• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Raipur
  • News
  • Raipur News chhattisgarh news describing himself as an officer in the ministry he gave fake appointment letter to the youth with the name of the trapped job filed the case

मंत्रालय में खुद को अफसर बताकर फांसा नौकरी के नाम पर युवक से आठ लाख लेकर फर्जी नियुक्ति पत्र दिया, केस दर्ज

Raipur News - शिवानंद नगर के जालसाज ने मंत्रालय में बड़े पद पर पदस्थ होने का झूठ बाेला और हथकरघा विभाग में सहायक संचालक की नाैकरी...

Bhaskar News Network

Jul 13, 2019, 07:35 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news describing himself as an officer in the ministry he gave fake appointment letter to the youth with the name of the trapped job filed the case
शिवानंद नगर के जालसाज ने मंत्रालय में बड़े पद पर पदस्थ होने का झूठ बाेला और हथकरघा विभाग में सहायक संचालक की नाैकरी का झांसा देकर कई बेरोजगारों से ठगी कर ली। पांच से आठ लाख तक एक-एक युवक से लेने के बाद वह नियुक्ति पत्र देने के बहाने उन्हें दो-दो, तीन-तीन साल चक्कर कटवाता रहा। बेरोजगार युवकों ने जब दबाव डाला तो फर्जी नियुक्ति पत्र दे दिया। पत्र देकर उन्हें पोस्टिंग के लिए इंतजार करने को कहा। पांच साल इस चक्कर में काट दिए। परेशान होकर एक युवक ने रिपोर्ट दर्ज कराई, तब खुलासा हुआ। आरोपी फरार है। पुलिस शिवानंद नगर में दो बार दबिश दे चुकी है। उसका कोई सुराग नहीं मिला।

पुलिस के अनुसार पीड़ित बेरोजगार संदीप श्रृंगी की आरोपी से मंत्रालय की कैंटीन में मुलाकात हुई थी। उसने खुद को सामान्य प्रशासन विभाग की गोपनीय शाखा का अधिकारी बताकर युवक काे विश्वास में लिया। उसकी बातों के अंदाज देखकर संदीप झांसे में आ गया। उसके बाद आरोपी जब उससे जितने पैसे मांगता रहा, वह उसे देता रहा। संदीप ने ही रिपोर्ट दर्ज कराई है। पुलिस अफसरों का मानना है एक-दो दिनों में और भी पीड़ित सामने आएंगे। अभी तक की पूछताछ में पता चला है कि संदीप 2015 में वह मंत्रालय किसी काम से गया था। वहां उसकी मुलाकात आरोपी हरीशंकर वैद्य से हुई। उसने बताया वह शिवानंद नगर में रहता है। उसने संदीप को बताया कि वह सामान्य प्रशासन विभाग के गोपनीय शाखा में अधिकारी है। उस समय राजस्व निरीक्षक और हॉस्टल अधीक्षक के पद पर भर्ती चल रही थी। बातों बातों में जब संदीप ने नौकरी पानी की इच्छा जाहिर की तो आरोपी ने कहा, ये उसके लिए कोई मुश्किल नहीं है। उसने नौकरी के लिए पांच लाख की मांग की। संदीप को उस पर विश्वास हो गया था। उसने नौकरी पाने की लालच में कर्ज लेकर उसे पैसे दे दिए। पैसे लेने के बाद वह उसे एक साल तक आजकल कहकर घुमाता रहा। उसके बाद अचानक ये कह दिया कि भर्ती प्रक्रिया ही निरस्त कर दी गई है। उसके बाद संदीप ने अपने पैसे मांगे। उसने इसके लिए भी आजकल कहकर घुमाना शुरू कर दिया। 2017 में उसने संदीप से कहा कि सहायक प्रबंधक मार्कफेड और सहायक संचालक हथकरघा समेत अन्य विभाग में भर्ती हो रही है। उसने संदीप को इस बार हथकरघा में नौकरी लगाने का झांसा दिया। मंत्रालय ले जाकर दस्तावेज भी दिखाए। संदीप फिर झांसे में आ गया और उसने तीन लाख और दे दिए। आरोपी ने कहा कि विधानसभा चुनाव के दौरान भर्ती रुक गई है। जल्द ही उसमें भर्ती होगी। इस बार संदीप लगातार दबाव बना रहा था। हर बार अलग-अलग बहाने कर आरोपी उसे टालता रहा। करीब एक साल बाद उसने संदीप को नियुक्ति पत्र दिया। उसके बाद हरीशंकर का फर्जीवाड़ा सामने आया। संदीप ने उससे पैसे मांगे। आरोपी ने उसे गुमराह करना शुरू कर दिया। राखी थाना प्रभारी कल्पना वर्मा ने बताया कि आराेपी की तलाश की जा रही है।



आरोपी ने पीड़ित को अपना नाम हरिशंकर बताया है, इस पर पुलिस को शक है। शिवानंद नगर में हरीशंकर में जहां अपना निवास बताया वहां उसके नाम का काेई नहीं है। पुलिस आरोपी के मोबाइल नंबर की जांच कर रही है। उसके बारे में पतासाजी की जा रही है। अब तक आरोपी का कोई क्लू नहीं मिला है।

आरोपी का दावा-एक दर्जन से ज्यादा की लगाई नौकरी

पुलिस अफसरों का मानना है कि पीड़ितों की संख्या बढ़ सकती है, क्योंकि संदीप ने भी अपने परिचितों को आरोपी से मुलाकात कराई थी। आरोपी ने एक दर्जन से ज्यादा लोगों की नौकरी लगाने का दावा किया था। उसने मंत्रालय के अधिकारियों से अपनी अच्छी पहचान बताई थी। वह अधिकतर लोगों को मंत्रालय में ही मुलाकात करने बुलाता था। ताकि लोग आसानी से उसके झांसे में आ जाएं।

X
Raipur News - chhattisgarh news describing himself as an officer in the ministry he gave fake appointment letter to the youth with the name of the trapped job filed the case
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना