प्रगति को गेट में 8वीं और सेंट्रल लाइब्रेरी में रोज छह घंटे पढ़ने वाले रजत को 23वीं रैंक

Raipur News - आईआईटी मद्रास की ओर से आयोजित गेट 2019 का रिजल्ट शुक्रवार को जारी किया गया। इसमें शहर के कई स्टूडेंट्स ने टॉप 100 में...

Bhaskar News Network

Mar 16, 2019, 03:11 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news progress is 8th in the gate and six hours in the central library silver is ranked 23rd
आईआईटी मद्रास की ओर से आयोजित गेट 2019 का रिजल्ट शुक्रवार को जारी किया गया। इसमें शहर के कई स्टूडेंट्स ने टॉप 100 में जगह बनाई। एनआईटी की प्रगति गोलछा को देशभर में 8वीं रैंक, रजत आनंद को 23वीं, मतुल बघेल को 35वीं, कमलेश को 44वीं, आयुष त्रिपाठी को 72वीं, सौरभ श्रीवास्तव को 81वीं रैंक और निनाद शुक्ला को 107वीं रैंक हासिल हुई। मूल रूप से दिल्ली के रहने वाले रजत एनआईटी के बायोटेक डिपार्टमेंट के स्टूडेंट हैं। उन्होंने बताया, गेट के लिए मैंने सेल्फ स्टडी की। कॉलेज करिकुलम में शामिल बुक्स से ही नोट्स रेडी किए। टाइम टेबल बनाकर सेंट्रल लाइब्रेरी में रोज सुबह-शाम मिलाकर 6 घंटे पढ़ाई करता था। जो भी डाउट होते वो प्रोफेसर्स से क्लीयर करता था। रजत के पिता राम प्रकाश लॉयर और मम्मी निशा कुमारी हाउसवाइफ हैं। अन्य टॉपर्स ने सिटी भास्कर से बातचीत में बताया कि मॉक टेस्ट सॉल्व करने से एग्जाम का कॉन्सेप्ट समझने में आसानी हुई। इस परीक्षा के माध्यम से स्टूडेंट्स को आईआईटी, ट्रिपलआईटी में एमएस और एमटेक कोर्स में एडमिशन दिया जाता है।

रजत आनंद

किसान के बेटे आयुष को मिली देशभर में 72वीं रैंक

देशभर में 72वीं रैंक हासिल करने वाले आयुष त्रिपाठी एनआईटी के इलेक्ट्रिकल डिपार्टमेंट के फाइनल ईयर के स्टूडेंट हैं। आयुष के पिता जीपी त्रिपाठी किसान और मां शोभा त्रिपाठी हाउसवाइफ हैं। दोनों ने पढ़ाई कर काबिल बनने मोटिवेट किया। तैयारियों के बारे में आयुष ने बताया कि मैंने कभी प्लेसमेंट पर ध्यान नहीं दिया। कॉलेज कोर्स और गेट का सिलेबस एक जैसा है, लिहाजा गेट के लिए कभी एक्स्ट्रा पढ़ने की कोशिश भी नहीं की। स्टेंडर्ड बुक्स फॉलो कीं। कॉन्सेप्ट क्लीयर करने के लिए टेस्ट सीरीज, ऑनलाइन वीडियो देखे।

साइंटिस्ट सौरभ को 81वीं रैंक

एनआईटी से पासआउट सीएस ब्रांच के सौरभ श्रीवास्तव को ऑल इंडिया 81 रैंक मिली। वे अभी इसरो श्रीहरिकोटा में बतौर साइंटिस्ट सेवाएं दे रहे हैं। सौरभ अच्छी रैंक हासिल करने में कामयाब रहे हैं, लेकिन आगे वे क्या करेंगे इस सवाल के जवाब में वे थोड़े कंफ्यूज नजर आए। उन्होंने बताया कि आगे कि प्लानिंग फिलहाल वे नहीं कर सके हैं।

दो कंपनियों में हुआ प्लेसमेंट, गेट करने के लिए ठुकराया ऑफर

देशभर में 107वीं रैंक हासिल करने वाले निनाद शुक्ला शंकराचार्य इंजीनियरिंग कॉलेज के सीएस डिपार्टमेंट के स्टूडेंट हैं। उनका दो कंपनियों में लगभग चार लाख रुपए के पैकेज पर कैंपस प्लेसमेंट हो चुका है। गेट क्रैक करने के लिए उन्होंने जॉब का अॉफर भी ठुकरा दिया। उन्होंने बताया, पिछले डेढ़ साल से तैयारी कर रहा था। क्लास में पढ़ाई के दौरान अपनी समझ के अनुसार नोट्स बनाए। ऑनलाइन टेस्ट सीरीज और स्टडी मटेरियल्स भी यूज किए। पिता संगीत शुक्ला रिटायर्ड बैंक ऑफिसर और मम्मी सिंधु शुक्ला टीचर हैं। निनाद आईआईटी मुंबई से पढ़ाई करना चाहते हैं, लेकिन रैंक के आधार पर उन्हें आईआईटी मद्रास में एडमिशन मिलने की संभावना है।

X
Raipur News - chhattisgarh news progress is 8th in the gate and six hours in the central library silver is ranked 23rd
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना