Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» कमजोर बना था, मूसलाधार बारिश से डायवर्सन तबाह

कमजोर बना था, मूसलाधार बारिश से डायवर्सन तबाह

भास्कर न्यूज|कांकेर/भानुप्रतापपुर जिले में पिछले वर्ष सूखा पड़ा था लेकिन इस वर्ष पिछले साल से भी कम बारिश हो रही...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 14, 2018, 02:10 AM IST

कमजोर बना था, मूसलाधार बारिश से डायवर्सन तबाह
भास्कर न्यूज|कांकेर/भानुप्रतापपुर

जिले में पिछले वर्ष सूखा पड़ा था लेकिन इस वर्ष पिछले साल से भी कम बारिश हो रही थी। शुक्रवार को सुबह से पूरे जिले में झमाझम बारिश होने से कमजोर बारिश का सिलसिला टूटा जिससे किसानों ने राहत की सांस ली। वहीं शुक्रवार को हुई तेज बारिश से भानुप्रतापपुर-दल्लीराजहरा के बीच निर्माणाधीन पुलिया के लिए बनाया गया कमजोर डायवर्सन बह गया। डायवर्सन बह जाने से इस मार्ग पर आवागमन पूरी तरह बंद हो गया।

भानुप्रतापपुर से दल्लीराजहरा मार्ग पर सड़क निर्माण का कार्य चल रहा है। इसी के तहत पुसावंड नाला पर पुलिया निर्माण कार्य भी चल रहा है। पुलिया निर्माण के चलते वाहनों के आवागमन के लिए डायवर्सन बनाया गया है। ठेकेदार ने डायवर्सन इतना कमजोर बनाया की वह पहली बारिश भी झेल नहीं पाया। डायवर्सन बह जाने से इस मार्ग पर आवागमन ठप हो गया तथा दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई। निर्माणाधीन पुलिया में दो दिन पहले ही स्लैब ढ़लाई की गई थी। डायवर्सन बहने के साथ स्लैब ढालने बांधी गई सैंटरिंग भी गिर गई। नियमत: स्लैब ढ़लने के बाद 15 दिनों तक सैंटरिंग प्लेटों को बांध कर ही रखा जाता है ताकी स्लैब में मजबूती आए। सैंटरिंग गिर जाने से हाल ही में ढ़ाला गया पुल का भारी भरकम स्लैब कमजोर होने की आशंका है। ज्यादा बारिश होने पर स्लैब के ढ़हने का भी खतरा है।

भानुप्रतापपुर से प्रतिदिन इस मार्ग से 35 से 40 यात्री बसें चलती है और उतनी ही बसें मार्ग से वापस आती है। इसके अलावा रोजाना 50 से अधिक टैक्सियां, मालवाहक तथा निजी वाहन बड़ी संख्या में चलते हैं। इसी मार्ग से होकर लोग भानुप्रतापपुर से दल्लीराजहरा होते राजनांदगांव, बालोद, दुर्ग, रायपुर जाते हैं।

अगले दो दिन कांकेर समेत बस्तर में भारी बारिश की चेतावनी

भानुप्रतापपुर। बारिश के कारण भानुप्रतापपुर से दल्लीराजहरा मार्ग पर बह गया डायवर्सन मार्ग।

भारी से भारी बारिश की संभावना: मौसम विभाग

मौसम वैज्ञानिक पीएल देवांगन ने बताया उत्तरी पश्चिम बंगाल की खाड़ी में कम दाब का क्षेत्र बना हुआ है। इसके अलावा छत्तीसगढ़ के ऊपर चक्रवात भी बना है। इससे यहां बारिश हो रही है। इसका प्रभाव कांकेर समेत बस्तर में ज्यादा है। यहां अगले दो दिन में अति से अति भारी बारिश की संभावना है। अगले दो दिनों तक रुक रुक कर बारिश होती रहेगी।

पैदल पार कराना पड़ रहा

डायवर्सन बह जाने से बस तथा टैक्सी संचालक यात्रियों को पुल के एक छोर तक लाते हैं तथा यहां से यात्री पैदल पुल पार करते हैं। आगे की यात्रा के लिए दूसरी ओर खड़ी बस या टैक्सी से जाना होता है। अब ट्रेन ही सहारा बचा है। या तो यात्रियों को भानुप्रतापपुर से कोरर-चारामा होकर लंबा रास्ता तय कर जाना पड़ रहा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×