--Advertisement--

बारातियों ने फोड़े पटाखे, तेंदूपत्ता का गोदाम खाक, 6 करोड़ का नुकसान

पाली नगर पंचायत होने के बाद भी एक भी दमकल नहीं है। कोरबा से पाली की दूरी 60 किलोमीटर है।

Danik Bhaskar | May 01, 2018, 08:07 AM IST

कोरबा-पाली. नगर के मुख्य मार्ग से 15 मीटर दूर वन विभाग के तेन्दूपत्ता गोदाम में रविवार की रात 11 बजे आग लग गई। इसके कुछ समय पहले ही एक बारात गुजरी थी जो पटाखे भी फोड़ रहे थे। तेन्दूपत्ता होने के कारण एक घंटे में ढाई एकड़ में बने गोदाम को चपेट में ले लिया। इसकी सूचना वन विभाग के साथ थाने में दी गई। पुलिस ने दमकल को सूचना दी। बालको, जमनीपाली, कटघोरा, दीपका के सार्वजनिक संस्थानों से 7 दमकल आग बुझाने पहुंची। लेकिन 17 घंटे बाद आग पर काबू पाया जा सका।

तेन्दूपत्ता राजनांदगांव के छोटा जेठाभाई का था जिसने 6 करोड़ रुपए नुकसान होना बताया है। डीएफओ एस जगदीशन ने भी सुबह पहुंचकर घटना की जानकारी ली। वन विभाग अब तेन्दूपत्ता संग्रहण ठेकेदारों के माध्यम से कराता है। इसके लिए फड़ के आधार पर ठेकेदार खरीदी करते हैं। पिछले वर्ष ठेकेदार ने तेन्दूपत्ता खरीदने के बाद गोदाम में रख दिया था। ठेकेदार ने गोदाम में एक चौकीदार रखा है। जरूरत के अनुसार तेन्दूपत्ते को परिवहन कर बीड़ी कारखाने भेजा जाता है।

रविवार की रात 11 बजे लोगों ने तेन्दूपत्ता गोदाम से धुआं उठते देखा तो पुलिस को सूचना दी। इसके बाद थाना प्रभारी मान सिंह राठिया, रेंजर केएम जोगी भी अमले के साथ पहुंचे। इसके बाद फायर ब्रिगेड को सूचना दी। इसके बाद बालको, जमनीपाली, दीपका नगर निगम के साथ कटघोरा से 7 दमकलें आग बुझाने में जुट गई। लेकिन पत्ता होने के कारण आग पूरी तरह चपेट में ले लिया था। दूर से आग की लपटें नजर आ रही थी। सोमवार की शाम 17 घंटे बाद शाम 4 बजे आग पर काबू पाया जा सका। तब तक पूरी तरह पत्ते जलकर राख हो गए थे। जांच अधिकारी डिप्टी रेंजर वृंदा कश्यप ने बताया कि गोदाम में लगभग 5 हजार से अधिक मानक बोरा तेन्दूपत्ता रखा हुआ था। इसकी कीमत लगभग 6 करोड़ रुपए है।

अग्निशामक काम का नहीं, पाली में भी दमकल का अभाव
तेन्दूपत्ता गोदाम में एकमात्र चौकीदार रहता है। यहां आग बुझाने के लिए अग्निशमन यंत्र तो रखे जाते हैं पर वह कोई काम का नहीं रहता है। छोटी आगजनी में ही काम आता है। पाली नगर पंचायत होने के बाद भी एक भी दमकल नहीं है। कोरबा से पाली की दूरी 60 किलोमीटर है। इस वजह से दमकल को पहुंचने में डेढ़ घंटे का समय लग गया।

पटाखे से आग लगी या कुछ और...अभी स्पष्ट नहीं
आसपास के लोगों का कहना है कि गोदाम के किनारे से ही कुछ देर पहले बारात गुजरी थी। लोग पटाखे भी फोड़ रहे थे। आगजनी में पटाखे की चिंगारी भी कारण हो सकता है। पुलिस का कहना है कि यह अभी स्पष्ट नहीं है। सही कारण जांच के बाद ही पता चल पाएगा।