--Advertisement--

अगस्ता हेलीकॉप्टर मामले में रमन सरकार को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत

अगस्ता हेलीकॉप्टर मामले में रमन सरकार को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2018, 03:34 PM IST
SC dismisses PIL to Probe on Raman Government to in Augusta Helicopter deal


रायपुर। अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर में छत्तीसगढ़ सरकार को सुप्रीम कोर्ट से राहत मिली है। अगस्ता हेलीकॉप्टर खरीदी मामले में भष्ट्राचार को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी। याचिका में एसआईटी जांच की मांग की गई थी। अदालत ने मंगलवार को दिए अपने आदेश में याचिका खारिज कर दी है। जानिए पूरा मामला...


- स्वराज अभियान, नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव और राकेश चौबे की ओर से सुप्रीम कोर्ट में सरकार के खिलाफ याचिका दायर कर अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर में एसआईटी जांच की मांग की गई थी।
- याचिका में कहा गया था कि सरकारी हेलीकॉप्टर खरीदी में भ्रष्टाचार हुआ है और इसमें बड़े पैमाने पर कमीशनखोरी हुई है।

- याचिका में आरोप था कि सीएम के बेटे अभिषेक सिंह इस पूरी डील में शामिल हैं। आरोप था कि 6.3 मिलियन डॉलर के हेलीकॉप्टर खरीदने के छह महीने बाद उन्होंने एक शेल कंपनी बनाई थी।

- इसके अलावा वर्ष 2008 में ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड में अभिषेक सिंह के नाम पर खाता खोला गया था।

- जस्टिस एके गोयल और जस्टिस यूयू ललित की पीठ ने इस संबंध में रमन सरकार से तीखा सवाल किया था।

- रमन सरकार से पूछा गया था कि हेलीकॉप्टर डील में बेटे की इतनी रुचि क्यों थी। कोर्ट ने अभिषेक सिंह के विदेशी खाते के बारे में भी जानकारी मांगी थी।
- इधर सरकार की ओर से आरोपों को खारिज किया गया था और हेलीकॉप्टर संबंधी सारे दस्तावेज शपथ पत्र के साथ कोर्ट में पेश किया गया।

- कोर्ट ने कहा कि हमें ऐसा कोई आधार नहीं मिला है जिससे याचिकाकर्ताओं को राहत दी जा सके।
- कोर्ट ने मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। मंगलवार को अपने आदेश में सर्वोच्च अदालत ने ये फैसला सुनाया है।

कोर्ट ने ये भी सवाल पूछे थे

- पिछली सुनवाई में कोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा था आखिर अगस्ता हेलीकॉप्टर ही खरीदा जाएगा ये फैसला किसने लिया था।

- जब चीफ सेक्रेट्री ने नोट में किसी भी हेलीकॉप्टर की बात लिखी तो फिर अगस्ता के लिए ही टेंडर क्यों जारी हुआ।

सत्य कभी पराजित नहीं होता है

- इस फैसले पर सीमए डॉ. रमन सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि खरीदी पारदर्शी तरीके से खरीदी हुई है।

- राजनैतिक कारणों से इस मुद्दे को उछाला जा रहा था। अाज शिवरात्रि है और आज सत्य की विजय हुई है।

- अब विधानसभा में सरकार के खिलाफ कोई मुद्दे नहीं है विपक्ष के पास इसलिए इस तरह के आरोपों को कोर्ट में ले जाकर बदनाम करने की कोशिश की जा रही है।

- फैसले पर रिएक्शन देते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष धरम लाल कौशिक ने कहा कि आज महाशिवरात्रि के दिन यह फैसला आना सत्य की जीत है और झूठ की राजनीति करने वाले चारो खाने चित हुए हैं।

- एक के बाद एक कांग्रेस का झूठ बेनकाब हो रहा है और सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला अपने आप में बहुत महत्वपूर्ण है जिसने कांग्रेस के गुब्बारे की हवा निकाल दी।

जानिए क्या है अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर डील...

- छत्तीसगढ़ सरकार ने साल 2007 में अगस्ता ए-109 पॉवर हेलिकॉप्टर की खरीदी की थी। इसके बाद सीएजी की रिपोर्ट के बाद मामले में विवाद शुरु हो गया।

- मामले में स्वराज अभियान के नेता और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण भी आगे आ गए और इन्होंने सरकार के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पीआईएल लगा दिया।

- सीएजी के मुताबिक, छत्तीसगढ़ सरकार ने मुख्यमंत्री रमन सिंह की अध्यक्षता में एक नया पावर हेलिकॉप्टर खरीदने के लिए कमेटी का गठन किया था।

- इस कमेटी में डॉ. रमन सिंह के अलावा मुख्य सचिव और मुख्य वित्त सचिव भी शामिल थे। इस कमेटी की सिफारिश पर सरकार ने अगस्ता ए-109 पावर हेलिकॉप्टर बनाने वाली इतालवी कंपनी अगस्ता-वेस्टलैंड से तय कीमत से ज्यादा पैसे चुकाकर हेलीकॉप्टर डील की थी। सरकार ने इसके लिए 65.70 लाख अमरीकी डॉलर की कीमत चुकाई थी।

- इससे पहले झारखंड सरकार ने यही हेलिकॉप्टर 55.91 लाख अमरीकी डॉलर में खरीदे थे।
- छत्तीसगढ़ सरकार को 61.25 लाख डॉलर में यह हेलिकॉप्टर खरीदने के लिए कहा गया था। कुछ महीनों बाद अक्टूबर 2007 में छग सरकार ने 65.70 लाख डॉलर में हेलीकॉप्टर खरीदने का अनुबंध कर लिया था।

X
SC dismisses PIL to Probe on Raman Government to in Augusta Helicopter deal
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..