--Advertisement--

मौत से जूझकर आई इस बच्ची ने यूं मुस्कुरा दिया, हर कोई इसे देखने के लिए है बेचैन

मौत से जूझकर आई इस बच्ची ने यूं मुस्कुरा दिया, हर कोई इसे देखने के लिए है बेचैन

Danik Bhaskar | Feb 02, 2018, 07:27 PM IST
हालत में सुधार होने के बाद यूं हालत में सुधार होने के बाद यूं


भिलाई। जिला अस्पताल दुर्ग परिसर के बुकिंग हाल के पास गंदे बंद बोरे में नवजात रोती हुई मिली। रोने की आवाज सुनकर मौके पर गई मितानिन उषा एवं उसके साथ अस्पताल आने वाली सविता ने उसे आईसीयू में भर्ती कराया। बच्ची जैसे ही गोद में आई उसने रोने की बजाय मुस्कुरा दिया। ये नजारा देख महिलाओं का दिल पसीज गया। उसे देखने और गोद में लेने के लिए भीड़ लग गई। जानिए पूरी कहानी...


- अस्पताल में दवा वितरण काउंटर के सामने बुकिंग हाल का निर्माण चल रहा है।
- दीवार के साथ छत का निर्माण पूरा हो गया है। अभी उसमें दरवाजा वगैरह का काम अधूरा है।
- गुरुवार को दोपहर में करीब ढाई बजे इसी रास्ते मितानिन उषा अपने दोस्त सविता को लेकर अस्पताल से बाहर जा रही थी।
- इसी बीच किसी बच्चे की रोने की आवाज सुनाई दी। आवाज सुनकर दोनों जब मौके पर पहुंची तो बंद बोरे से रोने की आवाज आई।
- दोनों ने जब बोरे का मुंह खोला तो उसमें नवजात बच्ची मिली।


दोनों लेकर पहुंची सीएस के पास


- लावारिश हालत में मिली बच्ची को लेकर मितानिन एवं सविता अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. केके जैन के पास पहुंची।
- डॉ. जैन ने बच्ची का चेकअप करके उसे आईसीयू में भर्ती कराया। अस्पताल चौकी पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है कि आखिर किसने ये बच्ची यहां इस तरह छोड़ दिया।


नए गर्म कपड़े पहने थी बच्ची


- बच्ची को बोरे के बाहर जब निकाला गया तो उसके शरीर पर नया ऊनी स्वेटर और मोजा पहनाया गया था।
- उसे देखने से लग रहा था कि उसे यहां रखने के पहले नया कपड़ा पहनाकर लाया गया था।


सीसीटीवी लगा होता तो चलता पता


- अस्पताल के अंदर सीसीटीवी लगा हुआ है। जबकि परिसर में अभी तक कैमरा नहीं लग पाया है।
- यदि कैमरा लगा होता तो नवजात को यहां लाने वाले का पता आसानी से चल जाता। यहां पहुंचने के दो रास्ते हैं।
- एक सीएमएच आफिस की ओर से तो दूसरा मेन गेट के रास्ते के जरिए ही यहां पहुंचा जा सकता है।


बच्ची की मुस्कुराहट के सभी कायल


- डॉक्टर का कहना है कि ये बच्ची महज 4 दिन की है। 4 दिन की नवजात को बोरे में बंदकर ठंड में छोड़ना उसकी जान से पूरी तरह खेलना है।
- हालांकि ये बच्ची अब सुरक्षित है और इसकी मुस्कुराहट ने सभी दीवाना कर दिया है।
- हास्पिटल में बच्ची को देखने के लिए लोगों की भीड़ लग गई है। यदि इसे परिजन लेने नहीं आए तो मातृ छाया में भेजा जाएगा।


फोटो/वीडियो : यशवंत साहू