न्यूज़

  • Home
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • अंतरराज्यीय बस स्टैंड को चलाने किसी ठेकेदार ने नहीं भरी निविदा
--Advertisement--

अंतरराज्यीय बस स्टैंड को चलाने किसी ठेकेदार ने नहीं भरी निविदा

अंतरराज्यीय बस स्टैंड के संचालन के लिए ट्रिपल पी ( पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) लागू करने की नगर निगम की मंशा पर एक...

Danik Bhaskar

May 03, 2018, 02:45 AM IST
अंतरराज्यीय बस स्टैंड के संचालन के लिए ट्रिपल पी ( पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) लागू करने की नगर निगम की मंशा पर एक बार फिर पानी फिरता दिख रहा है।

इस योजना को अंजाम देने के लिए सामने आए ठेकेदारों ने इसे सिरे से नकार दिया है। योजना को अमलीजामा पहनाने के लिए आगे आने के इच्छुक कुछ निविदाकर्ताओं का कहना था कि बस स्टैंड के संचालन की जो कीमत निगम चाह रहा है वह उनके लिए फायदेमंद नहीं है। गौरतलब है कि इस बस स्टैंड से हर दिन छग, ओडिशा, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना से हर दिन करीब 400 से अधिक बसों की आवाजाही होती है जिसमें 10 हजार यात्री इस सुविधा का लाभ लेते हैं। छग के अलावा अन्य राज्यों से आने वाली बसों के साथ ही उनके स्टाफ के लिए निगम के इस बस स्टैंड पर कोई व्यवस्था न होने से राज्य की बदनामी दूसरे राज्यों तक होती है।

सुविधाएं अटकी

बस स्टैंड को ठेके पर नहीं चला पाया नगर निगम, अव्यवस्थाओं से जूझ रहे यात्री, दोबारा टेंडर जारी करने में जुटा नगर निगम, पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप की योजना फेल

जगदलपुर. अंतरराज्यीय बस स्टैंड में बेतरतीब खड़े वाहन।

सफाई की व्यवस्था नहीं, पेयजल के लिए परेशान होते हैं

अंतरराज्यीय बस स्टैंड पर इन दिनों निगम की ओर से की जा रही कोई भी व्यवस्था सही ढंग से संचालित नहीं हो पा रही है। परिसर का अधिकांश हिस्सा गंदगी से पटा है। दूसरी ओर रात में परिसर के अधिकतर हिस्से में अंधेरा पसरा रहता है। इसके अलावा मुसाफिरों को प्यास बुझाने के लिए होटलों का सहारा लेना पड़ रहा है। निगम ने बस स्टैंड की सफाई के लिए यहां पर 6 कर्मचारियों को रखा है वहीं पेयजल की व्यवस्था अब तक नहीं हो पाई है।

ठेकेदार एेसे करेगा कमाई : निगम के कर्मचारियों ने बताया कि जो भी ठेकेदार इस काम की जिम्मेदारी लेगा वह पैसों की वसूली पार्किंग और वाहनों की इंट्री के साथ ही एग्जिट शुल्क वसूलेगा। इससे होने वाली आमदनी में से एक हिस्सा वह निगम को देगा।

यह व्यवस्था करनी होगी ठेकेदार को बस स्टैंड पर

निगम के मुताबिक इस योजना को मूर्त रूप देने वाले ठेकेदार को बस स्टैंड के संचालन में बुनियादी रूप से साफ-सफाई, पानी ,बिजली, पार्किंग की व्यवस्था और शौचालय की सफाई भी करवानी है। इस काम को अंजाम देने के लिए निगम को उसे हर साल करीब 4 लाख रुपए देने होंगे। गौरतलब है कि बस स्टैंड का ठेका तीन साल के लिए दिए जाने की बात कही गई है।




Click to listen..