दिन में दो लाख लोगों ने बोए बीज, जंगलों में फलों के साथ मिलेंगी सब्जियां

Raipur News - कुछ महीनों में ही छत्तीसगढ़ के जंगलों का नजारा बदला हुआ नजर आ सकता है। यहां तीन -चार सालों में जाम, आम, कटहल, जामुन, बेर,...

Jul 14, 2019, 07:35 AM IST
कुछ महीनों में ही छत्तीसगढ़ के जंगलों का नजारा बदला हुआ नजर आ सकता है। यहां तीन -चार सालों में जाम, आम, कटहल, जामुन, बेर, बेल, करौंदा खाने को मिलेंगे। जबकि पांच-छह महीनों में लौकी, बरबट्टी, भिण्डी, बैगन जैसी सब्जियां कहीं भी मिल जाएंगी। दरअसल उगाया तो इन्हें जंगलों में रहने वाले जानवरों के लिए है, लेकिन पिकनिक व जंगलों में घूमने के शौकीन भी इसका मजा ले सकेंगे।

हाल ही में वन विभाग ने इन्हें लगाने के लिए बीज बुआई महापर्व मनाया। मजेदार बात यह कि एक ही दिन में दो लाख लोगों ने यहां के वनों के चप्पे-चप्पे पर 52 हजार 900 किलो बीज बो दिए। इस अनोखे अभियान की खास बात यह रही कि इसमें सीड बॉल का भी उपयोग किया गया। बताया गया कि 6 हजार 400 किलो सीड बाॅल लगाई गई। सीड बॉल की टेक्निक कुछ समय से सुनने में आ रही है। इसमें बीजों को खाद या वर्मी कंपोस्ट खाद के कंडों में डालकर बोया जाता है।

ऐसे आया आइडिया

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने वन्यप्राणियों के लिए वन में आसानी से भोजन उपलब्ध कराने के उद्देश्य से फलदार व सब्जियों के बीज लगाने को कहा था। वनमंत्री मोहम्मद अकबर ने इस महाअभियान को पूरा कराया। पीसीसीएफ राकेश चतुर्वेदी ने इसे अमलीजामा पहनाया। उम्मीद है कि वन प्रबंधन समिति को फलदार एवं सब्जी के पेड़ों से अतिरिक्त आय होगी। गांव वालों की पहुंच से बाहर महंगे फल उन्हें आसानी से मिल सकेंगे। खुले वनों में फलदार पौधों से वनभूमि का सदुपयोग भी होगा।


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना