नगर निगमों व निकायों से ब्रेकर हटाने सरकार ने मांगा समय, कहा- चुनाव में व्यस्त हैं अधिकारी

Raipur News - प्रदेश के सभी नगर निगमों व नगरीय निकायों के अंतर्गत शामिल सड़कों पर अनधिकृत और नियमविरुद्ध तरीके से बनाए गए स्पीड...

Bhaskar News Network

Apr 16, 2019, 07:21 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news the government has asked the time to remove the breaker from the municipal corporations and bodies said officers busy in the elections
प्रदेश के सभी नगर निगमों व नगरीय निकायों के अंतर्गत शामिल सड़कों पर अनधिकृत और नियमविरुद्ध तरीके से बनाए गए स्पीड ब्रेकर को हटाने को लेकर 26 मार्च को दिए गए आदेश के परिपालन के लिए सरकार ने समय की मांग करते हुए कहा कि अधिकारी लोकसभा चुनाव की तैयारियों में व्यस्त हैं। हाईकोर्ट ने मांग मंजूर करते हुए 24 जून से शुरू होने वाले सप्ताह में अगली सुनवाई निर्धारित की है।

बिलासपुर के रहने वाले डीडी आहूजा ने एडवोकेट सुनील ओटवानी के जरिए हाईकोर्ट में जनहित याचिका प्रस्तुत कर बताया है कि प्रदेश की करीब सभी सड़कों पर अनाधिकृत और मनमाने तरीके से स्पीड ब्रेकर बनाए गए हैं। स्पीड ब्रेकर बनाने में इंडियन रोड कांग्रेस द्वारा निर्धारित मापदंडों का भी पालन नहीं किया गया है। हाईकोर्ट ने प्रारंभिक सुनवाई करते हुए राज्य सरकार को चार सप्ताह के भीतर अनधिकृत, मनमाने और इंडियन रोड कांग्रेस के मापदंडों का उल्लंघन करते हुए बनाए गए सभी स्पीड ब्रेकर को हटाने के निर्देश दिए थे। 26 मार्च को एक्टिंग चीफ जस्टिस प्रशांत मिश्रा और जस्टिस पीपी साहू की बेंच में सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता की तरफ से बताया गया कि प्रदेश के अधिकांश नगर निगमों व नगरीय निकायों की सड़कों से स्पीड ब्रेकर नहीं हटाए गए हैं। हाईकोर्ट ने नगरीय प्रशासन विभाग के संचालक को दो सप्ताह के भीतर जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिए थे।

अंतागढ़ टेप कांड: आरोपियों की तरफ से बहस पूरी, राज्य सरकार की जिरह अधूरी

बिलासपुर |
अंतागढ़ टेप कांड में एफआईआर दर्ज होने के बाद आरोपियों पूर्व मंत्री राजेश मूणत, मंतूराम पवार और डॉ. पुनीत गुप्ता ने हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत अर्जी लगाई है। तीनों की तरफ से बहस सोमवार को पूरी हो गई है। अब राज्य सरकार की तरफ से पक्ष रखा जा रहा है। मंगलवार को भी इस मामले पर सुनवाई जारी रहेगी। गुरुवार को सुनवाई के दौरान आरोपियों की तरफ से पक्ष रखते हुए कहा गया था कि टेप फर्जी है, पुलिस ओरिजनल टेप प्रस्तुत नहीं कर सकी है। फर्जी टेप के आधार पर एफआईआर दर्ज कर ली गई है, लिहाजा उनके खिलाफ प्रकरण नहीं बनता। अंतागढ़ टेप कांड को लेकर रायपुर की पूर्व महापौर किरणमयी नायक ने रायपुर के पंडरी थाने में एफआईआर दर्ज करवाई है। पुलिस ने उनकी शिकायत पर पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, मरवाही के पूर्व विधायक अमित जोगी, डॉ. पुनीत गुप्ता, पूर्व मंत्री राजेश मूणत और मंतूराम पवार के खिलाफ कई धारा में प्रकरण दर्ज कर लिया है।



इस मामले में पूर्व मंत्री राजेश मूणत, मंतूराम पवार और सहित डॉ. पुनीत गुप्ता ने अलग-अलग अग्रिम जमानत आवेदन प्रस्तुत किए हैं। जस्टिस गौतम भादुरी की बेंच में गुरुवार को सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ताओं की तरफ से सीनियर एडवोकेट सुरेंद्र सिंह, एडवोकेट आशीष शुक्ला, विवेक शर्मा ने पैरवी करते हुए कहा था कि पुलिस ने फर्जी टेप के आधार पर एफआईआर दर्ज की है। चंडीगढ़ के एफएसएल ने टेप को पूरी तरह फर्जी बताते हुए जांच से भी इनकार कर दिया है। पुलिस ओरिजनल टेप प्रस्तुत नहीं कर सकी है, ऐसे में उनके खिलाफ कोई मामला नहीं बनता है। राजनीतिक द्वेषवश उनके खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया गया है। सोमवार को तीनों की तरफ से बहस पूरी हो गई है।

X
Raipur News - chhattisgarh news the government has asked the time to remove the breaker from the municipal corporations and bodies said officers busy in the elections
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना