• Home
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • जब पहली बार साइकिल मिली तो पूरे शहर में घूमता था कि लोग देख लें यह मेरी साइकिल है
--Advertisement--

जब पहली बार साइकिल मिली तो पूरे शहर में घूमता था कि लोग देख लें यह मेरी साइकिल है

जगदलपुर| मुरिया सदन के लोकार्पण के लिए पहुंचे मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने कहा कि वे यहां 1 हजार बहनों को साइकिल दे रहे...

Danik Bhaskar | Jul 14, 2018, 02:40 AM IST
जगदलपुर| मुरिया सदन के लोकार्पण के लिए पहुंचे मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने कहा कि वे यहां 1 हजार बहनों को साइकिल दे रहे हैं, इससे उनका आत्मविश्वास बढ़ेगा, यदि बाजार जाना हुआ तो उनके पति भी उनसे पूछकर ही साइकिल ले जाएंगे। सीएम ने 45 लाख की लागत वाले मुरिया सदन के लिए 15 लाख की रकम समाज द्वारा जुटाने की सराहना करते हुए कहा कि यह समाज की एकजुटता और जागरुकता का परिचायक है। यहां के जंगल, पहाड़ के साथ इस क्षेत्र को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी इस समाज ने बखूबी संभाली है।

फुटबाल और तीरंदाजी में राष्ट्रीय स्तर पर खेल चुकी बालिकाओं से मुलाकात का जिक्र करते उन्होंने कहा कि यह क्षेत्र प्रतिभाओं से भरा है, संसाधन उपलब्ध होने पर ये बेटियां अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी बस्तर और छत्तीसगढ़ का नाम रोशन कर सकती हैं। प्रयास के बच्चों से मिलकर उन्होंने उनके भविष्य के बारे में पूछताछ की और हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि प्रयास के माध्यम से यहां के बच्चे न केवल इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में जा रहे हैं, बल्कि आईआईएम, आईआईटी जैसे संस्थानों भी प्रवेश पा रहे हैं। उनका सपना है कि यहां के बच्चे कलेक्टर-एसपी बनकर इसी इलाके में आएं और सेवा करें।

पांच साल और दें 4 गुना ज्यादा तरक्की देंगे: सीएम ने कहा कि अगले पांच साल के कार्यकाल में वर्तमान की तुलना में 4 गुना ज्यादा तरक्की राज्य को देंगे। इस बार मुरिया सदन का लोकार्पण किया है अगली बार यहां आएंगे तो महिलाओं को स्मार्ट फोन देंगे। बस्तर को टेलीकॉम कनेक्टिविटी से भी जोड़ा जा रहा है।

जगदलपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमनसिंह ने मुरिया सदन के लोकार्पण के दौरान मेडिकल और इंजीनियरिंग में चयनित बच्चों को आशीर्वाद दिया।

दस साल बाद नगरनार भिलाई की तरह मिनी इंडिया बन जाएगा

मुख्यमंत्री ने बस्तर के विकास में नगरनार स्टील प्लांट की महत्वपूर्ण भूमिका बताते हुए कहा कि 8 सौ की बाबादी वाला भिलाई एक छोटा सा गांव था, आज यह बड़ा शहर है। यही नगरनार आने वाले दस साल बाद भिलाई की तरह एक छोटे भारत की तरह पूरा शहर बन जाएगा। कई उद्योग यहां स्थापित होंगे, जिससे विकास की रफ्तार बढ़ेगी। बस्तर को रेल कनेक्टिविटी से जोड़ने का कार्य किया जा रहा है। भानुप्रतापपुर तक रेल सेवा प्रारंभ हो चुकी है और अब कोंडागांव होते हुए जगदलपुर को रेलमार्ग से जोड़ने का कार्य भी तेजी से चल रहा है।