--Advertisement--

60 साल से बसा अंधविश्वास खत्म हुआ, फिर सजा बाजार

यहां से 40 किलोमीटर दूर नगरनार इलाके के कस्तूरी गांव में अंतरराज्यीय साप्ताहिक बाजार 60 साल पहले एक अंधविश्वास के...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:00 AM IST
60 साल से बसा अंधविश्वास खत्म हुआ, फिर सजा बाजार
यहां से 40 किलोमीटर दूर नगरनार इलाके के कस्तूरी गांव में अंतरराज्यीय साप्ताहिक बाजार 60 साल पहले एक अंधविश्वास के चलते बंद हो गया था। इस बाजार की शुरुआत सोमवार को दोबारा कर दी गई है। पहले ही दिन 47 दुकानें लगीं और करीब चार घंटे में ही यहां एक लाख रुपए से ज्यादा का कारोबार भी हो गया। गांव के सरपंच वनमाली नाग ने बताया कि सालों पहले एक के बाद एक गांव में 7 मौतें हो गई थीं। इसके बाद गांव में ऐसा अंधविश्वास फैला कि लोगों ने साप्ताहिक बाजार ही बंद करवा दिया। उस दौरान मौतें क्यों हुईं यह तो किसी को नहीं पता लेकिन आज सभी यह समझ रहे थे कि मौतों का बाजार से कोई लेना देना नहीं था। ऐसे में कोटवार सखीराम नाग सहित अन्य लोगों से बाजार को शुरू करवाने के लिए सलाह ली गई फिर जिला प्रशासन के अफसरों से चर्चा की और गांव में दोबारा इस बाजार की शुरुआत करवाई है।

इष्ट देवी की पूजा तहसीलदार को भी बुलाया, फिर कारोबार किया शुरू : गांव में बाजार दोबारा शुरू करने से पहले इष्ट देवी-देवताओं की पूजा अर्चना की गई। इसमें शामिल होने के लिए क्षेत्र के तहसीलदार मलय विश्वास को भी बुलाया गया था। शाम सवा चार बजे के करीब शुभ मुहूर्त में पूजा-पाठ की गई और फिर खरीदी-बिक्री की शुरूआत की गई।

हुए जागरूक

60 साल पहले अज्ञात कारणों से 7 मौतें, पहले ही दिन हुआ एक लाख का कारोबार, ओडिशा से भी लोग पहुंचे, 47 दुकानें लगीं

जगदलपुर. गांव में इस तरह से भी दुकानें लगीं।

हर जरूरत का समान, बर्तन से लेकर मिठाई तक

बाजार में पहले ही दिन करीब 47 दुकानें लगीं। इनमें फल, सब्जी, बर्तन, मिट्‌टी के बर्तन, कपड़े, मिठाई सहित अन्य सामान लेकर ग्रामीण पहुंचे थे। बाजार में जरूरत का हर सामान लोगों को मिला। चूंकि यहां सालों बाद बाजार खुला था ऐसे में अपेक्षा के अनुरूप भीड़ थोड़ी कम थी। माना जा रहा है कि अगले सप्ताह से इस बाजार में पांच लाख से ज्यादा का कारोबार होगा।

अंतरराज्यीय बाजार: ओड़िशा के चार गांव के लोग भी यहां पहुंचे

कस्तूरी में सोमवार को लगने वाले इस साप्ताहिक बाजार में 60 साल पहले भी ओड़िशा के लोग खरीदी-बिक्री के लिए आते थे। सोमवार को जब दोबारा यह बाजार शुरू हुआ तो यहां ओड़िशा के चांदली, सिद्दी , भालपतरी, मुरताहांडी के लोग खरीदी-बिक्री के लिए पहुंचे। इसके अलावा कस्तूरी से सटे बनियागांव, तारापुर, छुरागांव, बासली, नगरनार, मंगनपुर, आमागुड़ा, माड़पाल, बमनी, उपनपाल, बीजापुट, करणपुर के लोग भी यहां आए।

अब इलाके में तीन बाजार

कस्तूरी में बाजार खुलने के बाद अब नगानार इलाके में सप्ताह में तीन बाजार भरेंगे, सोमवार को कस्तूरी, मंगलवार को माड़पाल और शुक्रवार को नगरनार में बाजार भरेगा।

X
60 साल से बसा अंधविश्वास खत्म हुआ, फिर सजा बाजार
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..