• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Raipur
  • News
  • Raipur News chhattisgarh news schools have two rises better to give two tiffin to the children one in the mini and the other in the main mile

स्कूलों में दो बार होती है रिसेस, बच्चों को दो टिफिन देना बेहतर, एक में मिनी और दूसरे में रखें मेन मील

Raipur News - बच्चों को टिफिन बॉक्स में टेस्टी अाैर हेल्दी फूड देने की चिंता हर मां को होती है। टिफिन में एक जैसा फूड आइटम होने पर...

Bhaskar News Network

Jul 13, 2019, 07:35 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news schools have two rises better to give two tiffin to the children one in the mini and the other in the main mile
बच्चों को टिफिन बॉक्स में टेस्टी अाैर हेल्दी फूड देने की चिंता हर मां को होती है। टिफिन में एक जैसा फूड आइटम होने पर कई बार बच्चे बिना खाए ही टिफिन वापस ले आते हैं। न्यूट्रीशियन एक्सपर्ट्स के अनुसार बच्चों को कभी खाली पेट स्कूल नहीं भेजना चाहिए। ब्रेकफास्ट रेडी न हो तो कम से कम दूध पिलाकर या नट्स खिलाकर भेजें। हर स्कूल में दो बार रिसेस होती है। एक छाेटी और दूसरी बड़ी। लिहाजा, दोनों रिसेस के लिए बच्चाें काे अलग-अलग टिफिन देकर भेजें। छाेटी रिसेस के लिए मिनी मील अाैर बड़ी रिसेस के लिए मेन मील। एक्सपर्ट शीतल टंडन के अनुसार बच्चों को फास्ट फूड या ऑइली फूड देने केे बजाय इंडियन डिश देना बेहतर है। कोशिश करें कि हफ्ते में छह दिन बच्चों को टिफिन में अलग-अलग डिश दें, ताकि वो इंंट्रेस्ट लेेकर लंच करें। वेट और हाइट के अनुसार 5 से 12 साल के बच्चों को अलग-अलग कैलोरी की जरूरत पड़ती है। इस एज में बॉडी की ग्रोथ तेजी से होती है लिहाजा फूड में पोषक तत्वों का होना बेहद जरूरी है।

एक्सपर्ट्स के अनुसार बच्चों को छह दिन तक टिफिन में देना चाहिए अलग-अलग फूड, सुबह खाली पेट न भेजें स्कूल

टिफिन में ये फूड करें एड

बड़ी रिसेस के लिए बच्चों को जो मेन टिफिन बॉक्स दें, उसमें रोज डिफरेंट फूड आइटम दिए जा सकते हैं। इसमें इडली विथ वेजीटेबल सांभर, रोटी-सब्जी व सलाद, वेजीटेबल राइस व कर्ड, रोटी रोल व कर्ड डीप, वेजीटेबल स्टफ पराठा व ग्रीन चटनी, दालपुरी व सीजनल सब्जी शामिल कर सकते हैं।

छह दिन मिनी बॉक्स में दें ये फूड

शॉर्ट रिसेस में छह दिन तक अलग-अलग चीजें दी जा सकती हैं। इस मिनी बॉक्स में फ्रूट, रोस्टेड मखाना और फल्ली, पनीर पीस, स्प्राउट, ढोकला और कोकोनेट चटनी या स्वीट कॉर्न दे सकते हैं।

सुबह से दोपहर के बीच खा सकते हैं ताजा दही

मॉर्निंग स्कूल वाले बच्चे अक्सर बिना कुछ खाएं घर से निकल जाते हैं। एक्सपर्ट शिल्पी गोयल के अनुसार ऐसे बच्चों को कम से कम नट्स, दूध या रोटी सब्जी खाकर ही स्कूल के लिए निकलना चाहिए। प्रोटीन के लिए दूध काफी जरूरी है। लिहाजा बच्चों को दूध पिलाएं। दही अौर पनीर दें। दोपहर के वक्त छाछ भी दे सकते हैं। ये मिथक है कि बरसात या ठंड का सीजन है तो दही नहीं खाना चाहिए। ताजा दही सुबह से दोपहर के बीच खाया जा सकता है।

ये भी दे सकते हैं

बच्चों को टिफिन में नारियल की बर्फी, राजगिरा के लड्‌डू और गुड फल्ली की चिक्की भी सकते हैं, इससे बॉडी को आयरन मिलता है। सूजी की इडली, आलू का पराठा, बेसन का वेजीटेबल चीला, मूंग दाल चीला भी टिफिन में दे सकते हैं। डेयरी प्राेडक्ट भी डाइट में शामिल करना चाहिए।

X
Raipur News - chhattisgarh news schools have two rises better to give two tiffin to the children one in the mini and the other in the main mile
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना