Hindi News »Chhattisgarh News »Raipur News »News» Men Walked On Women In The Name Of Faith At Chhattisgarh

महिलाओं पर पैर रखकर चलते रहे पुरुष, आस्था के नाम पर होता रहा ये सब

Ajay Dewangan | Last Modified - Nov 11, 2017, 10:08 AM IST

छत्तीसगढ़ में धमतरी जिले के गंगरेल में अस्था के नाम पर पुरुष द्वारा महिलाओं पर पैर रखकर चलने का मामला सामने आया।
महिलाओं पर पैर रखकर चलते रहे पुरुष, आस्था के नाम पर होता रहा ये सब
रायपुर। छत्तीसगढ़ में धमतरी जिले के गंगरेल में अस्था के नाम पर पुरुष द्वारा महिलाओं पर पैर रखकर चलने का मामला सामने आया। यहां संतान प्राप्ति के लिए महिलाओं ने मां अंगार मोती के दरबार में परण (जमीन पर लेटी महिलाओं पर से पुरुषों का पैर रखकर गुजरना) किया।110 से अधिक महिलाएं पर पैर रखकर गुजरेे पुरुष....

- जिला मुख्यालय से 14 किमी दूर गंगरेल बांध के किनारे मां अंगार मोती विराजित हैं, जिनकी ख्याति दूर-दूर तक फैली हुई है।
- मान्यता के अनुसार दिवाली के बाद आने वाले पहले शुक्रवार को यहां मड़ई मेला आयोजित होती है।
- इसके बाद ही अंचल के अन्य गांवों में मड़ई मेले के आयोजन का सिलसिला शुरु होता है। साल की पहली मड़ई होने के कारण यहां शहर समेत गांवों से भी बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं।
- मड़ई का मुख्य आकर्षण 45 गांवों से पहुंचने वाले देवी-देवता रहते हैं, जिन्हें विधि-विधान के साथ मां अंगार मोती के दरबार में आमंत्रित किया जाता है। इन देवी-देवताओं के साथ आंगा देवता भी आती हैं।
संतान प्राप्ति की कामना की

- मां अंगार मोती मंदिर के मुख्य पुजारी ईश्वर नेताम ने बताया कि गंगरेल में आदिकाल से मड़ई की परंपरा चली आ रही है।
- दिवाली के बाद प्रथम शुक्रवार को इसका आयोजन किया जाता है, इसलिए शुक्रवार का दिन यहां के लिए विशेष होता है।
- इस मड़ई के बाद ही अन्य गांवों में मड़ई का आयोजन होता है। मड़ई के अवसर पर बड़ी संख्या में महिलाएं संतान की कामना लेकर मां अंगार मोती के दरबार में पहुंचती हैं।
- वे कामना पूर्ति के लिए बैगाओं (पुरुष जिनके शरीर में देवता आते है) से आशीर्वाद लेती हैं।
परण में जबर्दस्त आस्था दिखी
- परण में करीब 110 से अधिक महिलाएं शामिल हुई। मंदिर के पुजारी उनसे नारियल, नीबू मंगाते रहे।
- माता के दरबार के सामने लंबी लाईन लगाकर इन महिलाओं को बिठाया गया। मड़ई-मेला में पहुंचे बैगाओं ने डांग, मड़ई, त्रिशूल, संकल, कासड़ आदि के साथ परंपरागत संस्कृति का प्रदर्शन किया। इसके बाद उन्होंने मेला स्थल के तीन चक्कर लगाए और मां अंगार मोती की ओर आने लगे।
- इस दौरान नीबू, नारियल आदि लेकर बैठी महिलाएं बाल खुलाकर पेट के बल लेट गई और करीब आधा दर्जन बैगा अपने डांग-डोरी के साथ महिलाओं के ऊपर से चलते हुए माता के पास पहुंचे।
सुबह से ही आने लगे कई लोग
- मड़ई में सुबह से देवी दर्शन के लिए भक्तों की भी भीड़ उमड़ पड़ी। दोपहर में शहर से होकर आंगा देवता मड़ई स्थल पर पहुंचे।
आगे की स्लाइड्स में देखिए और फोटोज...
फोटो/ वीडियो-Ajay Dewangan
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Raipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: mahilaon par pair rkhkar chalte rahe purus, aasthaa ke naam par hotaa raha ye sab
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×