--Advertisement--

रोती हुई मां को फ्लैट में बंदकर नए घर में चले गए बेटे, चौकीदार की सौंप दी चाबी

रोती हुई मां को फ्लैट में बंदकर नए घर में चले गए बेटे, चौकीदार की सौंप दी चाबी

Dainik Bhaskar

Jan 22, 2018, 02:21 PM IST
80 साल की बीमार मां बंद थी फ्लैट 80 साल की बीमार मां बंद थी फ्लैट


रायपुर। जो मां अपने कलेजे के टुकड़ों के बीमार होने पर रात-रातभर जागती थी और तड़प जाती थी आज वहीं बेटे मां को असहाय हालत में फ्लैट में बंद करके नए घर में चले गए। बंद फ्लैट के भीतर लकवा पीड़ित 80 साल की बुजर्ग को सुबह-शाम खाना पहुंचा जाते थे। जैसे-तैसे बुजुर्ग खाना खा लेती थी। जब रविवार को छोटा बेटा नहीं आया तो रात में बुजुर्ग रोने लगी। सोमवार को सुबह स्थानीय लोगों की मदद से पुलिस को बुलाया गया। तब जाकर बड़ा बेटा आया और उसने मां को साथ ले जाने की बात कही और पुलिस को लिखित में इस बात का भरोसा दिया। जानिए पूरा मामला...

- मामला सरस्वतीनगर थाना इलाके का है। यहां सोमवार को मारुति हाइट्स के दूसरे फ्लोर पर एक महिला की दर्द भरी आवाजें आ रही थीं।

- जब लोगों ने खिड़की से झांककर देखा तो भीतर 80 साल की एक वृद्धा असहाय हालत में बिस्तर पर पड़ी थी।
- सोसाइटी वालों ने समाज सेविका ममता शर्मा को फोन किया और घटना के बारे में बताया।
- ऐसे में समाज सेविका ने पुलिस को फोन किया। पुलिस फ्लैट पर पहुंची तो ताला लगा था। तब पुलिस ने बुजुर्ग के बड़े बेटे को फोन किया।
- बेटे शंकरलाल अग्रवाल ने बताया कि उसने चाबी चौकीदार को दी है। चौकीदार को बुलाकर ताला खोला गया।
- समाज सेविका का आरोप है कि बुजुर्ग ने प्रॉपर्टी का बेटों में बंटवारा कर दिया। प्रॉपर्टी मिलते ही उनके लिए मां का अब कोई वजूद नहीं रहा और वे उसे यहां असहाय छोड़कर चले गए।
- बेटे का कहना है कि सोसाइटी से परेशान होकर उन्होंने मकान बदला है जहां शिफ्टिंग चल रही है। घर व्यवस्थित हो जाने के बाद मां को ले जाने वाले थे।
- इनका कहना है कि ये रोज देखरेख के लिए आते हैं। बेटे शंकरलाल की पत्नी को कैंसर है। उसका कहना है कि वो मां और पत्नी दोनों का इलाज करा रहा है।

- छोटा बेटा रात 10 बजे आता है और सुबह 8 बजे चला जाता है। जब रविवार को वह नहीं आया तो बुजुर्ग महिला रोने लगी थी।

- इधर जब फ्लैट का ताला खोला गया तो महिला के सिरहाने कुछ सूखी रोटियां अखबार में लपेट कर रखी गई थी। वपो कहने लगी कि फेंकिए मत इसे खाउंगी।
- बेटे ने पुलिस को लिखित में दिया कि वो मां की देखरेख करेगा और उसे ले जाएगा। इसके बाद मामला शांत हुआ।

- गार्ड ने भी बताया कि बुजुर्ग का छोटा बेटा शनिवार के बाद से आए ही नहीं जबकि बड़ा बेटा तो कभी कभार आता था।

मारती है बहू

- बुजुर्ग ने बड़ी बहू पर मारपीट का आरोप भी लगाया है। उसने घाव दिखाए और अपना दर्द साझा किया।

- बुजुर्ग का कहना है कि बहू के अत्याचार पर बेटे भी चुप रहते थे।


फोटो : भूपेश केसरवानी

वीडियो : शारदादत्त त्रिपाठी


आगे की स्लाइड्स में क्लिक करके देखिए खबर की और Photos...

X
80 साल की बीमार मां बंद थी फ्लैट 80 साल की बीमार मां बंद थी फ्लैट
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..