सार्वजनिक और दान लेने वाली संस्थाओं काे नाेटिस भेजकर मांगा हिसाब, ऑडिट भी शुरू

Raipur News - प्रशासनिक रिपोर्टर | रायपुर राजधानी में इस साल ऐसे सभी संस्थाओं की जांच की जा रही है जो आम लोगों से कई तरह की मदद...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:30 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news public and charitable organizations send their names and send audit audit also
प्रशासनिक रिपोर्टर | रायपुर

राजधानी में इस साल ऐसे सभी संस्थाओं की जांच की जा रही है जो आम लोगों से कई तरह की मदद लेने के साथ ही बड़ी रकम चंदे के रूप में लेती हैं। सार्वजनिक संस्थानों, मंदिर, ट्रस्ट की ओर से संचालित अस्पताल, समितियां, सामुदायिक भवन समेत ऐसी संस्थाएं जिनका इंकम ऑफ सोर्स आम लोगों से मिलने वाली रकम है उन सभी संस्थाओं को नोटिस भेजकर उनके बैलेंस शीट की जानकारी मांगी जा रही है। इनमें प्रमुख ऐसे संस्थान हैं जिन्होंने पैन नंबर तो लिया लेकिन इंकम टैक्स फाइल नहीं बनवाई और न ही कभी रिटर्न दाखिल किया।

आयकर विभाग को इस बात की पुख्ता जानकारी मिली है कि इन सार्वजनिक संस्थाओं में दान की रकम में बड़ा फर्जीवाड़ा किया जा रहा है। कई अस्पतालों, मंदिरों और बड़ी संस्थाओं में 20 लाख से 1 करोड़ तक की रकम दान की जा रही है। उद्योग, अस्पताल, रियल एस्टेट समेत कारपोरेट जगत के लोग इन संस्थाओं को दान देते हैं और उसमें न केवल छूट लेते हैं बल्कि संस्थानों से मिलीभगत कर वही रकम उन्हें वापस भी मिल जाती है। संस्थानों को इसके बदले में संस्थान चलाने का खर्चा मिल जाता है। विभाग की माने तो ऐसे सभी संस्थाओं पर पिछले साल से नजर रखी जा रही है। हर तरह की जांच के बाद ऐसे संस्थानों की सूची तैयार की गई है और उन्हें नोटिस भेजी जा रही है। नोटिस का जवाब नहीं देने पर विभाग के अफसर उनके खातों को फ्रिज करने के साथ ही उनका तगड़ा ऑडिट भी कर रहे हैं।

जिन्होंने दान दिया उनसे भी पूछेंगे इंकम ऑफ सोर्स

सार्वजनिक संस्थानों, ट्रस्ट या दूसरी जगहों पर बड़ा दान देने वाले लोगों की भी सूची तैयार की जा रही है। इन सभी लोगों से उनके इंकम ऑफ सोर्स की जानकारी मांगी जाएगी। विभाग इस बात की जानकारी जुटा रहा है कि दान देने वालों की हैसियत क्या है? कारोबार में कितना मुनाफा होता है जिससे दान की स्थिति बनती है? दान व चंदे का विवरण मिलाया जा रहा है ताकि पता चल सके कि कितना दान हो रहा है और कितनी रकम की इंट्री हो रही है। इसके साथ ही यह भी पता किया जा रहा है कि जिन लोगों ने दान दिया है उन्होंने अपने रिटर्न में मुनाफा और दान के कितने रकम की जानकारी दी है। केवल आयकर छूट लेने के लिए यह काम किया जा रहा है या आयकर की चोरी के लिए।

इस तरह के रिकार्डों में किसी भी तरह की गड़बड़ी मिलेगी तो संबंधित व्यक्ति पर कड़ी कार्रवाई की भी तैयारी कर ली गई है।

देशभर में चल रहा अभियान

आयकर विभाग के अफसरों की माने तो इस तरह का अभियान देश के कई राज्यों में चल रहा है। खासतौर पर ऐसे राज्यों के शहर जो सार्वजनिक संस्थानों, ट्रस्टों, मंदिरों या समितियों के लिए प्रसिद्ध हैं। विभाग का दावा है कि धारा-80 जी के तहत आयकर में छूट के लिए पंजीकृत इन धार्मिक, सामाजिक संस्थाओं का इस्तेमाल लोक कल्याण की आड़ में रसूखदार और बड़े पूंजीपति कर रहे हैं। दान के बदले रसीद जारी करने वाली इन संस्थाओं पर विभाग की कड़ी नजरें लगी हुई हैं।

X
Raipur News - chhattisgarh news public and charitable organizations send their names and send audit audit also
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना