फिल्टर प्लांट अब 25 फीसदी और बड़ा, इससे राजधानी के साढ़े 3 लाख घरों को नदी का मीठा पानी

Raipur News - रावणभाठा फिल्टर प्लांट का एक्सटेंशन। सिटी रिपोर्टर | रायपुर राजधानी के लगभग ढाई लाख घरों तक पहुंचाया जा रहा...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 03:25 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news filtration plant now 25 and bigger it will provide water to the river39s 35 million households
रावणभाठा फिल्टर प्लांट का एक्सटेंशन।

सिटी रिपोर्टर | रायपुर

राजधानी के लगभग ढाई लाख घरों तक पहुंचाया जा रहा खारुन नदी का पानी अभी जिस फिल्टर प्लांट से साफ किया जा रहा है, उसकी क्षमता जल्दी ही 25 फीसदी और बढ़ जाएगी। अभी निगम के फिल्टर प्लांट की क्षमता 275 मिलियन लीटर डेली (एमएलडी) है। इसके बगल में ही 80 एमएलडी क्षमता के फिल्टर प्लांट का आधे से ज्यादा सिविल वर्क पूरा कर लिया जाएगा।

हालांकि अफसरों का मानना है कि इस प्लांट के पूरा होने के बाद भी आने वाली गर्मी में बढ़ी हुई पानी सप्लाई नहीं की जा सकेगी। इसे बनाने के बाद दो-तीन माह तक टेस्टिंग होगी। ऐसे में यह इस साल के अंत तक ही काम शुरू कर पाएगा। भास्कर टीम फिल्टर प्लांट के एक्सटेंशन स्थल तक गई, जहां सिविल वर्क चल रहा है। अफसरों ने बताया कि इसके 11 कंपोनेंट में से पांच पूरे हो चुके हैं। जल्दी ही बाकी कंपोनेंट पूरे कर लिए जाएंगे। इसके बाद प्लांट चालू होने में दो-तीन महीने और लगेंगे। इस साल अंत तक नया फिल्टर प्लांट और प्लांट में आटोमेशन सिस्टम शुरू हो जाएगा। गौरतलब है, निगम के फिल्टर प्लांट की क्षमता अभी 275 एमएलडी है। सामान्य दिनों में शहर में 210 से 220 एमएलडी पानी की खपत होती है।





गर्मी के दिनों में यह 260-270 एमएलडी तक पहुंच जाती है। तीनों फिल्टर प्लांट (45, 80, 150) में से किसी भी एक में तकनीकी खराबी आने पर शहर में वाटर सप्लाई की दिक्कत आने लगती है। इसीलिए रावणभाठा परिसर में ही 80 एमएलडी फिल्टर प्लांट बनाया गया है। इसमें 24 नए पंप लगाए जाएंगे। इन सबकी लागत 12.36 करोड़ है।

आउटर में सात नई टंकियां भी

फिल्टर प्लांट के एक्सटेंशन के साथ ही शहर में सात नई पानी टंकिया बनाने का काम चल रहा है। रामनगर और श्याम नगर में दो पानी टंकियां बनकर तैयार हो चुकी हैं। देवपुरी, अमलीडीह, जोरा, बोरियाखुर्द सहित पांच जगहों पर टंकियां बनाई जानी है। इन क्षेत्रों में अभी निगम यानी खारुन नहीं का मीठा पानी नहीं पहुंच रहा है और लोग बोर के पानी पर निर्भर हैं।


सप्लाई के लिए कंट्रोल रूम

फिल्टर प्लांट में वाटर सप्लाई आटोमेशन के तहत 9.43 करोड़ की लागत से कंट्रोल रूम और स्कॉडा तकनीक से वाटर सप्लाई की मानिटरिंग के लिए सिस्टम भी तैयार किया जाएगा। फिल्टर प्लांट से पानी निकलने के बाद ओवरहैड टैंक से होते लोगों के घरों तक पहुंचने वाले पानी की पूरी निगरानी कंट्रोल रूम से होगी। कहीं पर लीकेज हो या पानी की चोरी तो यह तत्काल पकड़ी जा सकेगी।

X
Raipur News - chhattisgarh news filtration plant now 25 and bigger it will provide water to the river39s 35 million households
COMMENT