--Advertisement--

आउटर में 8 हजार मकानों के बरसों से रुके नक्शे अब पास होंगे, सभी टीडीएस रद्द करने की तैयारी

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 03:25 AM IST

Raipur News - छोटे प्लाट की रजिस्ट्री खोलने के बाद अब राजधानी के आउटर में डेवलपमेंट के लिए 2008 में शुरू की गईं सभी टाउन डेवलपमेंट...

Raipur News - chhattisgarh news maps that have stopped for 8 thousand houses in outer will now pass preparing to cancel all tds
छोटे प्लाट की रजिस्ट्री खोलने के बाद अब राजधानी के आउटर में डेवलपमेंट के लिए 2008 में शुरू की गईं सभी टाउन डेवलपमेंट स्कीम (टीडीएस) रद्द करने की तैयारी है। प्रशासन ने राजधानी में शामिल तथा घने बसे इन इलाकों को 8 अलग-अलग टाउन डेवलपमेंट स्कीम में बांटकर इन्हें मास्टर प्लान के हिसाब से डेवलप करने का प्लान बनाया था, जो अब तक सफल नहीं हो पाया। अलबत्ता टीडीएस की वजह से वहां किसी भी निर्माण के नक्शे पास होना बंद हो गए। नतीजा, इन इलाकों में 8 हजार से ज्यादा मकान ऐसे बन गए हैं या काम चल रहा है, जिनके नक्शे ही पास नहीं हैं। इन मकानों पर लोगों ने जीवनभर की पूंजी लगाई, लेकिन नक्शे पास नहीं हैं इसलिए एक भी वैध नहीं है। इसलिए शासन ने सभी टीडीएस रद्द करने की तैयारी कर ली है, ताकि यहां लोगों के नक्शे पास हों और उनके मकान वैध हो सकें।

राजधानी में टाउन डेवलपमेंट स्कीम की नाकामी का हाल ये है कि केवल टीडीएस-4 यानी कमल विहार और टीडीएस-1 यानी रायपुरा और इंद्रप्रस्थ पर ही काम हो सका। बाकी सभी स्कीम फाइलों में बंद हैं, लेकिन इनके लोग परेशान हैं क्योंकि इनका एरिया नोटिफाई होने से सभी संबंधित इलाकों में टाउन प्लानिंग ने अघोषित तौर पर नक्शे और लेआउट पास करने पर रोक लगा रखी है। यहां जमीन की खरीदी-बिक्री हो रही है। लेकिन नक्शों पर रोक के कारण जमीन का नामांतरण और डायवर्सन भी नहीं हो सका है।

सभी नगर विकास योजनाएं और उनके घेरे में फंसे इलाके

टी़डीएस-1 : टाटीबंध, सरोना व रायपुरा - 1500 एकड़। इंद्रप्रस्थ फेज-1 और फेज-2 तथा रायपुरा में हुआ काम।

टीडीएस-2 : भाटागांव, चंगोराभाठा, मठपुरैना - लगभग 1900 एकड़। नोटिफाइड नहीं फिर भी नक्शों पर बैन।

टीडीएस-3 : मठपुरैना, बोरियाखुर्द और डूंडा - लगभग 2000 एकड़। यहां भी विकास नहीं पर नक्शे प्रतिबंधित।

टीडीएस-4 : बोरियाखुर्द, टिकरापारा, डूंडा, देवपुरी, डूमरतराई - 2300 एकड़। 600 एकड़ में कमल विहार बना।

टीडीएस-5 : देवपुरी, डूमरतराई, फुण्डहर, अमलीडीह- 2300 एकड़। अंतिम नोटिफिकेशन बाकी, नक्शों पर बैन।

टीडीएस-6 : लाभांडी, जोरा, तेलीबांधा व शंकर नगर- लगभग 1100 एकड़ - नोटिफाइड नहीं हुई, नक्शे प्रतिबंधित।

टीडीएस-7 : मोवा, दलदल सिवनी व सड्डू- लगभग 1200 एकड़ - नोटिफाइड नहीं हुई

टीडीएस-8 : कचना, पिरदा व सकरी- लगभग 1865 एकड़ - नोटिफाइड नहीं हुई

सुप्रीम कोर्ट के आॅर्डर के बाद पीछे हटी सरकार

सुप्रीम कोर्ट में आरडीए व राजेंद्र शंकर शुक्ल के केस पर चार बिंदुओं पर आरडीए के खिलाफ फैसला आ गया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल ने कमल विहार को इनवायरमेंट क्लीयरेंस नहीं दिया है। यह भी कहा कि आरडीए मास्टर प्लान के हिसाब से टाउन डेवलप कर सकता है, प्लाटिंग नहीं कर सकता। सुप्रीम कोर्ट के याचिकाकर्ताओं को जमीन लौटाने के आदेश के आरडीए व आवास एवं पर्यावरण विभाग दोनों ही बैकफुट पर आ गए। इसीलिए बाकी टीडीएस खतरे में आ गए हैं।

नक्शा पास नहीं होने से यह दिक्कतें झेल रहे लोग







X
Raipur News - chhattisgarh news maps that have stopped for 8 thousand houses in outer will now pass preparing to cancel all tds
Astrology

Recommended

Click to listen..