पर्चा संस्कृत का, प्रश्न पूछे सोशल साइंस के कागज बचाने टाइप कराया, इसलिए गड़बड़ी

Raipur News - मंगलवार को कक्षा 6वीं की संस्कृत विषय के पर्चे में बड़ी गड़बड़ी सामने आई। संस्कृत के कुल 100 अंक के पर्चे में ज्यादातर...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 07:30 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news form of sanskrit ask questions to save the paper of social science so disturbances
मंगलवार को कक्षा 6वीं की संस्कृत विषय के पर्चे में बड़ी गड़बड़ी सामने आई। संस्कृत के कुल 100 अंक के पर्चे में ज्यादातर प्रश्न सोशल साइंस (सामाजिक विज्ञान) के पूछे गए। इनमें से कुछ प्रश्न रिपीट भी थे, जो सोशल साइंस में पूछे जा चुके थे। परीक्षा के दौरान पर्चा देखकर परीक्षार्थियों के चेहरे की हवाइयां उड़ गई। पड़ताल से पता चला कि ये गड़बड़ी जिला शिक्षा विभाग से हुई है। एससीईआरटी रायपुर (राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद) से राज्यभर के स्कूलों में कक्षा 6वीं की परीक्षा लेने प्रश्नपत्र तैयार हुआ था। प्रश्न पत्रों की सीडी जिला शिक्षा अधिकारियों को भेजी गई थी। लेकिन जिला स्तर पर सीडी से सीधे प्रश्न पत्रों की प्रिंटिंग न करा के कागज बचाने के लिए दोबारा टाइप कराया। इसी लापरवाही में प्रश्न रिपीट हुए और बच्चे मुसीबत में पड़ गए।

संस्कृत पर्चे में पूछा; भारत की जलवायु में क्षेत्रीय विविधता क्यों पाई जाती है?

मंगलवार 16 जनवरी को कक्षा 6वीं की संस्कृत विषय की परीक्षा ली गई। पर्चे में 24 अंक के लिए भारत की जलवायु में क्षेत्रीय विविधता क्यों पाई जाती है? पहाड़ी और मैदानी क्षेत्रों में दिए गए बिंदुओं के आधार पर अंतर बताओ? नदी-तालाब में जल प्रदूषण रोकने के उपाय जैसे सोशल साइंस के प्रश्न पूछे गए थे।


शिक्षा सचिव ने माना; प्रश्न पत्रों में गलती हुई, बच्चों को मिलेंगे बोनस अंक

राजधानी रायपुर में मंगलवार को प्रमुख सचिव ने राज्य स्तरीय आकलन परीक्षा की समीक्षा की। उन्होंने माना कि प्रश्न पत्रों में गलती हुई है। इसे लेकर कुछ जिलों में जांच भी बैठा दी है। साथ ही बोनस अंक देने की स्वीकृति दी है। दिक्कत ये है कि अलग-अलग जिलों में अलग- अलग प्रश्न गलत हैं। ऐसे में हर जिले के लिए जिले से गलत प्रश्नों का हिसाब रख कर उसके अनुसार बोनस देने के लिए एक सीट बनाकर प्रश्नों और विषय वार संख्या एनआईसी में देनी होगी। ताकि वे एंट्री करते समय उन जिलों को उन प्रश्नों पर बोनस अंक दे सकें।



ये भी तय हुआ कि अगली बार से सभी प्रश्न पत्र राज्य स्तर से आएंगे। जिलों से दिए गए सुझाव अनुसार एस ए 1 को भी राज्य स्तर से लिया जाएगा, ताकि शत-प्रतिशत लर्निंग आउटकम पर बच्चों की उपलब्धि की जांच हो सके।

X
Raipur News - chhattisgarh news form of sanskrit ask questions to save the paper of social science so disturbances
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना