--Advertisement--

पीडब्ल्यूडी व पुलिस विभाग ने जिस ट्रैफिक दफ्तर काे एक साल पहले बनवाया, उसी को बनाने फिर से जारी किया टेंडर

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 03:12 AM IST

Raipur News - रायपुर

Raipur News - chhattisgarh news tender issued by the pwd and police department to the same traffic office that was built one year ago
रायपुर
डीबी स्टार टीम को जानकारी मिली कि भवन निर्माण के बाद निविदा जारी कर दी गई। टीम की पड़ताल में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए। ट्रैफिक विभाग के कालीबाड़ी स्थित कार्यालय के प्रथम तल का निर्माण सालभर पहले ही हो चुका है। यह भवन पुलिस और पीडब्ल्यूडी विभाग के अफसरों ने मिलकर बनवाया। लेकिन दिसंबर माह में भवन बनाने के लिए टेंडर निकाल दिया गया। टेंडर शर्ताें में विद्युतीकरण के लिए भी फंड जारी किया गया है। जबकि निर्माण सालभर पहले ही हो चुका है। यहां तक कि ऑनलाइन टेंडर निकालने के बजाय ऑफलाइन तरीके से गुपचुप काम करवा दिया गया। यह निविदा दिसंबर 2018 को जारी कर फॉर्म जमा करने की अंतिम तारीख 11 जनवरी 2019 घोषित की गई। फार्म न दिए जाने पर मामले का खुलासा हुआ।

गोलमाल...अंतिम तिथि से पहले ही निर्माण एजेंसियों को टेंडर फॉर्म देने से कर दिया इंकार

ऐसे समझें किस तरह गड़बड़ी हुई...

पहले भवन बनवाया: नियम के अनुसार सरकारी भवन निर्माण के पहले टेंडर जारी किया जाता है, लेकिन भवन का निर्माण करवा दिया गया। पीडब्ल्यूडी ने गुपचुप तरीके से भवन का निर्माण करवा दिया।

टेंडर बाद में निकाला: ट्रैफिक के एडिशनल कार्यालय का टेंडर पहले निकाला जाना था, लेकिन दिसंबर में टेंडर निकाला गया। यानि भवन निर्माण के सालभर बाद टेंडर निकाला गया। बिल्डिंग की रंगाई-पुताई भी की जा चुकी है।

जानिए, 2017 में निर्मित भवन का टंेडर दिस. 2018 में निकाला




मनमानी...निर्माण के बाद जिम्मेदारों ने टेंडर निकाला, नियम-कायदों को ताक पर रखकर काम

एजेंसियों को टेंडर भरने नहीं दिए फॉर्म

8 जनवरी तक निविदा फॉर्म देने के लिए अखबार में विज्ञापन जारी किया गया। फिर 11 जनवरी तक फॉर्म जमा करने की अंतिम तिथि दी गई, लेकिन कुछ एजेंसी के लोग फॉर्म खरीदने के लिए पहुंचे। इस दौरान वहां फॉर्म देने वाले ने पहले से ही भवन निर्माण होना बताकर फॉर्म नहीं दिया।

अफसरों से बात करें

 यह काम पहले ही हो चुका है। यह हॉल पुलिस के बड़े अधिकारियों के अनुशंसा पर बना है। टेंडर प्रक्रिया है, यह तो करना ही था। हॉल तो बन गया है। टेंडर फॉर्म नहीं मिलेगा इस संबंध में अधिकारियों से बात कर लो। दीपक भारद्वाज, टेंडर विभाग प्रभारी

बैठकर बात करते हैं

 ऐसा ताे नहीं हाेना चाहिए। अगर निर्माण पूरा हो चुका है, तो आप ऑफिस आइए, बैठकर बात करते हैं। मणिशंकर चंद्रा, डीएसपी, रायपुर

जांच करवाई जाएगी

 निर्माण के संबंध में जानकारी नहीं है। जानकारी मांगी है, जांच होगी। नीथू कमल, एसपी, रायपुर

X
Raipur News - chhattisgarh news tender issued by the pwd and police department to the same traffic office that was built one year ago
Astrology

Recommended

Click to listen..