न्यूज़

  • Hindi News
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • रात 10 के बाद किसी पंप पर नहीं मिलता पेट्रोल, आपात स्थिति में होती है दिक्कत
--Advertisement--

रात 10 के बाद किसी पंप पर नहीं मिलता पेट्रोल, आपात स्थिति में होती है दिक्कत

जिले के किसी भी पेट्रोल पंपों पर रात्रिकालीन सेवा उपलब्ध नहीं है। रात में किसी आपात स्थिति में पेट्रोल-डीजल की...

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 02:15 AM IST
जिले के किसी भी पेट्रोल पंपों पर रात्रिकालीन सेवा उपलब्ध नहीं है। रात में किसी आपात स्थिति में पेट्रोल-डीजल की जरूरत पड़ने पर लोगों को भटकना पड़ता है। सबसे ज्यादा परेशानी रात में मरीजों को हाॅस्पिटल लाने या रेफर केस में बाहर ले जाने वालों को होती है। जिला मुख्यालय और गीदम के दोनों पंपों पर भी यह सुविधा नहीं है, जबकि चारों पंप नेशनल हाइवे पर हैं।

दंतेवाड़ा के चितालंका पेट्रोल पंप पर रात 10 बजे तक और पुलिस लाइन कारली के पंप पर रात 8 बजे तक ही पेट्रोल-डीजल मिलती है। इन पंपों पर रात्रिकालीन सेवा उपलब्ध कराने खाद्य विभाग अब तक दबाव नहीं बना सका है। गीदम के बाद जगदलपुर मार्ग में अगला पेट्रोल पंप 72 किमी दूर मारेंगा में है। दूसरी तरफ बीजापुर मार्ग पर 100 किमी बाद बीजापुर में यह सुविधा मिलती है। यानि दंतेवाड़ा से जगदलपुर की ओर रात में सफर करना हो तो 84 किमी बाद ही जगदलपुर में पेट्रोल पंप मिलता है।

इस बारे में खाद्य निरीक्षक अमित शुक्ला का कहना है कि पंप संचालकों को रात्रिकालीन सेवा शुरू करने के लिए चिट्‌ठी लिखी जा चुकी है। अधिकांश संचालक सुरक्षा कारणों से रातभर पंप खुला रखने में असमर्थता जता रहे हैं, उन्हें रात में कम से कम 10 बजे तक पंप खुला रखने और इसके बाद आपात स्थिति वालों को रात में भी डीजल-पेट्रोल देने को कहा गया है।

कटेकल्याण में पेट्रोल पंप शुरू होने से नहीं अाना पड़ेगा 40 किमी दूर : कटेकल्याण में बनकर तैयार नया पेट्रोल पंप अब तक शुरू नहीं हो सका है। इस पंप में ईंधन की आपूर्ति नहीं हो रही है। इस पंप के शुरू होने पर लोगों को पेट्रोल-डीजल के लिए 40 किमी दूर दंतेवाड़ा तक आने की मजबूरी से निजात मिलेगी। साथ ही तीरथगढ़-कटेकल्याण-दंतेवाड़ा रूट के मुसाफिरों को बीच में ईंधन की सुविधा मिल पाएगी।

मुफ्त हवा भरने की सुविधा किसी भी पंप पर नहीं

जिले में कुल 10 पेट्रोल पंप हैं, जहां वाहनों में मुफ्त हवा भरने की सुविधा नहीं है, जबकि पंप संचालन की अनिवार्य शर्तों में यह सुविधा मुहैया कराना भी शामिल है। लगातार आवाज उठाने के बाद अब दंतेवाड़ा और गीदम के पंपों पर प्रसाधन की सुविधा मिलने लगी है।

X
Click to listen..