अब गोकुल नगर, अटारी और बोरिया में नए गौठान, राजधानी के अावारा मवेशी यहीं रखेंगे

Raipur News - रायपुर | राजधानी में सड़कों पर घूमने वाला मवेशियों को जल्द ही अब ठौर-ठिकाना मिलेगा। इसके लिए रायपुर निगम गोकुल नगर,...

Jul 14, 2019, 07:25 AM IST
रायपुर | राजधानी में सड़कों पर घूमने वाला मवेशियों को जल्द ही अब ठौर-ठिकाना मिलेगा। इसके लिए रायपुर निगम गोकुल नगर, बोरिया खुर्द और अटारी में गौठान बना रहा है। अगले महीने तक इसका काम लगभग पूरा हो जाएगा। यहां सड़कों पर घूमने वाले आवारा मवेशियों को रखा जाएगा।

गोकुल नगर में तीन, अटारी और बोरियाखुर्द में एक-एक गौठान बनाया जा रहा है। गोकुल नगर और अटारी का काम शुरू हो गया है। बोरियाखुर्द में जगह की तलाश की जा रही है।

यहां बन रहे गौठान नगरीय प्रशासन विभाग से जारी मापदंडों के अनुरूप बनाए जा रहे हैं। हर गौठान में एक समय में कम से कम 300 मवेशी रखे जा सकेंगे। निगम कमिश्पनर शिवअनंत तायल ने कहा कि पहले चरण में गौठान के लिए फेंसिंग, अहाता, पानी की व्यवस्था, पशुओं के लिए चारा और शेड तथा बिजली की व्यवस्था की जा रही है। दूसरे चरण में बायोगैस या कंपोस्ट खाद, गोमूत्र जमा करने, चारा विकास और दुग्ध उत्पादन के लिए चरणबद्ध तरीके से यूनिट तैयार होगी। योजना के तहत गौठान बनाने के लिए 16 बिंदु तय किए गए हैं। एक गौठान में करीब 300 मवेशियों को रखा जा सकेगा।



प्रस्तावित मॉडल में इसके निर्माण के लिए 3 एकड़ की जमीन का नक्शा भी दिया गया है। मॉनिटरिंग के लिए कलेक्टर की अध्यक्षता में कमेटी बनाई जाएगी।

शहर में 5 हजार अावारा मवेशी

एक अनुमान के मुताबिक शहर में इस समय पांच हजार से ज्यादा मवेशी सड़कों पर रहते हैं। इन मवेशियों का जमावड़ा आमतौर पर बाजार, सब्जी मार्केट आदि इलाकों के आसपास रहता है। दिन में चारा-पानी की तलाश में वे सड़कों पर घूमते रहते हैं। रात में सड़कों पर बैठे रहते हैं। अंधेरे में कई बार नजर नहीं आने पर इनकी वजह से दुर्घटनाएं भी होती हैं।

कांजी हाउस पर्याप्त नहीं

निगम के लाखे नगर और भाठागांव कांजी हाउस में पर्याप्त जगह नहीं है। इसके बावजूद यहां मवेशियों को ठूंसकर रखा जाता है। चारे-पानी की व्यवस्था को लेकर भी कई बार कांजी हाउस निशाने पर रहता है। गौठान बनने से यह दिक्कतें दूर हो जाएंगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना