--Advertisement--

नाले का गंदा पानी पी रहे हैं इस रेलवे स्टेशन के यात्री

नाले का गंदा पानी पी रहे हैं इस रेलवे स्टेशन के यात्री

Danik Bhaskar | Mar 07, 2018, 04:46 PM IST

चिरमिरी। चिरमिरी रेलवे स्टेशन में नाले का गंदा पानी यात्रियों को पिलाया जा रहा है। जबकि एसईसीएल सहित स्थानीय यात्रियों से हर साल करोड़ की आमदनी रेलवे प्रशासन को हो रही है। मामले की शिकायत कई बार की गई, लेकिन अब तक इसका कोई हल नहीं निकाला गया है।


- चिरमिरी रेलवे स्टेशन ने मनेंद्रगढ़ के अधिकारियों को जानकारी दे दी है। वही मनेंद्रगढ़ के अधिकारियों का कहना है कि पानी की जांच हेल्थ इंस्पेक्टर करता है। चिरमिरी में पानी का कोई दूसरा विकल्प और नहीं है।

- जबकि रेलवे चाहे तो नगर निगम से पानी खरीद सकता है, लेकिन इस मामले में संबंधित अधिकारी गंभीर नहीं हैं।
- रेलवे स्टेशन के वाटर फिल्टर की खराब पड़े हैं। जिस पानी को अधिकारी नहाने और कपड़े धोने के लिए इस्तेमाल नहीं करेंगे, उस पानी को यात्रियों को पिलाने के लिए प्लेटफार्म सहित रेलवे की कालोनियों में सप्लाई किया जा रहा है।
- गौरतलब है कि चिरमिरी से हर दिन सैकड़ों मुसाफिर बिलासपुर, कटनी, मैहर, सतना व रीवा के लिए सीधे सफर करते हैं, लेकिन चिरमिरी रेलवे स्टेशन से यात्रा करने वाले यात्रियों को यह नहीं मालूम की रेलवे द्वारा जो पानी उन्हें पिलाया जा रहा है वह पूरी तरह से दूषित और मैला है।

- जब इसकी शिकायत की गई तो दिखावे के लिए रेलवे ने यहां बोर करवा दी, और बोर का पानी सप्लाई किए जाने की बात कही, लेकिन चिरमिरी की भौगोलिक स्थिति ऐसी नहीं है कि यहां बोर संभव हो।

- गंदे नाले के पानी की सप्लाई ही अभी भी की जा रही है।

- मनेंद्रगढ़ रेलवे अधिकारी बीके चौधरी ने बताया कि उनकी हाल ही में पोस्टिंग यहां हुई है। पानी पीने योग्य है या नहीं यह जांचना हेल्थ इंस्पेक्टर का काम है, पुष्टि के बाद ही सप्लाई हो रही है। अगर ऐसा है तो वह मौके पर आकर देखेंगे।
- स्टेशन में साफ पानी की किल्लत से परेशान हो चुके लोगों का कहना है बरसात आते ही नलों से पानी लाल निकलने लगता है, जिसे लोग पी नहीं सकते। पानी से बदबू भी आती है। निगम द्वारा रेलवे कालोनियों में एक नल कनेक्शन दिया गया है, जिसके भरोसे रहवासियों को घंटो इंतजार के बाद पानी भरना पड़ रहा है।

फोटो : अमित पांडेय