--Advertisement--

‘जय बस्तर पुलिस’ की बनाई कॉलर ट्यून तो आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की हत्या

नक्सलियों ने मर्दापाल के कोकाेड़ी गांव में तैनात आंगनबाड़ी सहायिका सरिता (20) की गला घोंटकर हत्या कर दी। बताया जा रहा...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:10 AM IST
नक्सलियों ने मर्दापाल के कोकाेड़ी गांव में तैनात आंगनबाड़ी सहायिका सरिता (20) की गला घोंटकर हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि सरिता ने अपने मोबाइल में कॉलर ट्यून ‘जय बस्तर पुलिस’ लगा रखी थी। बस यही नक्सलियों को नागवार लगा और गांव में घुसकर मार डाला। वारदात 23 अप्रैल की बताई जा रही है। ग्रामीणों के बीच नक्सलियों की इतनी दहशत है कि किसी ने इसकी जानकारी पुलिस को नहीं दी। हत्या के बाद गांव के ही पास उसे दफन कर दिया गया। सोमवार को पुलिस के कुछ जवान गश्त पर पहुंचे तो मामले का खुलासा हुआ। पुलिस ने सहायिका का शव कब्र से निकलवाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। पुलिस का दावा है कि सरिता का सगा भाई रमेश जो नक्सल समर्थक है, वह भी वारदात के दौरान मौजूद था। उसने बहन को छोड़ देने के लिए गुहार लगाई लेकिन नक्सलियों ने उसकी एक नहीं सुनी और सरिता की जान ले ली। शेष|पेज 4

नक्सलियों ने कॉलर ट्यून चेक की, मुखबिर का नंबर भी मिला

पुलिस टीम की तफ्तीश के मुताबिक 23 अप्रैल को कुछ नक्सली गांव पहुंचे। उन्होंने सरिता से मोबाइल मांगा और जांच करने लगे। उन्हें जय बस्तर पुलिस वाली कॉलर ट्यून मिली। फोन डायरेक्टरी में उन्हें एक युवक का नंबर भी मिला जो पुलिस विभाग में गोपनीय सैनिक के तौर पर काम रहा था। नक्सलियों ने इसके बाद सरिता की हत्या कर दी।



एसडीएम की मौजूदगी में खुदेगी कब्र, फिर होगा पीएम :

एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव ने बताया कि सरिता के शव को कब्र से निकालने के लिए अनुविभागीय अधिकारी को आवेदन देंगे। अनुमति के बाद शव निकालकर पीएम होगा। इसके बाद ही नक्सलियों के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध हो सकेगा। महिला बाल विकास अधिकारी रविकांत धुर्वे ने बताया कि घटना से पूरा विभाग आहत है। सहायिका के परिवार को विभाग की ओर से 50 हजार की मदद दी जा रही है।



X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..