अाउटर में जमीन का पानी 13 मीटर उतरा शहर के बोर-कुओं में 6 मीटर की गिरावट

Raipur News - अमिताभ अरुण दुबे/ठाकुरराम यादव | रायपुर केंद्रीय भूजल बोर्ड की राजधानी में भूजल स्तर के सालाना सर्वे की रिपोर्ट...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:32 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news the ground water in the outer land reached 13 meters 6 meters fall in the bore well of the city
अमिताभ अरुण दुबे/ठाकुरराम यादव | रायपुर

केंद्रीय भूजल बोर्ड की राजधानी में भूजल स्तर के सालाना सर्वे की रिपोर्ट चौंकाने वाली है। इसके मुताबिक घने शहर के मुकाबले अाउटर में भूजल स्तर में जबर्दस्त गिरावट अाई है। अाउटर के बोर और कुओं में पानी का स्तर 50 फीट तक नीचे चला गया है और औद्योगिक इलाके के 25 फीसदी से ज्यादा कुएं और बोरवेल सूख गए हैं। नगर निगम की जांच के मुताबिक घने शहर में निगम के 1100 से ज्यादा नलकूपों में लगभग 15 फीसदी सूख चुके हैं, यानी उसमें पानी निकलना बंद हो गया है। राजधानी के अाउटर और शहरी इलाके में भूजल स्तर में कुल मिलाकर औसत गिरावट 6 मीटर से ज्यादा (लगभग 20 फीट) अांकी गई है। औद्योगिक क्षेत्र जैसे उरला और लगे इलाकों में भूजल स्तर बुरी तरह नीचे चला गया है। अगले कुछ दिन भीषण गर्मी के हैं, इसलिए भूजल स्तर में और गिरावट की अाशंका है।

राजधानी के बोरवेल और नलकूप अब सामान्य से चौथाई पानी भी नहीं निकाल पा रहे हैं। निगम के इंजीनियरों का अनुमान है कि कुछ पैच में भूजल स्तर 50 फीट से भी नीचे चला गया है। जहां तक केंद्रीय भूजल बोर्ड की जांच का सवाल है, उरला समेत शहर के करीब 14 इलाकों में पानी का लेवल सामान्य से बहुत नीचे चला गया है। केंद्रीय भूजल बोर्ड शहर में ग्राउंड लेवल की जांच के लिए बनाए गए 54 कुओं, नलकूप और पिजोमीटर के आकलन पर यह रिपोर्ट दी है। भूजल में 6 मीटर की औसत गिरावट बताई जा रही है, वह अप्रैल 2018 और 2019 के आंकड़ों की तुलना से निकाली गई है।

14 इलाकों के बोर में पानी की भारी कमी

राजधानी के जिन 14 इलाकों में भूजल में भारी कमी हुई है। उरला के अलावा देवपुरी, टेमरी, हीरापुर-जरवाय, कचना, धनेली, मठपुरैना, पिरदा, गिरौद, छतौना, गुमा और गोंदवारा में पानी का लेवल इतने नीचे चला गया है कि हालात चिंताजनक हैं।

यह है कमी का ट्रेंड

रायपुर में मानसून से पहले यानी मई माह तक कुओं जैसे स्त्रोत में औसतन 10 फीट से 60 फीट तक गिरावट हो रही है। ड्राय बेल्ट में कुओं का पानी औसतन 80 से 100 फीट या और नीचे जा रहा है। मई में बोरवेल का पानी औसतन 15 फीट से 150 फीट तक नीचे गिर जाता है। ड्राय बेल्ट इलाकों में ये 180 से 190 फीट तक गिर सकता है। पिछली बार फरवरी के महीने में शंकर नगर जैसे इलाकों में 800 फीट नीचे तक पानी चला गया था।

केंद्रीय जल बोर्ड प्री मॉनसून और पोस्ट मॉनसून में ग्राउंड लेवल वॉटर का आकलन करता है। इसके लिए साल भर में चार बार व्यापक सर्वे हुए हैं। बोर्ड जनवरी, मई, अगस्त और नवंबर में हर साल ये सर्वे करता है और इससे पूरे शहर में भूजल की सही तस्वीर सामने अाती है। बोर्ड यह जांच शैलो एक्वीफर्स जैसे कुआ और डीपर एक्वीफर्स जैसे बोरवेल, इन्हीं दो श्रेणियों में भूजल स्तर के लिहाज से शहर का मैप भी तैयार करता है।।

भास्कर नॉलेज

7 औद्योगिक इलाके में भी कुएं सूख गए

राजधानी की सात जगहों में कुंओं का पानी भी नीचे चला गया है। औद्योगिक क्षेत्र उरला और लगे हुए इलाकों में बोरवेल के साथ-साथ कुंओं के पानी का लेवल भी गिरा है और यह सूख गए हैं। सरोना, न्यू पुरैना में भी कुओं में पानी का स्तर नीचे चला गया है।

भूजल बोर्ड की जांच इस तरह

अाउटर में भूजल का हाल

स्थान कमी

तेंदुआ 12.69 मीटर

उरला 12.59 मीटर

देवपुरी 01.93 मीटर

टेमरी 04.81 मीटर

पिरदा 06.32 मीटर

कचना 02.48 मीटर

गिरौद 04.96 मीटर

धनेली 12.06 मीटर

मठपुरैना 05.03 मीटर

छतौना 06.23 मीटर

हीरापुर 01.19 मीटर

गुमा 04.15 मीटर

गोंदवारा 1.21 मीटर

यहां सूख रहे कुएं

स्थान कमी

उरला 5.88 मीटर

गुमा 2.65 मीटर

सरोना 2.17 मीटर

तेंदुआ 2.68 मीटर

न्यू पुरैना 3.53 मीटर

दलदल सिवनी 2.06 मीटर

रावांभाटा 1.44 मीटर

X
Raipur News - chhattisgarh news the ground water in the outer land reached 13 meters 6 meters fall in the bore well of the city
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना