--Advertisement--

पड़ोसन ने ३ बच्चों की मां को यूपी में ले जाकर बेचा, खरीदार ने की जबरदस्ती शादी

पड़ोसन ने ३ बच्चों की मां को यूपी में ले जाकर बेचा, खरीदार ने की जबरदस्ती शादी

Danik Bhaskar | Nov 24, 2017, 06:43 PM IST
तीन बच्चों की मां को पड़ोसन ने ब तीन बच्चों की मां को पड़ोसन ने ब


रायगढ़। दिल्ली में काम दिलाने के बहाने पड़ोसी ने विवाहित महिला को 21 हजार रुपए में उत्तरप्रदेश ले जाकर बेच दिया। खरीदार महिला ने उसकी शादी अपने भाई से करा दी। खरीदार से पति बना युवक महिला को बंद कमरे में रखता था। इसी बीच किसी तरह महिला ने अपने देवर को फोन कर घटना की जानकारी दी, जिसके बाद पुलिस ने मोबाइल लोकेशन ट्रैस कर महिला को कैद से छुड़ाया। जानिए पूरी घटना...


- जूट मिल चौकी पुलिस ने उत्तरप्रदेश के ग्राम केदवाई नगर थाना कबरई जिला महोबा जिले से एक 25 वर्षीय महिला सुनीता (काल्पनिक नाम) को छुड़ाकर लाई है।
- महिला के गुम होने की रिपोर्ट डेढ़ माह से जूट मिल थाने में दर्ज थी। दरअसल 8 नवंबर को महिला अपने घर से लापता हो गई थी।
- महिला के मुताबिक उसे पड़ोसी पदमा महंत पति बिहारी महंत 58 वर्ष निवासी बजरंगपारा काम दिलाने दिल्ली के नाम पर यूपी ले गई।
- उत्तरप्रदेश में ममता ठाकुर ने महिला को 21 हजार रुपए देकर खरीदा और अपने भाई महेश ठाकुर से महिला की शादी करा दी।
- शादी कराने के बाद महिला को बंद कमरे में कैद कर रखते थे। इस बीच महिला ने किसी तरह फोन का जुगाड़ कर 13 नवंबर को देवर को फोन कर घटना की जानकारी दी।
- जिसपर उसके देवर ने जूट मिल चौकी में पहुंच भाभी के फोन आने के बारे में पुलिस को बताया। युवक के बताए गए नंबर से लोकेशन ट्रैस किया गया।
- पुलिस ने जानकारी इकट्ठा की और महिला को ढूंढ़ने यूपी गई। महिला को २० नवंबर को रायगढ़ लाया गया। पुलिस ने खरीदार महिला ममता व उसके भाई महेश पर जुर्म दर्ज किया गया।


शादी के बाद नोटरी से शपथपत्र भी बनवाया


- ममता ठाकुर ने अपने भाई महेश ठाकुर से जबरन सुनीता का विवाह करवाकर, धमकी देकर नोटरी से शपथ-पत्र भी तैयार करवा लिया। ताकि कानूनी रूप से भी वे सुरक्षित रहें।
- इसके बाद जब महिला ने इनकार किया तो उसे एक बंद कमरे में रखा जाता था।


आरोपियों को पकड़ने टीम जाएगी उत्तरप्रदेश


- जूट मिल चौकी प्रभारी के अनुसार महिला की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज की गई थी। इस कारण वे पहले पीड़ित को रायगढ़ लाए।
- अब पीडि़ता के बयान के आधार पर मामले में पुलिस उत्तरप्रदेश आरोपियों को गिरफ्तार करने जाएगी।