रिपोर्ट साझा न करना गंभीर मामला: त्रिवेदी

Raipur News - रायपुर| एनआईए की जांच रिपोर्ट राज्य सरकार से साझा नहीं करने को गंभीर मामला बताते हुए कांग्रेस महामंत्री शैलेश...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 03:11 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news do not share report serious case trivedi
रायपुर| एनआईए की जांच रिपोर्ट राज्य सरकार से साझा नहीं करने को गंभीर मामला बताते हुए कांग्रेस महामंत्री शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि कांग्रेस ने झीरम नरसंहार में अपने नेतृत्व की एक पूरी पीढ़ी को खोया है। झीरम भाजपा के लिये राजनीति का विषय हो सकता है लेकिन कांग्रेस के लिए राजनीति नहीं वेदना का विषय है। सही जांच के बजाय एनआईए की जांच में रमन सरकार के अधिकारियों ने बाधा डाली। त्रिवेदी ने कहा कि कांग्रेस के प्रदेश नेतृत्व ने पूरी जिम्मेदारी से इस बाधा की बात को उस समय भी उठाया। झीरम में माओवादी हमला ठीक उसी जगह हुआ जहां पर पुलिस सुरक्षा नहीं थी। जांच के लिए बनी न्यायिक जांच आयोग के कार्यक्षेत्र में साजिश की जांच को सम्मिलित ही नहीं किया गया है। दरभा थाने में जो रिपोर्ट दर्ज करायी गयी थी उस पर आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। रमन सरकार ने विधानसभा में घोषणा तो की लेकिन जांच नहीं करवाई। केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकारों के रवैये के कारण मामले की साजिश की समुचित जांच और सीबीआई जांच नहीं हो पाई।

झूठ की खेती करना राहुल का काम: डॉ. रमन

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राफेल विमान सौदे के मद्देनजर कैग की रिपोर्ट संसद में पेश होने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर देश को अपने झूठ की राजनीति से गुमराह करने का आरोप लगाया। डॉ. सिंह ने कहा कि राज्यसभा में बुधवार को पेश कैग की रिपोर्ट मैं मौजूदा राफेल सौदे को पिछले सौदे से बेहतर बताया गया है। सिंह ने राहुल पर शर्मनाक झूठ की राजनीति करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि राहुल रोज इस मामले में देश को एक नया झूठ परोसकर जनता को तो गुमराह कर ही रहे हैं, विदेशों में भी भारत की छवि धूमिल करने की शर्मनाक हरकत भी कर रहे हैं। इसके लिए राहुल गांधी को पूरे देश से बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए। डॉ. सिंह ने कहा कि उन्हें सिर्फ अपना परिवार सही नजर आता है।

मुख्यमंत्री शक का इलाज कराएं: कौशिक

रायपुर| भाजपा ने एनआईए द्वारा प्रकरण वापस करने से इंकार करने पर भूपेश बघेल के शक को बेबुनियाद बताया है। पार्टी ने मुख्यमंत्री को शक की बीमारी का इलाज कराने की सलाह भी दी है। उन्होंने कहा कि ज्यादा खोदने से निकली चुहिया नाक ही काट लेती है। प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि झीरम मामले में दाल में काला ढूंढऩे की माथापच्ची छोड़कर मुख्यमंत्री अपनी ही एसआईटी को उलझाने और प्रदेश को भरमाने से बाज आएं क्योंकि ज्यादा खोदने से निकली चुहिया नाक ही काट लेती है। और, सवाल यह भी है कि आखिर मुख्यमंत्री एनआईए की जांच से क्यों डर रहे हैं? उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार झीरम के नाम पर शोर मचाकर गर्हित राजनीतिक उद्देश्यों को हासिल करने की फिराक में है पर उसका यह मंसूबा कभी परवान नहीं चढ़ेगा। दरअसल शक की बुनियाद तो कांग्रेस- नक्सली रिश्तों पर खड़ी है और उसकी जांच होनी चाहिए। फिर बघेल को शक किस पर है? और वे तो जेब में सबूत लेकर चलते हैं तो अब तक एसआईटी को उन्होंने सबूत सौंपा क्यों नहीं?

X
Raipur News - chhattisgarh news do not share report serious case trivedi
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना