पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Raipur News Chhattisgarh News No Raipur Candidate Has Withdrawn Rs1 Lakh From The Bank Outright Now Look At Accounts Of Relatives

रायपुर के किसी प्रत्याशी ने बैंक से एकमुश्त 1 लाख नहीं निकाले अब रिश्तेदारों के खातों पर नजर

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रायपुर। रायपुर लोकसभा चुनाव के किसी भी प्रत्याशी ने अब तक अपने खाते से एक मुश्त एक लाख निकालकर किसी भी तरह का चुनावी खर्च नहीं किया है। उम्मीदवार 40-45 हजार या 50-55 हजार जितनी रकम ही एक मुश्त निकाल रहे हैं। 70 लाख तक खर्च की लिमिट के बावजूद इतने कम पैसे निकालने से सभी जांच के घेरे में आ गए हैं। आयोग ने चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों के साथ-साथ उनके रिश्तेदारों और संबंधित पार्टी के खाते से ट्रांजेक्शन की जानकारी बैंकों से मांगी है। इसके अलावा आयोग ने ऐसे खातों की भी जानकारी बैंकों से मांगी है जो पिछले कुछ महीनों से बंद या निष्क्रिय थे और अब अचानक उनमें बड़े ट्रांजेक्शन शुरू हो गए।

आयोग के अफसरों का शक इस वजह से भी बढ़ा है कि चुनाव प्रचार पीक पर है। मतदान के लिए कुछ ही बाकी रह गए हैं। ऐसी दशा में अब तक किसी भी प्रत्याशी की ओर से बड़ी रकम प्रचार के लिए नहीं निकाली गई है। आशंका है कि प्रत्याशी अपने खर्च की लिमिट सुरक्षित रखने के लिए कहीं अपने रिश्तेदारों या करीबियों अथवा पार्टी के खाते से पैसे लेकर उसे तो चुनावी प्रचार में खर्च नहीं कर रहे हैं। बैंक खातों की मॉनीटरिंग और उसकी समीक्षा से इस बारे में स्थिति स्पष्ट हो जाएगी और चुनावी खर्च को लेकर गड़बड़ी करने वालों का पता चल जाएगा।

क्या है आयोग का निर्देश

केंद्रीय निर्वाचन आयोग के व्यय प्रेक्षकों ने 66 बैंकों के अफसरों से कहा है कि वे चुनाव से प्रत्यक्ष रूप से जुड़े सभी लोगों के उन लेन-देन की जानकारी दें जिनमें एक लाख या उससे ज्यादा की रकम निकाली या किसी और खाते में ट्रांसफर की गई है। केंद्रीय व्यय प्रेक्षक कुमार अजीत और जाधवर विवेकानंद राजेंद्र ने बैंक अधिकारियों से कहा कि वे वित्तीय लेन-देन की मॉनिटरिंग दो तरीकों से करें। पहला एक से 10 लाख और दूसरा 10 लाख रुपए से ज्यादा के लेन-देन के रिकार्ड चेक करें। इस तरह के ट्रांजेक्शन में किसी भी तरह का शक होता है या ये लेन-देन संदिग्ध लगते हैं तो इसकी जानकारी आयोग को दें।

नगद लेन-देन के साथ बैंकों में मनी ट्रांसफर, आरटीजीएस, अकाउंट ट्रांसफर आदि ऑनलाइन तरीकों से भी किए गए ट्रांजेक्शन की निगरानी के निर्देश दिए गए हैं। इस तरह की कोई भी जानकारी देने के लिए कलेक्टोरेट परिसर में कंट्रोल रूम भी बनाया गया है। बैंक अफसर या कोई अन्य व्यक्ति भी संदिग्ध चुनावी खर्चों की जानकारी कंट्रोल रूम के फोन नंबर 0771-2435444 पर दे सकता है।

इस तरह के खातों की भी जांच शुरू

किसी एक बैंक खाते में अचानक आरटीजीएस से रकम डाली जा रही हो या फिर प्रत्याशी अथवा उनके रिश्तेदारों के खाते में कहीं से भी ज्यादा रकम ट्रांसफर की जा रही है या फिर किसी राजनीतिक दल के खाते में एक लाख या इससे ज्यादा रकम डाली गई हो तो उसकी भी जानकारी मांगी गई है। इन खातों में 10 लाख रुपए से ज्यादा का लेन-देन होने पर इसकी जानकारी आयकर विभाग को भी देने कहा गया है।

हर दिन देनी होगी जानकारी

बैंकों को हर दिन बताना होगा कि उनकी शाखाओं से कितने लोगों ने एक लाख रुपए या उससे ज्यादा का ट्रांजेक्शन देना है। बैंक अफसर अभी तक हर दिन रिपोर्ट देने के बजाय अपनी सुविधा से रिपोर्ट भेज रहे थे। बैंकों के इस सिस्टम से आयोग के अफसर नाराज हैं। उन्होंने बैंक अफसरों से कहा है कि वे 16 से 24 अप्रैल तक जितने भी वित्तीय लेन-देन हो रहे हैं उसकी जानकारी हर दिन सुबह आयोग को भेज दें। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही नहीं करने को कहा गया है। अफसरों का मानना है कि पैसों के ट्रांजेक्शन की जानकारी रोज होने से समीक्षा करने में सहूलियत होगी।

बैंक खाते से ही करना है चुनावी खर्च

लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए सभी उम्मीदवारों को बैंकों में नया खाता खोलना अनिवार्य है। चुनावी खर्चे इसी खाते से किए जाने का नियम है। आयोग को जो रिपोर्ट मिली है उसमें अभी तक एक भी उम्मीदवार ने अपने खातों से एक लाख से ज्यादा का ट्रांजेक्शन नहीं किया है। सभी उम्मीदवार अपने चुनावी खर्चों के ब्यौरे में इससे कम ही की जानकारी दे रहे हैं। बैंकों ने भी अभी तक एक भी संदिग्ध ट्रांजेक्शन नहीं पकड़ा है। लगभग सभी बैंक अपनी रिपोर्ट में संदिग्ध लेन-देन के कॉलम में निरंक लिखकर भेज रहे हैं।



इसलिए अब इस पर सख्ती की जा रही है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन परिवार व बच्चों के साथ समय व्यतीत करने का है। साथ ही शॉपिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत होगा। आपके व्यक्तित्व संबंधी कुछ सकारात्मक बातें लोगों के सामने आएंगी। जिसके ...

और पढ़ें