न्यूज़

--Advertisement--

रायपुर पुलिस का फोकस प्राॅपर्टी धोखाधड़ी पर चोरी-लूट और मर्डर के दो दर्जन बड़े मामले पेंडिंग

राजधानी में इन दिनों बड़े मामलों के खुलासे न के बराबर हो रहे हैं।

Danik Bhaskar

Jul 13, 2018, 05:10 AM IST
-डेमो इमेज -डेमो इमेज

रायपुर. बिहार, उत्तरप्रदेश से लेकर बांग्लादेश से बड़े अपराधियों को पकड़कर लाने वाली राजधानी पुलिस इन दिनों सिर्फ प्रॉपर्टी के फ्रॉड केस में उलझ कर रह गई है। छह महीने के भीतर रायपुर पुलिस ने जमीन धोखाधड़ी के डेढ़ सौ से ज्यादा मामले में कार्रवाई की है। जबकि शहर में हुए हत्या और लूट के दो दर्जन से ज्यादा केस अब तक पेंडिंग पड़े हुए हैं। जमीन मामलों में दूसरे प्रदेशों से आरोपियों को पकड़कर लाया जा रहा है लेकिन खरोरा में नाबालिग और महिला के दोहरे हत्या से लेकर सिलतरा में फैक्ट्री में घुसकर लूटपाट के दो मामलों को अब तक नहीं सुलझाया गया है। अब तक बड़े मामलों में लगने वाली क्राइम ब्रांच भी जमीन ठगी को लेकर लगी हुई है। साइबर क्राइम और ऑनलाइन ठगी जैसे कई मामले में भी पेंडिंग पड़े हैं।

बड़े अपराधों को सुलझाने वाली क्राइम ब्रांच भी ठगी के मामलों में उलझी

राजधानी में इन दिनों बड़े मामलों के खुलासे न के बराबर हो रहे हैं। जमीन और प्रॉपर्टी से जुड़े शिकायतों पर लगातार कार्रवाई की जा रही है। इससे जमीन के कारोबार से जुड़े दलालों और आरोपियों की धरपकड़ भी हो रही है। लेकिन संगीन अपराधों को लेकर पुलिस की जांच और पड़ताल अब ठंडे बस्ते में है। पुलिस अफसरों का दावा है कि सभी तरह के मामलों की जांच चल रही है। इसकी अलग-अलग टीम लगी है। आरोपी पकड़े जाएंगे।

पुराने मामले अब ठंड बस्ते में
एसएसपी अमरेश मिश्रा ने रायपुर की कमान संभालने के बाद दावा किया था कि जो पुराने मामले है। उसे सुलझाना और आरोपियों को सलाखों के पीछे पहुंचाना उनकी प्राथमिकता है, लेकिन चर्चित छछानपैरी, बोथरा हत्याकांड, नया रायपुर गोली कांड, कविता नगर में बुजुर्ग को बंधकर बनाकर लूट और सेजबहार में पूर्व सरपंच पत्नी की हत्या जैसे कई बड़े मामले अब तक पेडिंग है। इसमें से किसी भी मामले में पुलिस सफलता नहीं मिली है। इनकी फाइले भी अब डंप कर दी गई हैं।

चोरी समेत 30 केस अनसुलझे
शहर में लगातार चोरी की घटना हो रही है। पिछले महीने पॉश इलाकों में से एक स्वर्णभूमि कॉलोनी में दिनदहाड़े एक कारोबारी के घर चोरी हुई है। इस मामले में पुलिस अब तक कोई क्लू नहीं जुटा पाई है। इसी तरह टिकरापारा, समता कॉलोनी, शिवानंद नगर, सड्डू, न्यू शांति नगर में बड़ी चोरी की घटनाएं पेडिंग हैं। 30 से ज्यादा मामलों में पुलिस आरोपियों को ट्रेस नहीं कर पाई है।

करोड़ोंं की ठगी वाले भी बाहर
करोड़ों की ठगी करने वाले अारोपी पुलिस की पकड़े से दूर हैं। उनके खिलाफ नामजद केस दर्ज है। इसमें मेडिकल कारोबारी नवजीत सिंह टूटेजा उर्फ बिट्टू, चार पहिया गाड़ी की मॉडीफाइड करने वाले डीसी कंपनी के संचालक दिलीप सिंह छाबड़ा, नगर सेठ के नाम से चर्चित विमल जैन के बेटा, बेटी और भाई समेत एक बड़े होटल के मालिक शामिल है। चिटफंड कंपनी के कई मालिक अब भी फरार है, जबकि उनके दिल्ली और चंड़ीगढ़ में छिपे होने की खबर पुलिस के पास भी है।

सभी मामलों की जांच हो रही है
डीएसपी क्राइम अभिषेक महेश्वरी के मुताबिक, क्राइम ब्रांच का काम फरार आरोपियों की गिरफ्तारी करना हैं। यहां सभी तरह के मामले देखे जाते है। धोखाधड़ी के साथ लूट, हत्या और चोरी समेत सभी मामलों की जांच निरंतर चल रही है। सभी केस में टीम लगाई गई हैं, जिसमें आरोपी पहले ट्रेस होते हैं, उन्हें पकड़ा जाता है। यहां कभी जांच बंद नहीं होती है।

Click to listen..