विज्ञापन

अब आयोग में अटका आध्यात्मिक यूनिवर्सिटी का सर्टिफिकेट कोर्स, फिर नई तारीख- मार्च से

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 03:12 AM IST

Raipur News - कम्युनिटी रिपोर्टर | रायपुर योग-विज्ञान समेत 54 पाठ्यक्रमों वाले देव संस्कृति विश्वविद्यालय को डेढ़ साल पहले ही...

Raipur News - chhattisgarh news now the certified course of the spiritual university of the spirit then from the new date march
  • comment
कम्युनिटी रिपोर्टर | रायपुर

योग-विज्ञान समेत 54 पाठ्यक्रमों वाले देव संस्कृति विश्वविद्यालय को डेढ़ साल पहले ही राज्य सरकार और शांतिकुंज हरिद्वार से हरी झंडी मिल चुकी है। अब तक विश्वविद्यालय का संचालन शिक्षा नियामक आयोग में कागजी कार्रवाई पूरी नहीं होने पाने की वजह से रुका हुआ है। 3 माह पहले दावा किया गया था कि सर्टिफिकेट कोर्स जनवरी 2019 से शुरू कर दिए जाएंगे, लेकिन फरवरी आधा बीतने के बाद भी कोर्स शुरू नहीं किए जा सके हैं। दूसरी तरफ, कोर्स में रुचि रखने वाले छात्र-छात्राएं लगातार विश्वविद्यालय प्रबंधन और गायत्री परिजनों से एडमिशन की पूछताछ करने पहुंच रहे हैं।

दरअसल, देव संस्कृति विश्वविद्यालय के संचालन को लेकर हरिद्वार से सारी प्रक्रियाएं पूरी कर ली गईं हैं। डेढ़ साल के भीतर कई बार विश्वविद्यालय में एडमिशन शुरू करने की बात कही जा चुकी है। पिछले शैक्षणिक सत्र में एडमिशन शुरू भी कर दिए गए थे, लेकिन तब भी कागजी कार्रवाई के नाम पर अचानक एडमिशन रोक दिए गए। तब जनवरी से सर्टिफिकेट कोर्स शुरू करने देने की बात कही गई, लेकिन अब फिर नियामक आयोग में कागजी कार्रवाई पूरी नहीं होने के नाम पर कोर्स शुरू नहीं किए गए। बता दें कि गायत्री परिवार ने प्रदेशभर के प्रज्ञापीठों में सर्टिफिकेट कोर्स शुरू करने की तैयारियां पूरी कर ली हैं। फिलहाल 30 से ज्यादा जगहों पर इसके तहत छात्र-छात्राओं को कोचिंग देने की योजना बनाई गई है। विश्वविद्यालय से जुड़े गायत्री परिवार के पदाधिकारियों का कहना है कि मंजूरी मिलते ही एडमिशन के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया जाएगा।

चिन्मय पण्ड्या पहुंचे राजधानी, हुआ स्वागत

इस बीच बुधवार शाम देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति चिन्मय पण्ड्या राजधानी पहुंचे। एयरपोर्ट पर राज्यसभा सांसद छाया वर्मा समेत गायत्री शक्तिपीठ के ट्रस्टियों और परिजनों ने उनका स्वागत किया। पण्ड्या सीधे अकलतरा के लिए रवाना हो गए हैं। वे वहां आयोजित 108 कुंडीय गायत्री महायज्ञ में शामिल होंगे। एयरपोर्ट में गायत्री परिवार ट्रस्ट के मुख्य प्रबंध ट्रस्टी श्याम बैस, ट्रस्टी सचिव सदाशिव हथमल, ट्रस्टी आदर्श वर्मा, ट्रस्टी दीनानाथ शर्मा मौजूद रहे।

बिल्डिंग बनकर तैयार, सारी व्यवस्थाएं पूरी, लगा है ताला

कुम्हारी के सांकरा में यूनिवर्सिटी के लिए बिल्डिंग बनकर तैयार है। प्रशासनिक अकादमी और छात्र-छात्राओं के लिए क्लास को मिलाकर इस भवन में 54 कमरे हैं। कैंपस में छात्रावास भी बनाया गया है। छात्रावास में फिलहाल 100 स्टूडेंट्स को रखने की व्यवस्था की जा चुकी है। इस तरह विश्वविद्यालय के संचालन को लेकर सारी व्यवस्थाएं पूरी कर ली गई हैं, लेकिन अब तक भवन में ताला लगा हुआ है।

प्रदेश में गायत्री परिवार के 400 मंदिर, यहीं से बना रहे सेटअप

गायत्री परिवार के शक्तिपीठों और प्रज्ञापीठों को मिलाकर प्रदेश में लगभग 400 मंदिर हैं। लाखों फॉलोअर भी हैं। सर्टिफिकेट कोर्स इन्हीं शक्तिपीठों और प्रज्ञापीठों में शुरू किए जाएंगे। कोर्स करने वाले छात्र-छात्राओं को विषय विशेषज्ञों द्वारा यहां रोज कोचिंग दी जाएगी। फिलहाल सर्टिफिकेट कोर्स प्रदेश के सभी 28 जिलों में केंद्र खोलने की तैयारी है। इसके बाद जरूरत के हिसाब से ब्लॉक स्तर पर भी इन्हें शुरू किया जाएगा।

धर्म-अध्यात्म की शिक्षा साथ मिलेगा रोजगार भी

विवि में छात्र-छात्राओं को धर्म और अध्यात्म के साथ रोजगार देने वाली पढ़ाई कराई जाएगी। रसायन, भौतिकी और गणित के साथ छात्र आयुर्वेद, गो पालन समेत आधुनिक तकनीक वीडियो फिक्शन आदि की पढ़ाई कर सकेंगे। इससे उन्हें पढ़कर निकलने के बाद रोजगार के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। वे खुद का कारोबार कर सकेंगेे। यहां छात्र-छात्राएं सूचना और प्रौद्योगिकी, थ्री-डी, विज्ञान तकनीक, एनिमेशन, सामान्य पाठ्यक्रमों के साथ-साथ योग, धर्मशास्त्र, भारतीय दर्शन, वेद-पुराण, व्यक्तित्व विकास तथा सभ्यता संस्कृति की पढ़ाई करेंगे।

बस्तर, सरगुजा से शांतिकुंज गए लोगों की बनाई जाएगी फैकल्टी

शांतिकुंज में बहुत से लोग छत्तीसगढ़ से भी हैं, जो वहां आध्यात्म और शिक्षा के क्षेत्र में काम कर रहे हैं। इनमें बस्तर और सरगुजा संभाग के कई लोग शामिल हैं। हाल ही में बस्तर में शिक्षा और रोजगार के लिए दंडकारण्य प्रोजेक्ट लांच किया है। इसमें प्रशिक्षण देने के लिए जो लोग आए हैं, वे बस्तर के ही हैं और लंबे समय से शांतिकुंज, हरिद्वार में ऐसे कार्यों में सक्रिय हैं। उन्हें यहां फैकल्टी के तौर पर भेजा जाएगा।

X
Raipur News - chhattisgarh news now the certified course of the spiritual university of the spirit then from the new date march
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें