जैकेट व पेज 1 के शेष

Raipur News - कैशबैक: एक साल में 10 हजार करोड़ बंटे, 7 साल और मिलेगा नीति आयोग की रिपोर्ट बताती है कि सरकार ने कैशबैक-बोनस में 495 करोड़...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:35 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news jackets and the rest of page 1
कैशबैक: एक साल में 10 हजार करोड़ बंटे, 7 साल और मिलेगा

नीति आयोग की रिपोर्ट बताती है कि सरकार ने कैशबैक-बोनस में 495 करोड़ रु. बांटने की योजना बनाई है। पेटीएम ने पिछले साल फेस्टिव सीजन में 501 करोड़ रु. का बजट कैशबैक के लिए रखा था। डिजिटल पेमेंट्स के लीडर्स में से एक पेटीएम के प्रवक्ता ने भी बताया कि कैशबैक ग्राहकों को जोड़ने में मदद करता है। अगर ग्राहक लंबे समय तक जुड़ता है तो कैशबैक देना हमारे लिए भी फायदेमंद सिद्ध होता है। पेटीएम फिलहाल अपने प्लेटफॉर्म पर 200 से ज्यादा सेवाएं दे रहा है और इसपर पिछले एक साल में 5.5 अरब ट्रांजेक्शन हुए हैं। हालांकि गूगल पे में प्रोडक्ट मैनेजमेंट के निदेशक अंबरीश केंघे का मानना है कि कैशबैक के बल पर ग्राहकों को बनाए नहीं रख सकते। गूगल पे को ज्यादातर लाभ रेफरल से मिल रहा है। अंबरीश यह भी कहते हैं कि कैशबैक से ज्यादा से ज्यादा यूजर्स यूपीआई पेमेंट और एप के माध्यम से बैंक-टु-बैंक ट्रांसफर अपनाने के लिए प्रेरित होते हैं।

देश में ई-कॉमर्स मार्केट में भी इजाफा होने से डिजिटल पेमेंट बढ़ेंगे। फोन पे एप के प्रवक्ता का भी मानना है कि भारत में डिजिटल पेमेंट का ट्रेंड अभी शुरुआती दौर में ही है। नीति आयोग की रिपोर्ट भी बताती है कि 2023 तक देश में डिजिटल पेमेंट का मार्केट 1 ट्रिलियन डॉलर का हो जाएगा। इसमें मोबाइल पेमेंट की हिस्सेदारी 13 लाख करोड़ से ज्यादा की हो जाएगी। फोन पे पर फिलहाल 15 करोड़ यूजर्स हैं और इसपर 29 करोड़ ट्रांजेक्शन हो चुके हैं।

कंपनियां क्यों देती हैं कैशबैक?: नवीन सूर्या बताते हैं कि कैशबैक देने से जितने ज्यादा ग्राहक कंपनियों से जुड़ते हैं, कंपनीज की ब्रैंड वेल्यू उतनी ही ज्यादा बढ़ती है। इसका फायदा उन्हें उनके दूसरे बिजनेस और सर्विसेस में मिलता है। दरअसल ज्यादातर कंपनियों के लिए कैशबैक उनके मार्केटिंग बजट का ही हिस्सा होता है। एक बार ग्राहक संख्या बढ़ने के बाद कंपनियां धीरे-धीरे कैशबैक देना कम भी कर देती हैं।

कैशबैक के खतरे भी हैं : कैशबैक के जरिये फ्रॉड की आशंका भी रहती है। इसी साल मई में पेटीएम के चेयरमैन विजय शेखर शर्मा ने बताया था कि छोटे व्यापारियों द्वारा कैशबैक फ्रॉड करने से कंपनी को 10 करोड़ का नुकसान हुआ था। कैशबैक के लालच में आम यूजर नकली ऑफर्स का शिकार भी हो सकते हैं। आईएमचीटेड डॉट कॉम के सीईओ सी.एस. सुधीर के मुताबिक अगर किसी ऑफर के साथ उसके स्पष्ट नियम व शर्तें न दी हों तो उसके नकली होने की आशंका है। ऑफर देने वाली एप व वेबसाइट की खराब डिजाइन, उसकी भाषा-व्याकरण में गलतियां, डाउनलोड करने पर बहुत कम साइज और परमिशन की मांग को देखते हुए तय किया जा सकता है कि वेबसाइट या एप नकली है या नहीं। आमतौर पर कैशबैक के लालच में लोग अपनी सभी जानकारियां दे देते हैं, जिससे धोखाधड़ी का खतरा बढ़ जाता है। सुधीर बताते हैं कि वेबसाइट की लिंक HTTPS से शुरुआत होनी चाहिए। ‘S’ का मतलब सुरक्षित होता है और ऐसी वेबसाइट पर पेमेंट सुरक्षित रहते हैं।

अल्पसंख्यकों के साथ हो रही मॉब लिंचिंग से भरोसा डगमगाता है

नुसरत ने मॉब लिंचिग और पश्चिम बंगाल के माहोल पर खुलकर अपनी बात रखी-


-कुछ भी असंभव नहीं है। राजनीति मेरी जिम्मेदारी है। इसे हर हाल में पूरा करना होगा, फिल्में मेरा जुनून हैं। वो अपने लिए करती हूं। अपना घर हर इंसान को संभालना पड़ता है, यह दायित्व होता है।जिस चीज की ज्यादा जरूरत होगी, उसे अधिक समय दिया जाएगा। मैं शादी के लिए इस्तांबुल गई थी। मुझे पश्चिम बंगाल में मेरे संसदीय क्षेत्र बसीरहाट की हिंसा की जानकारी मिली तो मैंने विधायकों से फोन पर बात की।


-बंगाल में लोग जाति-धर्म से ऊपर की सोच रखते हैं। दुर्गा पूजा और ईद साथ मनाते हैं। जिस दिन रामनवमी यात्रा निकलती है, उसी दिन मोहर्रम की ताजिया निकलती हैं।

सवाल- चुनाव के समय दीदी ने नरेन्द्र मोदी और अमित शाह को गुंडा तक कहा? क्या यह ठीक था या राजनीति में चलता है?

-बड़े लोग एक दूसरे को कोसते हैं, इस पर मैं ध्यान नहीं देती हूं। मैंने अभी तक इस तरह के आरोप प्रत्यारोप नहीं लगाए हैं। ऐसा आगे भी नहीं करूंगी।


- मैंने कभी इस तरफ ध्यान नहीं दिया। वे लोकतांत्रिक देश के मुखिया हैं। इसलिए सभी धर्म को बराबर अहमियत देना चाहिए। उन्होंने कहा भी है कि सभी को साथ लेकर चलेंगे। हां, मौजूदा समय में अल्पसंख्यकों पर मॉब लिंचिंग हो रही है, उससे भरोसा डगमगाता है।


- मेरे खिलााफ कोई फतवा जारी नहीं हुआ। वे सोच रहे थे कि जारी करेंगे लेकिन शायद उनकी सोच बदल गई। रही बात ताकत की तो खुद की लड़ाई खुद ही लड़नी पड़ती है। मेरे नाम का मतलब है फतह, और फतह करने के लिए लड़ाई लड़नी पड़ती है। मेरा धर्म कोई मुझसे छीन नहीं सकता है। मैं मुस्लिम हूं और अंत तक मुस्लिम ही रहूंगी। अगर मैंने हिन्दू से शादी की है तो इसमें कोई हर्ज नहीं है। मैं हिन्दू समेत सभी धर्मों का सम्मान करती हूं।

स्मार्ट गैजेट: ऑडियो-वीडियो रिकॉर्डिंग ही नहीं हार्ट फेल भी करवा सकते हैं हैकर्स

2018 में 7 अरब आईओटी डिवाइसेज थीं। इन डिवाइसेज में आईओटी शामिल हैं, इनमें स्मार्टफोन, टैबलेट, लैपटॉप और फिक्स्ड लाइन फोन शामिल नहीं हैं। मैकिंसे ग्लोबल इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट के अनुसार इस समय दुनियाभर में हर सेकंड 127 नई आईओटी डिवाइस इंटरनेट से कनेक्ट होती है।

इससे कैसे बचें-

- 1. स्मार्ट टीवी देखते समय जो भी नोटिफिकेशन्स आए उसे बिना पढ़े ओके न करें।

2. अधिकतर स्मार्ट टीवी निर्माता टीवी में ऑटोमेटिक कंटेंट रिकग्निशन का सॉफ्टवेयर डाल कर रखते है, जो देखे गए कंटेंट का डेटा टीवी निर्माता या एप्लीकेशन ओनर को भेजता है। इसलिए बिना सोचे-समझे एसीआर को इजाजत न दें।

3. स्मार्ट टीवी के एप को नियमित रूप से अपडेट करें।

4. उसी ब्रैंड का स्मार्ट टीवी ख़रीदें, जो नियमित रूप से सॉफ्टवेयर अपडेट और सिक्योरिटी अपडेट देता हो।

5. पेन ड्राइव या मेमोरी कार्ड स्मार्ट टीवी में लगाने से पहले हमेशा वायरस स्कैन करें।

6. स्मार्ट टीवी के इंस्टालेशन के समय प्राइवेसी पालिसी को समझें।

7. आईओटी होम डिवाइस में रिमोट एक्सेस हमेशा बंद रखें।

8. वायरलेस राऊटर में गेस्ट लॉगिन अलग से रखें या स्मार्ट होम डिवाइस के लिए अलग से इंटरनेट नेटवर्क रखे। वाई-फाई पासवर्ड मुश्किल और अपडेट रखें। स्मार्ट होम डिवाइस के लिए अलग ई-मेल आईडी का इस्तेमाल करें।

9. स्मार्ट होम डिवाइस का माइक्रोफोन और कैमरा इस्तेमाल न होने पर बंद रखें। यदि आपको लगता है कि कैमरा बंद नहीं है तो नॉन ट्रांसपेरेंट टेप को कैमरे पर चिपका दें।

10. स्मार्ट डिवाइस में वायरस स्कैनिंग का विकल्प है तो स्कैनिंग करते रहनी चाहिए।

11. कोई भी अनजान या संदेहास्पद लिंक क्लिक न करें और फोल्डर डाउनलोड न करंे।

इन केसों ने बताया कि इसकी चिंता जरूर कीजिए-




खर्च बचाने के लिए रोबोट खींच रहे विमान, स्लिम एयरहोस्टेस, कालीन भी किए हल्के

देश में टैक्सीबोट की शुरुआत जेट और स्पाइसजेट ने की थी। मौजूदा समय में स्पाइसजेट इसका प्रयोग कर रहा है। एयर एशिया, इंडिगो और एयर इंडिया एक्सप्रेस कंपनियों के एयरक्राफ्ट ने ट्रायल पूरे कर लिए हैं। वहीं एयर इंडिया, गो एयरवेज और विस्तारा ने ट्रायल के लिए डीजीसीए से अनुमति मांगी है।

2. छोटे विमानों में कम वजन की एयर होस्टेस रख रहें

एटीआर श्रेणी के यानी छोटे एयरक्राॅफ्ट में कम वजन की एयर होस्टेस तैनात की जा रही हैं। ताकि फ्यूल बचाया जा रहा है। एयरक्राॅफ्ट में जिनता कम वजन होगा, लैंडिंग और टेकआॅफ में फ्यूल की खपत उतनी ही कम होती है। यही वजह है कि 40 से 70 सीटों वाले एयरक्राॅफ्ट में तैनात होने वाली एयर होस्टेज की लंबाई में भी छूट दी गई है। सामान्य रूप से एयरहोस्टेज की न्यूनतम लंबाई 155 सेमी. होनी चाहिए, लेकिन इन विमानों के लिए न्यूनतम लंबाई 155 सेमी. रखी गई है। यही वजह है कि इसके लिए नार्थ ईस्ट की युवतियों को प्राथमिता दी जाती है। गो एयर ने तो वर्ष 2013 में ही क्रू मेंबर्स की नियुक्ति में सिर्फ महिलाओं को लेने की बात कही थी।

3. ग्रीन इनीशिएट में अतिरिक्त फ्यूल भरना कम किया

आपात स्थिति को देखते हुए सामान्य तौर पर एयरक्राॅफ्ट जरूरत से 20 फीसदी तक अधिक फ्यूल भर कर उड़ान भरते हैं। लेकिन अब एयरक्राफ्ट उनता ही फ्यूल लेकर उड़ते हैं, जितने कि जरूरत हो। ग्रीन इनीशिएट के बारे में बताते हुए एयर इंडिया के प्रवक्ता धनंजय कुमार उदाहरण देते हैं कि एयर इंडिया की फ्लाइट दिल्ली से हैदराबाद पहुंचने पर टीम एटीसी से रिपोर्ट लेती है कि अगले डेढ़ घंटे तक (दिल्ली पहुंचने का समय) दिल्ली के रूट का मौसम कैसे रहेगा, हवा की कितनी स्पीड कितनी रहेगी, लैंडिग के समय मौसम कैसा रहेगा, मौसम कहां कहां खराब मिल सकता है। अगर सभी रिपोर्ट सामान्य मिलती है तो ही एयरक्राॅफ्ट दिल्ली वापस आएगा, अन्यथा थोड़ा इंतजार कर लेता है। 777 विमान में फ्यूल कम होने पर 4 टन विमान का कुल वजन कम होता है। इसके अलावा उड़ान के दौरान एयरक्राफ्ट माइनस तापमान से गुजरता है, अगर फ्यूल टैंक में अधिक होगा तो बर्बाद भी ज्यादा होता है।

4. नियो एयरक्राफ्ट के इस्तेमाल से भी फ्यूल की बचत

नियो एयरक्राॅफ्ट से 15 फीसदी तक फ्यूल की बचत होती है। इसलिए कंपनियां धीरे-धीरे नियो इंजन वाले एयरक्राफ्ट को भी शामिल कर रही हैं। इंडिगो के प्रवक्ता के अनुसार कंपनी ने सभी एयरबसों पर नियो इंजन का इस्तेमाल शुरू किया है। विस्तारा भी इनका इस्तेमाल कर रही हैं। पिछले करीब दो साल से देश में इसका इस्तेमाल शुरू हुआ है।

5. वजन कम करने के लिए हल्के कारपेट बिछवाए

एयर एशिया के पीआरओ रोहित ने बताया की हमने कॉकपिट में होने वाली कागज़ी कार्रवाई को पेपरलेस कर दिया गया है। कॉकपिट का सारा काम आईपैड से कर दिया है। इसके अलावा एयरक्राफ्ट में कारपेट या कालीन का वजन भी अधिक रहता था, इसलिए इसे बदलवा कर हल्के कारपेट बिछवाए गए हैं।

------------

कर्नाटक में 5 और बागी विधायक सुप्रीम कोर्ट पहुंचे; बंगाल में टूट-फूट के संकेत

भाजपा में गए टीएमसी के 10 पार्षद वापस पार्टी में लाैटे

बंगाल में टूट-फूट के संकेतों के बीच टीएमसी छाेड़कर भाजपा में गए 10 पार्षद फिर से टीएमसी में वापस अा गए हैं। टीएमसी सांसद अभिषेक बनर्जी ने शनिवार को यह जानकारी दी। बनर्जी ने भाजपा पर पार्षदाें काे धमकी देकर पार्टी में शामिल किए जाने का अाराेप भी लगाया। बनर्जी ने कहा कि रॉय अपने इलाके के पार्षदों को सुरक्षित नहीं कर पा रहे हैं। वे पहले 107 विधायकों को भाजपा में शामिल किए जाने की बात कर रहे हैं, जबकि फिर वह कहेंगे कि कुल 294 विधायक भाजपा में अा रहे हैं।

सरदेसाई बाेले- पर्रिकर की विरासत का निधन हुअा

गोवा में बर्खास्त किए गए उपमुख्यमंत्री विजय सरदेसाई ने कहा कि कांग्रेस विधायकाें काे भाजपा में शामिल करने के साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री मनाेहर पर्रिकर की विरासत का निधन हाे गया। पर्रिकर दाे बार मरे हैं। 17 मार्च काे उनके शरीर का निधन हुअा था। लेकिन अाज उनकी राजनीतिक विरासत का भी निधन हाे गया। भाजपा सरकार से समर्थन वापसी की घाेषणा करते हुए उन्हाेंने कहा, “मैंने पर्रिकर काे दिए वचन के चलते सावंत सरकार काे समर्थन दिया था, लेकिन अब लगता है कि एनडीए ने हमें धाेखा दिया।’

मानसून फिर अटका इसलिए 6 दिन से नहीं हुई बारिश, 17 तक अासार भी नहीं

एक द्रोणिका है, जो काफी कमजोर है। सिर्फ इसी के असर से थोड़ी नमी अा रही है। इससे छुटपुट बारिश हो रही है।

12 जिलों में सामान्य, 12 में कम बारिश : राज्य के 27 में से 12 जिलों में सामान्य बारिश हो चुकी है। नार्मल से 19 फीसदी तक कम या अधिक को सामान्य माना जाता है। दूसरी तरफ इतने ही जिले यानी 12 जिलों में 20 से 59 फीसदी तक कम बारिश हुई है। सिर्फ तीन जिले बीजापुर, कोंडागांव व धमतरी में ही एक्सेस बारिश हुई है। मौसम विभाग के रिकार्ड के मुताबिक 1 जून से अब 13 जुलाई तक राज्यभर में 306.6 मिलीमीटर बारिश हो चुकी है। इस दौरान नार्मल बारिश 343.9 मिमी है।

यहां हुई नार्मल बारिश : प्रदेश के 12 जिलों में नार्मल बारिश हुई है। मौसम विभाग में सामान्य से 19 फीसदी तक कम या अधिक बारिश को नार्मल माना जाता है। 12 जिलों में बलरामपुर, बस्तर, बिलासपुर, दंतेवाड़ा, गरियाबंद, जांजगीर, कांकेर, कोरिया, महासमुंद, नारायणपुर, सुकमा सूरजपुर शामिल है।

यहां एक्सेस

बीजापुर - 436.6 मिमी - 21 प्रतिशत अधिक

धमतरी - 395.7 मिमी - 27 प्रतिशत अधिक

कोंडागांव - 538.7 मिमी - 57 प्रतिशत अधिक

यहां हुई कम

सरगुजा - 198.9 मिमी - 51 प्रतिशत कम

रायपुर - 203.1 मिमी - 36 प्रतिशत कम

राजनांदगांव - 188.4 मिमी - 36 प्रतिशत कम

कुएं में मिले दो बच्चों के शव, परिजन बोले- दिन में आरोपी ने दी थी अनर्थ की धमकी

अंतिम कॉल अनिल ने दोपहर को किया और धमकी दी कि यदि बात नहीं कराई तो परिवार के साथ अच्छा नहीं होगा, फिर भी बात नहीं हुई। जिसके बाद शाम 7:30 बजे घर के सामने खेल रही देवा की बेटी नेहा (7) व किराएदार नारायण चौहान का बेटा आकाश (6) लापता हो गए। परिजन ने दोनों की खोज शुरू की। रात 10:30 बजे बस्ती से कुछ दूर स्थित कुएं में नेहा की चप्पल तैरती दिखी। डूबने की आशंका के साथ लोगों ने कुएं में बच्चों की ढूंढना शुरू किया तो बच्चों के शव उसमें मिल गए और बाहर निकाल लिए हए। परिजन ने अनिल पर हत्या का शक जताया है।

दुर्ग व नांदगांव में घोड़े, गधे और खच्चर बैन, 2 घोड़ों को मारा गया

जिन तीन घोड़ों में ग्लैंडर्स के वायरस मिले हैं, उनसे जुड़े लोगों की भी जांच कराई जा रही है, जिससे उन लोगों में संक्रमण का पता चल सके। पशुपालन विभाग के सर्जन डॉ. अमित जैन ने बताया कि ग्लैंडर्स वायरस जानवरों से मनुष्यों में फैलते हैं। हालांकि ये बर्ड फ्लू या निपाह वायरस की तरह खतरनाक नहीं हैं। वर्ल्ड ऑर्गनाइजेशन ऑफ एनीमल हेल्थ की गाइडलाइन के मुताबिक घोड़ों को मारकर साइंटिफिक प्रोसेस से दफना दिया गया है। साथ ही, दुर्ग व राजनांदगांव को नियंत्रित क्षेत्र घोषित किया गया है।

अादि गाेदरेज ने चेताया - बढ़ती हिंसा और असहिष्णुता से विकास दर काे खतरा

यह स्थिति विकास की रफ्तार काे गंभीर नुकसान पहुंचा सकती है और हमें अपनी क्षमताएं पहचानने से रोक सकती है। देश में जाति-धर्म को लेकर हिंसा, महिलाअाें के खिलाफ हिंसा और दूसरे तरह की असहिष्णुता बढ़ रही है। यह सामाजिक समरसता के लिए अच्छी बात नहीं। उन्हाेंने कहा कि देश में बेराेजगारी दर 6.1% है। यह 4 दशक में सबसे ज्यादा है। यह हालात जल्द से जल्द काबू करने जरूरी हैं।

नारायण मूर्ति बाेले- देश के हालात पर युवाअाें काे खुलकर बाेलना हाेगा: इंफाेसिस के सह संस्थापक नारायण मूर्ति ने शनिवार काे कहा कि देश के विभिन्न हिस्साें में हाे रही घटनाअाें पर युवाअाें काे खुलकर बाेलना हाेगा। उन्हें कहना हाेगा कि यह वह देश नहीं है, जिसके लिए हमारे पूर्वजाें ने अाजादी हासिल की थी। इंफाेसिस के पहले नाॅन प्रमाेटर सीईअाे विशाल सिक्का के साथ अपने टकराव की अाेर इशारा करते हुए उन्हाेंने कहा- जब मैंने देखा कि इंफाेसिस के बुनियादी मूल्य कूड़ेदान में फेंके जा रहे हैं, तब मुझे बाेलना पड़ा था। सिक्का ने 2017 में इस्तीफा दे दिया था। सेंट जेवियर्स के कार्यक्रम में मूर्ति ने कहा, “एग्जीक्यूटिव के काम काे लेकर मैंने सार्वजनिक ताैर पर एक भी शब्द नहीं कहा है। लेकिन जब अाप देखते हैं कि 33 साल पुराने मूल्य कूड़ेदान में फेंके जाते हैं ताे अापकाे उठकर गुस्सा दिखाना हाेता है। नहीं ताे हम उन गलतियाें काे जारी हाेते रहने देंगे। 2014 में सीईअाे (सिक्का) का वेतन 55% बढ़ा। सीअाेअाे का वेतन 30% बढ़ा। मिडिल लेवल पर काम करने वाले किसी व्यक्ति का वेतन नहीं बढ़ा। सिक्याेरिटी गार्ड्स काे वेतन वृद्धि या अाेवरटाइम के बिना एक दिन ज्यादा काम करने काे कहा गया। यह मूल्याें का घाेर उल्लंघन है।’

लॉर्ड्स के 41% टिकट भारतीय फैंस ने खरीदेे थे, अब उसे 54 गुना तक महंगे बेच रहे; 25 हजार का टिकट 13 लाख रुपए में मिल रहा

अब फैंस असली कीमत से कई गुना महंगे टिकट रीसेल कर रहे हैं। आईसीसी की आॅफिशियल टिकट सेलिंग साइट पर फाइनल के टिकट की कीमत 8 हजार से 35 हजार रु. के बीच है। लेकिन टिकटों की कालाबाजारी के कारण अनऑफिशियल साइट पर इतनी कीमत के टिकट 83 हजार से 3 लाख रुपए तक में मिल रहे हैं। कुछ फैंस तो टिकट इतने महंगे बेच रहे हैं कि 25 हजार की कीमत वाला टिकट लगभग 13 लाख रुपए तक में मिल रहा है। यानी असली कीमत से 54 गुना तक ज्यादा। आईसीसी ने फैंस से कहा है कि अनऑफिशियल वेबसाइट से खरीदे टिकट रद्द किए जा सकते हैं। आईसीसी फाइनल के 200 टिकट और बेचेेगी।

फेसबुक पर 35 हजार करोड़ का जुर्माना, अब तक का सबसे ज्यादा

जुर्माने की घाेषणा के बाद 1.8% चढ़े शेयर: फेसबुक और एफटीसी दोनों ने इस मामले में किसी तरह की टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। हालांकि, कहा जा रहा है कि कंपनी इसके लिए तैयार थी। उसने तीन से पांच अरब डाॅलर के जुर्माने का अनुमान लगाया था। माना जा रहा है कि इस जुर्माने से फेसबुक पर काेई ज्यादा असर नहीं हाेगा। कंपनी ने पिछले साल रेवेन्यू में 56 अरब डॉलर का निवेश किया था और इस साल 69 अरब डॉलर निवेश करने की संभावना है। इस साल पहली तिमाही में उसे 15.1 अरब डाॅलर का मुनाफा हुअा है। जुर्माने की घाेषणा के बाद फेसबुक के शेयराें की कीमत 1.8% बढ़कर 205 डाॅलर पहुंच गई। यह साल का सबसे ऊंचा अांकड़ा है।

X
Raipur News - chhattisgarh news jackets and the rest of page 1
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना