हावर्ड गार्डनर की मल्टीपल इंटेलीजेंस थ्योरी से सही करियर चुनने किया गाइड

Raipur News - दैनिक भास्कर की ओर से आयोजित दो दिवसीय एजुकेशन एंड करियर फेयर के अंतिम दिन सैकड़ों स्टूडेंट्स को एक्सपर्ट्स ने सही...

Jun 10, 2019, 07:30 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news howard gardner39s guide to choosing the right career from multiple intelligence theory
दैनिक भास्कर की ओर से आयोजित दो दिवसीय एजुकेशन एंड करियर फेयर के अंतिम दिन सैकड़ों स्टूडेंट्स को एक्सपर्ट्स ने सही करियर चुनने में मदद की। फेयर में शामिल राज्य की टॉप यूनिवर्सिटीज, कॉलेजेस और कोचिंग सेंटर्स की टीम ने बेस्ट काेर्स, स्कॉलरशिप स्कीम, एडमिशन फीस में मिलने वाली छूट, फीस जमा करने के लिए स्टॉलमेंट की सुविधा और कैंपस प्लेसमेंट से संबंधित जानकारी दी। 10वीं और 12वीं के ऐसे स्टूडेंट्स जिन्होंने 80 से ज्यादा परसेंट हासिल किए हैं, उन्हें कार्यक्रम में सम्मानित किया गया। डॉ. योगिता यश रावत ने स्टूडेंट्स की काउंसिलिंग की।

सायकोमैट्रिक टेस्ट के जरिए एक्सपर्ट डॉ. अजीत वरवंडकर और डॉ. वर्षा वरवंडकर ने साइंटिफिक तरीके से स्टूडेंट्स को करियर ऑप्शन सलेक्ट करने में गाइड किया। डॉ. अजीत ने बताया कि सायकोमैट्रिक टेस्ट अमेरिका के मशहूर लेखक और चिंतक हावर्ड गार्डनर की मल्टीपल इंटेलीजेंस थ्योरी पर बेस्ड है। गार्डनर ने 1943 में अपनी पुस्तक 'थ्योरी ऑफ मल्टीपल इंटेलीजेंस' में लिखा है कि हर व्यक्ति में आठ तरह के इंटेलीजेंस होते हैं, जो कि एक साथ काम करते हैं, लेकिन वे सभी गुण एक समान नहीं होते। कुछ गुण कम होते हैं तो कुछ ज्यादा। बच्चे का जो इंटेलीजेंस लेवल सबसे ज्यादा है अगर वो उसी में करियर बनाए तो सक्सेस होने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है। मसलन, अगर कोई बच्चा लिंग्विस्टिक इंटेलीजेंस यानी भाषा में बेहतर है तो वो राइटर, ऑथर, जर्नलिस्ट, क्रिएटिव राइटिंग जैसी फील्ड में करियर बना सकता है। डॉ. अजीत ने इंटेलीजेंस लेवल परखने के लिए स्टूडेंट्स का माय अगला कदम डॉट कॉम वेबसाइट के जरिए ऑनलाइन टेस्ट लिया। 10 मिनट में 80 क्वेश्चन सॉल्व करने का टास्क दिया। इसकी रिपोर्ट और काउंसिलिंग के जरिए उन्हें करियर सलेक्ट करने गाइड किया।

जाॅब ओरिएंटेड कोर्स जरूरी: समापन समारोह के चीफ गेस्ट मंत्री शिव डहरिया ने कहा, जॉब ओरिएंटेड और सेल्फ डिपेंड बनाने वाले कोर्स की पढ़ाई जरूरी हैं। इससे बेरोजगारी दूर होगी। कार्यक्रम में दैनिक भास्कर के स्टेट बिजनेस हेड देवेश सिंह और रायपुर यूनिट हेड अभिक सूर मौजूदरहे ।

कार्यक्रम में शामिल मंत्री शिव डहरिया ने विजिट किए स्टॉल्स।

गार्डनर की थ्योरी से प्रेरित इन 8 इंटेलीजेंस से परखें खुद को

1. लॉजिकल मैथमेटिकल इंटेलीजेंस: इसके तहत बच्चे का मैथमेटिक्स, नंबर वर्क, कैलकुलेशन, पजल्स, लॉजिकल पावर आदि में इंट्रेस्ट देखा जाता है। यदि बच्चा इनमें परफेक्ट है तो उसे साइंटिस्ट, डिटेक्टिव, सीए, ऑडिटर, एडवोकेट जैसी फील्ड में करियर बनाने की सलाह दी जाती है।

2. किंस्थेटिक इंटेलीजेंस: इसके तहत ऐसे बच्चे आते हैं जो अपनी बॉडी के साथ स्ट्राॅन्ग मूवमेंट करने में माहिर होते हैं। आमतौर पर डांसिंग, जंपिंग, रनिंग, एक्सरसाइज आदि में इंट्रेस्ट लेते हैं। ऐसे बच्चे डांस, ड्रामा, फिजिकली एक्टिविटी, एक्टिंग, स्पोर्ट्स जैसी फील्ड में करियर बना सकते हैं।

3. लिंग्विस्टिक इंटेलीजेंस : ऐसे बच्चे जिनकी भाषा, शब्दों और व्याकरण पर अच्छी पकड़ होती है वो इस श्रेणी में आते हैं। ऐसे बच्चे राइटिंग, वर्ड गेम, क्रॉस-वर्ड, वर्ग पहेली आदि में ज्यादा एक्टिव होते हैं। ऐसे बच्चे राइटर, ऑथर, जर्नलिस्ट बन सकते हैं।

4. म्यूजिकल इंटलीजेंस : ऐसे बच्चे जो संगीत प्रेमी हो या संगीत से संबंधित कार्यों जैसे गायन, वादन आदि में इंट्रेस्ट लेते हों, उन्हें उसी क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहिए। ऐसे बच्चे सिंगर, म्यूजिशियन, एक्टर, कोरियोग्रॉफर, साउंड इंजीनियर या आरजे बन सकते हैं।

5. नेचरलिस्टिक इंटेलीजेंस : जिन बच्चों की प्रकृति से जुड़‍ी बातें, घटनाएं और जानकारियाें में खास इंट्रेस्ट होता है वो जियोग्राफर, बर्ड वॉचर, एग्रीकल्चर एक्सपर्ट, वाइल्ड लाइफ, लैंड स्केपिंग, माइनिंग इंजीनियर बन सकते हैं।

6. स्पैटियल इंटेलीजेंस : ऐसे बच्चे जिनमें इमेजिनेशन पावर और विजुलाइजेशन की क्षमता बहुत अधिक होती है। ऐसे बच्चे इंटीरियर डेकोरेशन, वीडियो ग्राफी, मूवी मेकिंग, डिजाइनिंग, सर्वेयर, ग्राफिक डिजाइनर, फोटोग्राफर या आर्किटेक्ट बन सकते हैं।

7. इंट्रा पर्सनल इंटेलीजेंस- ऐसा बच्चा जो पूरी तरह अपनी भावनाओं को समझता हो, उसी के अनुरूप काम करता हो। इमोशनल स्ट्रॉन्ग हो। ऐसे बच्चे साइकोलाॅजिकल, काउंसलर, चार्टर्ड एकाउंटेंट, नर्स या पर्सनल केयर या टीचर कंसल्टेंट बन सकते हैं।

8. इंटर पर्सनल इंटेलीजेंस- ऐसा व्यक्ति जो दूसरे के इमोशन को समझकर अपने को वैसा ही प्रस्तुत कर सके वो टीचर, ट्रेनर सेल्स, मार्केटिंग, एडमिनिस्ट्रेशन, सीएसआर, सोशल वर्क, पब्लिक वेलफेयर जैसी फील्ड में करियर बना सकता है।

येे रहे फेयर के पार्टिसिपेंट्स

एजुकेशन फेयर की मेन स्पॉन्सर कलिंगा यूनिवर्सिटी आैर पावर्ड बाय पारुल यूनिवर्सिटी रही। इसके अलावा मैट्स यूनिवर्सिटी, एमिटी यूनिवर्सिटी, श्री रावतपुरा ग्रुप, आकाश इंस्टीट्यूट, एसवी एजुकेशनल एकेडमी, फर्स्टमैन एजुकेशन, द ग्रेट इंडिया स्कूल, टैली ब्रेन्स, भारती एजुकेशन, मैक एनिमेशन, एकेडमी ऑफ फैशन एंड आर्ट्स, एरिना एनिमेशन, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ कंप्यूटर टेक्नोलॉजी, एस्थैटिक इंस्टीट्यूट भी पार्टिसिपेंट्स रहे।

Raipur News - chhattisgarh news howard gardner39s guide to choosing the right career from multiple intelligence theory
X
Raipur News - chhattisgarh news howard gardner39s guide to choosing the right career from multiple intelligence theory
Raipur News - chhattisgarh news howard gardner39s guide to choosing the right career from multiple intelligence theory

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना