Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» Frauder Arrested From Contractor In Bilaspur

ठेकेदार से 1.95 करोड़ की ठगी करने वाले को एसआईटी ने पकड़ा

लोहा देने के नाम पर ठगा था ठेकेदार को, आरोपी तीन साल से था फरार

Bhaskar News | Last Modified - Aug 12, 2018, 01:29 AM IST

ठेकेदार से 1.95 करोड़ की ठगी करने वाले को एसआईटी ने पकड़ा

बिलासपुर.लोहा देने के नाम पर रायगढ़ के ठेकेदार से 1.95 करोड़ की ठगी करने के आरोपी को आईजी की एसआईटी टीम ने रायपुर से गिरफ्तार किया। वह पिछले तीन साल से फरार था। मामला रायगढ़ जिले का है। जयप्रकाश वासन भूपदेवपुर थाना क्षेत्र के एसकेएस पावर प्लांट में पेटी कांट्रेक्टर है।
अप्रैल 2016 में उनका रायपुर समता काॅलोनी निवासी कोणार्क ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के डॉयरेक्टर व लोहा कारोबारी प्रशांत गोयल से 1.95 करोड़ रुपए के लोहे का सामान लेने का करार हुआ था। पेटी कांट्रेक्टर ने उसे अपने बैंक अकाउंट से अग्रिम भुगतान कर दिया था। इसके बाद प्रशांत गोयल उन्हें घुमाता रहा। 6 माह बीत गया तो उन्होंने भूपदेवपुर थाने में प्रशांत गोयल के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने इस मामले में आरोपी के खिलाफ धारा 420, 406,34 के तहत जुर्म दर्ज किया। एफआईआर के बाद पुलिस ने इस प्रकरण की जांच शुरू की। जांच में पीड़ित का आरोप सही निकला। आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई थी।

मकान और ऑफिस के लिए कर्ज लिया था, नहीं चुका पाया तो नीलाम हो गया:इस बीच आईजी दिपांशु काबरा ने धोखाधड़ी के मामले का त्वरित निराकरण करने रेंज स्तर पर एसआईटी टीम का गठन किया और इस मामले में आरोपी की खोजबीन शुरू कराई। एसपी दीपक झा व एआईजी प्रतिभा तिवारी के निर्देशन पर एसआईटी टीम के टीआई ए खोखर, एएसआई प्रेम चंद्रा व हेड कांस्टेबल बाबूलाल ने आरोपी की तलाश शुरू की। पुलिस टीम उसे पकड़ने लगातार दबिश दे रही थी। रायपुर के समता कॉॅलोनी स्थित मकान व आफिस दोनों को आरोपी ने बैंक आॅफ बड़ौदा से कर्ज में लिया था। किश्त नहीं पटाने के कारण बैंक ने दोनों को नीलाम कर दिया था।

एसआईटी ने रायपुर में घेराबंदी कर दबोचा :आरोपी के ओड़िशा में होने की खबर पर पुलिस टीम वहां भी गई पर वह नहीं मिला। इसी बीच उसके रायपुर आने की सूचना मिली। एसआईटी ने यहां डेरा डालकर सूचना जुटाई और घेराबंदी कर उसे धर दबोचा। 7 अगस्त को पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर भूपदेवपुर ले गई और खरसिया कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने उसे न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया। गठन के बाद से आईजी की एसआईटी टीम को 5 माह के भीतर ही रायगढ़ जिले के 12 मामले को हल करने में सफलता मिली है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×