--Advertisement--

भाजपा नेता के बर्थडे पार्टी पर पिस्तौल की छीनाझपटी, भांजे की हुई मौत

भाजपा नेता के बर्थडे पार्टी पर पिस्तौल की छीनाझपटी, भांजे की हुई मौत

Danik Bhaskar | Mar 05, 2018, 11:50 AM IST
पुलिस हिरासत में दो आरोपी जो आ पुलिस हिरासत में दो आरोपी जो आ

बिलासपुर। जन्म दिन की पार्टी मनाने के दौरान रविवार की शाम लालखदान चौक में तीन युवकों के बीच पिस्टल की छीनाझपटी में अचानक गोली चल जाने ने एक युवक की मौत हो गई। गोली लगने से घायल युवक को उसके साथी आनन-फानन में अस्पताल लेकर जा रहे थे, लेकिन बीच रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया। घटना तोरवा थाना क्षेत्र की है। पूरे मामले में कार्रवाई सरकंडा थाना की पुलिस कर रही है। मामले में दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।


- तोरवा थाना क्षेत्र के लालखदान निवासी चंद्रप्रकाश सूर्या, जिला अनुसूचित जाति भाजपा मोर्चा उपाध्यक्ष हैं। रविवार को इनका जन्मदिन मनाया जा रहा था।
- जन्मदिन पर अपने दोस्तों को पार्टी देने के लिए बुलाया था। पार्टी में लालखदान निवासी बदमाश बिल्लू श्रीवास 40 वर्ष, रामबचन 42 वर्ष और भाजपा नेता के भांजे और महमंद निवासी दुर्गेश सूर्यवंशी पिता रामाधार 18 वर्ष सहित अन्य युवक भी पार्टी में शामिल थे।
- शाम करीब 7:30 बजे रामबचन ने जेब से पिस्टल को निकाल कर फायर करने के लिए लहराया। इस दौरान बिल्लू श्रीवास व दुर्गेश सूर्यवंशी, रामबचन के हाथ से पिस्टल छीनने की कोशिश करने लगे।
- इसी दौरान पिस्टल से चली गोली दुर्गेश सूर्यवंशी के सीने में लग गई, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। इसके बाद आरोपी रामबचन, बिल्लू श्रीवास सहित अन्य साथी घायल को अस्पताल लेकर जा रहे थे।
- बीच रास्ते में दुर्गेश ने दम तोड़ दिया। घटना के बारे में सरकंडा पुलिस को सूचना मिलते ही दोनों आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया।
पुलिस निगरानी करती तो नहीं होती वारदात
- आरोपी बिल्लू श्रीवास आदतन बदमाश है। तोरवा थाने में मारपीट सहित अन्य मामले में जुर्म दर्ज है। पुलिस आरोपी के खिलाफ कई बार कार्रवाई भी कर चुकी है।
- 4 अगस्त 2004 को लालखदान रेलवे फाटक के पास हुए गोली कांड में आरोपी बिल्लू श्रीवास भी शामिल था। 6 आरोपियों ने मिलकर बस मालिक रविकांत राय की गोली मारकर हत्या कर दी थी।
- पुलिस ने बिल्लू श्रीवास को सह आरोपी बनाया था। हालांकि कोर्ट ने उसे बरी कर दिया था। आदतन बदमाश होने के बावजूद आरोपी पुलिस पुलिस निगरानी में नहीं था। आरोपी द्वारा पिस्टल रखने के बारे में पुलिस को भनक तक नहीं लगी।
- इधरचंद्र प्रकाश सूर्या का कहना है कि घटना के दौरान वे सीपत में थे। इन्हें बाद में फोन से पता चला। इनके घर से १ किमी दूर घटना हुई है। उन लोगों को निमंत्रण नहीं दिया था, न ही वे कार्यक्रम में शामिल थे।

पुलिस हिरासत में आरोपी

- सिविल लाइन सीएसपी नसर सिद्दिकी ने चकमा देकर गुड्डा ठाकुर को बुलाया और पकड़ लिया। फिर उन्होंने अपनी टीम के साथ बिल्लू श्रीवास को भी पकड़ लिया।

- दोनों पुलिस हिरासत में हैं और उनके पास से पिस्टल और कारतूस भी पुलिस ने जब्त कर लिया है।