और २८ मार्च को पर्यावरण केवल तृतीय अवसर के छात्रों के लिए होगा।


१२वीं के पर्चे ७ मार्च से २ अप्रैल तक


- बारहवीं बोर्ड परीक्षा 7 मार्च को पर्यावरण के पर्चे से शुरू होगी। 9 मार्च को प्रथम भाषा विशिष्ट, हिंदी, अंग्रेजी, मराठी, उर्दू का होगा।
- 12 मार्च को द्वितीय भाषा की परीक्षा होगी। 14 को इकोनॉमिक्स, जीव विज्ञान, बुक कीपिंग एंड एकाउंटेंसी, समेत अन्य का पर्चा होगा।
- 16 को भारतीय संगीत, ड्राइंग एंड डिजाइनिंग, डांसिंग, स्टेनो टायपिंग, कृषि, समाजशास्त्र, मनोविज्ञान, होमसाइंस होगा।
- 20 को इतिहास, भौतिकी, एलीमेंटस ऑफ कामर्स एंड मैनेजमेंट समेत अन्य। 22 को कंप्यूटर एप्लीकेशन। 24 को भूगोल। 26 को रिटेल मार्केटिंग मैनेजमेंट की परीक्षा होगी।
- 27 को गणित। 28 को वाणिज्यिक गणित।
- 31 को संस्कृत, संस्कृत विशिष्ट (प्रथम भाषा)। 2 अप्रैल को राजनीति विज्ञान, रसायन शास्त्र, एप्लाइड इकोनॉमिक्स एंड कामर्शियल ज्योग्राफी फिजियोलॉजी एंड फर्स्ट एड समेत अन्य विषय परीक्षा होगी।


वापस मार्च से परीक्षाओं की ये है वजह


- तीन साल तक फरवरी में परीक्षा इसलिए कराई गई थी ताकि नतीजे जल्दी निकलें, लेकिन ये अप्रैल में ही निकले।
- जल्दी परीक्षा का लाभ नहीं मिला, इसलिए दोनों परीक्षाएं पुराने समय यानी मार्च में शुरू कराई जा रही हैं। वर्ष 2015 से लेकर 2017 तक की बोर्ड परीक्षाओं में पहला पर्चा आसान विषय का ही था।
- पिछली बार पहला पर्चा प्रथम भाषा का था। इससे पहले भी पर्यावरण जैसे पर्चे से शुरुआत हुई।
- लेकिन इस बार पहले दिन ही दसवीं के विद्यार्थियों को गणित की परीक्षा देनी होगी। शिक्षकों का कहना है कि बोर्ड एग्जाम को लेकर विद्यार्थी पहले से तनाव में रहते हैं।
- खासकर दसवीं के, क्योंकि उनके लिए यह अलग परीक्षा होती है। इस वजह से आमतौर पर सरल पेपर से इसकी शुरुआत होती रही है।
- इस बार पहले दिन ही गणित का पर्चा रखा गया है, तो परीक्षार्थियों को दिक्कत हो सकती है। हालांकि एक वर्ग का ये भी कहना है कि कठिन पर्चा पहले होने से छात्रों का तनाव कम होगा।

X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..