--Advertisement--

शराब के विरोध में हंगामा कर रही कांग्रेस पर मंत्री ने ली चुटकी- बोले इन्हें आज दिन में ही बीयर चढ़ गई

विधानसभा में बुधवार को शराब को लेकर जमकर हंगामा हुआ। सत्ता पक्ष और विपक्ष ने एक दूसरे पर जमकर व्यंग्य बाण छोड़े।

Danik Bhaskar | Jul 04, 2018, 06:44 PM IST
प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।

रायपुर। विधानसभा में बुधवार को शराब को लेकर जमकर हंगामा हुआ। सत्ता पक्ष और विपक्ष ने एक दूसरे पर जमकर व्यंग्य बाण छोड़े। कांग्रेस विधायकों ने राज्य में पूर्ण शराब बंदी की मांग को लेकर हंगामा किया फिर सदन से बहिर्गमन भी किया। इस बीच राजस्व मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय ने कहा कि इस पक्ष को आज दिन में कैसे बीयर चढ़ गई है? सुकमा विधायक कवासी लखमा ने पलटवार किया कि आपकी यानी सरकारी बीयर तो असर ही नहीं करती। हम तो आंध्रप्रदेश से मंगवाते हैं।

- प्रश्नकाल में कांग्रेस विधायक भूपेश बघेल ने ये मुद्दा उठाया। उन्होंने आबकारी मंत्री अमर अग्रवाल को घेरा। उन्होंने कहा कि 80-90 फीसदी बीयर सिंबा और सूमो बिक रही है। एक ही ब्रांड की बीयर पीने पर लोगों को क्यों मजबूर किया जा रहा है। क्या इस बीयर का संबंध किसी भाजपा नेता से है। इस पर सदन में विपक्ष हंगामा करने लगा।

- आबकारी मंत्री ने कहा कि वे तथ्यहीन आरोप लगा रहे हैं। बघेल ने कहा कि ये आरोप नहीं है। मंत्री ने कहा कि प्रमाण दें तो मैं कार्रवाई करूंगा। कांग्रेस विधायक वृहस्पति सिंह ने कहा कि ये बड़ी घटिया किस्म की बीयर है। इस पर आबकारी मंत्री अमर अग्रवाल ने तपाक से पूछा कि आपको कैसे मालूम है? सिंह ने जवाब दिया कि हम मंगवाते हैं तो हर दूसरे दिन इसका टेस्ट (जायका) बदल जाता है। मंत्री ने कवासी लखमा से कहा कि आप चुप क्यों हैं? लखमा ने कहा कि घटिया बीयर है। इस पर मंत्री बोले कि मुझे बोलने पर मजबूर मत करो। इस नोक-झोंक में सदन में ठहाके गूंजते रहे। सत्यनारायण शर्मा ने पूरे प्रदेश में शराबबंदी की मांग कर दी। कांग्रेस विधायक अपने स्थान से उठकर शराबबंदी के लिए नारेबाजी करने लगे। फिर उन्होंने बहिर्गमन कर दिया।

शराबबंदी व्यापक परीक्षण का विषय
- आबकारी मंत्री ने बताया कि डिमांड और सप्लाई के आधार पर ब्रांड चलता है। जो ग्राहक पसंद करता है वहीं ब्रांड उसे सप्लाई की जाती है। रही शराबबंदी की बात तो यह व्यापक परीक्षण का विषय है। हम इसका अध्ययन कर रहे हैं।

कंटेंट : राजेश जॉन पाल