एम्स की ट्रामा बिल्डिंग में शुरू हाेगा ट्रामा सेंटर, सभी स्टाफ होंगे अलग

Raipur News - रायपुर | अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स में ट्रामा बिल्डिंग में ट्रामा सेंटर शुरू करने की योजना है। इसमें...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:25 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news haga trauma center in trams building in aiims all staff will be different
रायपुर | अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स में ट्रामा बिल्डिंग में ट्रामा सेंटर शुरू करने की योजना है। इसमें सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल व अचानक बीमार पड़े लोगों को 24 घंटे भर्ती किया जाएगा। यहां न्यूरो सर्जन, ऑर्थोपीडिक सर्जन से लेकर जरूरी डॉक्टर इसी विभाग के रहेंगे। ये एम्स के दूसरे विभागों के डॉक्टर नहीं रहेंगे। प्रबंधन का दावा है कि नई दिल्ली स्थित एम्स की तर्ज पर ट्रामा सेंटर को विकसित किया जाएगा। एम्स की ट्रामा बिल्डिंग सबसे पहले बनी थी। यहां ओपीडी से लेकर वार्ड, पैथालॉजी लैब व एक्सरे उपलब्ध रहा है।





अब अलग-अलग विंग में ओपीडी से लेकर वार्ड शिफ्ट हो चुका है। दरअसल अंबेडकर अस्पताल को छोड़कर सरकारी क्षेत्र में ट्रामा सेंटर नहीं है। एम्स, डीकेएस व जिला अस्पताल में सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल लोगों को भर्ती करने की सुविधा नहीं है। इसलिए ट्रामा में आने वाले मरीजों का पूरा दबाव अंबेडकर व दूसरे निजी अस्पतालों पर है। ऐसे में एम्स व डीकेएस में ट्रामा सेंटर खोलना जरूरी हो गया है। एम्स में वर्तमान में ट्रामा एंड इमरजेंसी विभाग में तीन डॉक्टर हैं। इसमें एक पीडियाट्रिशियन, एनीस्थीसिस्ट व जनरल सर्जन सेवाएं दे रहे हैं। हालांकि ट्रामा में पीडियाट्रिशियन की सेवाएं कम ही देखने काे मिलती हैं। अधिकारियों का कहना है कि एम्स नई दिल्ली की तर्ज पर ट्रामा सेंटर को विकसित करने का फायदा होगा। डॉक्टर से लेकर सभी स्टाफ यहां के होंगे तो दूसरे विभाग प्रभावित नहीं होंगे। हालांकि अंबेडकर अस्पताल के ट्रामा सेंटर में संबंधित विभाग के डॉक्टर आकर गंभीर मरीजों का इलाज करते हैं। नई दिल्ली एम्स में ट्रामा सेंटर अस्पताल का एक अलग विंग है। इससे मरीजों को काफी फायदा होता है।

X
Raipur News - chhattisgarh news haga trauma center in trams building in aiims all staff will be different
COMMENT