Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» Newborn Baby Found In Sack At The Hospital Campus, Bhilai, Chhattisgarh

मौत से जूझकर आई इस बच्ची ने यूं मुस्कुरा दिया, हर कोई इसे देखने के लिए है बेचैन

जिला अस्पताल दुर्ग परिसर के बुकिंग हाल के पास गंदे बंद बोरे में नवजात रोती हुई मिली।

यशवंत साहू | Last Modified - Feb 03, 2018, 12:24 PM IST

    • हालत में सुधार होने के बाद यूं मुस्कुराने लगी बच्ची।


      भिलाई।जिला अस्पताल दुर्ग परिसर के बुकिंग हाल के पास गंदे बंद बोरे में नवजात रोती हुई मिली। रोने की आवाज सुनकर मौके पर गई मितानिन उषा एवं उसके साथ अस्पताल आने वाली सविता ने उसे आईसीयू में भर्ती कराया। बच्ची जैसे ही गोद में आई उसने रोने की बजाय मुस्कुरा दिया। ये नजारा देख महिलाओं का दिल पसीज गया। उसे देखने और गोद में लेने के लिए भीड़ लग गई। जानिए पूरी कहानी...


      - अस्पताल में दवा वितरण काउंटर के सामने बुकिंग हाल का निर्माण चल रहा है।
      - दीवार के साथ छत का निर्माण पूरा हो गया है। अभी उसमें दरवाजा वगैरह का काम अधूरा है।
      - गुरुवार को दोपहर में करीब ढाई बजे इसी रास्ते मितानिन उषा अपने दोस्त सविता को लेकर अस्पताल से बाहर जा रही थी।
      - इसी बीच किसी बच्चे की रोने की आवाज सुनाई दी। आवाज सुनकर दोनों जब मौके पर पहुंची तो बंद बोरे से रोने की आवाज आई।
      - दोनों ने जब बोरे का मुंह खोला तो उसमें नवजात बच्ची मिली।


      दोनों लेकर पहुंची सीएस के पास


      - लावारिश हालत में मिली बच्ची को लेकर मितानिन एवं सविता अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. केके जैन के पास पहुंची।
      - डॉ. जैन ने बच्ची का चेकअप करके उसे आईसीयू में भर्ती कराया। अस्पताल चौकी पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है कि आखिर किसने ये बच्ची यहां इस तरह छोड़ दिया।


      नए गर्म कपड़े पहने थी बच्ची


      - बच्ची को बोरे के बाहर जब निकाला गया तो उसके शरीर पर नया ऊनी स्वेटर और मोजा पहनाया गया था।
      - उसे देखने से लग रहा था कि उसे यहां रखने के पहले नया कपड़ा पहनाकर लाया गया था।


      सीसीटीवी लगा होता तो चलता पता


      - अस्पताल के अंदर सीसीटीवी लगा हुआ है। जबकि परिसर में अभी तक कैमरा नहीं लग पाया है।
      - यदि कैमरा लगा होता तो नवजात को यहां लाने वाले का पता आसानी से चल जाता। यहां पहुंचने के दो रास्ते हैं।
      - एक सीएमएच आफिस की ओर से तो दूसरा मेन गेट के रास्ते के जरिए ही यहां पहुंचा जा सकता है।


      बच्ची की मुस्कुराहट के सभी कायल


      - डॉक्टर का कहना है कि ये बच्ची महज 4 दिन की है। 4 दिन की नवजात को बोरे में बंदकर ठंड में छोड़ना उसकी जान से पूरी तरह खेलना है।
      - हालांकि ये बच्ची अब सुरक्षित है और इसकी मुस्कुराहट ने सभी दीवाना कर दिया है।
      - हास्पिटल में बच्ची को देखने के लिए लोगों की भीड़ लग गई है। यदि इसे परिजन लेने नहीं आए तो मातृ छाया में भेजा जाएगा।


      फोटो/वीडियो : यशवंत साहू

    • मौत से जूझकर आई इस बच्ची ने यूं मुस्कुरा दिया, हर कोई इसे देखने के लिए है बेचैन
      +7और स्लाइड देखें
      नवजात को आईसीयू में भर्ती कराया गया।
    • मौत से जूझकर आई इस बच्ची ने यूं मुस्कुरा दिया, हर कोई इसे देखने के लिए है बेचैन
      +7और स्लाइड देखें
      अब नवजात बच्ची की हालत स्थिर है।
    • मौत से जूझकर आई इस बच्ची ने यूं मुस्कुरा दिया, हर कोई इसे देखने के लिए है बेचैन
      +7और स्लाइड देखें
      बोरे में बंद थी नवजात।
    • मौत से जूझकर आई इस बच्ची ने यूं मुस्कुरा दिया, हर कोई इसे देखने के लिए है बेचैन
      +7और स्लाइड देखें
      अस्पताल में चल रहा है इलाज।
    • मौत से जूझकर आई इस बच्ची ने यूं मुस्कुरा दिया, हर कोई इसे देखने के लिए है बेचैन
      +7और स्लाइड देखें
      अस्पताल कैंपस में यहीं फेंकी गई थी नवजात।
    • मौत से जूझकर आई इस बच्ची ने यूं मुस्कुरा दिया, हर कोई इसे देखने के लिए है बेचैन
      +7और स्लाइड देखें
      इस बोरे में बंद नवजात बच्ची।
    • मौत से जूझकर आई इस बच्ची ने यूं मुस्कुरा दिया, हर कोई इसे देखने के लिए है बेचैन
      +7और स्लाइड देखें
      मौके पर पहुंची पुलिस।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Raipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Newborn Baby Found In Sack At The Hospital Campus, Bhilai, Chhattisgarh
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From News

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×