--Advertisement--

ये किन्नर दिख रहे हैं इस बदले अंदाज में, पहले ट्रेनों में ताली बजाकर मांगते थे पैसे

ये किन्नर दिख रहे हैं इस बदले अंदाज में, पहले ट्रेनों में ताली बजाकर मांगते थे पैसे

Dainik Bhaskar

Feb 08, 2018, 01:44 PM IST
पुलिस बनकर देश सेवा के लिए जुट पुलिस बनकर देश सेवा के लिए जुट


रायपुर। छत्तीसगढ़ पुलिस के इतिहास में पहली बार ट्रांसजेंडर्स की भर्ती की जाने वाली है। इसके लिए अभी तक राज्य भर से 40 आवेदन आ चुके हैं। किन्नर अब ट्रेनों में तालियां बजाने से लेकर बधाई गीत गाने का काम छोड़ जी जान से भर्ती के लिए जुट गए हैं। अब इन्हें अल सुबह फिजिकल टेस्ट पास करने के लिए वर्क आउट करते हुए देखा जा रहा है। जानिए क्या है भर्ती का प्रोसेस...


- भर्ती संबंधी विज्ञापन के मुताबिक यदि किन्नर महिला वर्ग का फार्म भरते हैं तो उन्हें महिलाओं के मापदंड पूरे करने होंगे।

- वहीं पुरुष कॉलम भरने पर पुरुष अभ्यर्थी के मापदंड पर खरा उतरना होगा।
- इनको गाइड करने के लिए अलग-अलग वर्कशॉप भी आयोजित हो चुकी है। पिछले दिनों पुलिस लाइन में आयोजित वर्कशॉप में एएसपी सुरेशा चौबे ने बताया था कि ट्रांसजेंडर आवेदक थाने आता है तो उस समय थाने में उपस्थित प्रभारी उसे उसी रूप में ट्रीट करेगा जैसे दूसरों को करता है।


अब यूं बदलेगी लाइफ


- मितवा की चेयर पर्सन और थर्ड जेंडर वेलफेयर बोर्ड की मेंबर विद्या राजपूत का कहना है कि पहले ट्रांसजेंडर लोगों के लिए गाली थे। अब यही वर्दी पहन लोगों को सुरक्षा का अहसास देंगे।
- इन्होंने कहा कि तमिलनाडु और राजस्थान में भी उस जॉब को पाने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा था।

- छत्तीसगढ़ ऐसा पहला राज्य बन रहा है जहां भर्ती प्रक्रिया में सीधे ट्रांसजेंडर को शामिल करने की कवायद की जा रही है।
- पहले इस समाज को लोग उपेक्षित नजरों से देखते थे और मजाक उड़ाते थे। ऐसे में मजबूरी वश ट्रांसजेंडर भिक्षावृत्ति और वेश्यावृत्ति करते थे।
- अब इन्हें आम लोगों के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने का मौका दिया जा रहा है।

फोटो : राकेश पांडेय

X
पुलिस बनकर देश सेवा के लिए जुट पुलिस बनकर देश सेवा के लिए जुट
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..