• Home
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • सोने के दाम 5 माह के निचले स्तर पर पहुंचे निवेश और ज्वैलरी दोनों की मांग घटी
--Advertisement--

सोने के दाम 5 माह के निचले स्तर पर पहुंचे निवेश और ज्वैलरी दोनों की मांग घटी

Danik Bhaskar | Jul 14, 2018, 03:15 AM IST

नई दिल्ली| लगातार चार दिन गिरने के बाद घरेलू बाजार में सोने की कीमत पांच महीने के निचले स्तर पर पहुंच गई है। दिल्ली सराफा बाजार में शुक्रवार को इसकी कीमत 95 रु. घटकर 31,115 रुपए प्रति 10 ग्राम रही। यह इस साल 8 फरवरी के बाद सबसे कम कीमत है। उस दिन यह 600 रु. सस्ता होकर 30,950 प्रति दस ग्राम पर था। चांदी की कीमत गुरुवार के बंद भाव 40,030 रु. प्रति किलोग्राम पर स्थिर बनी रही। यह इसकी करीब तीन माह में सबसे कम कीमत है। शेष|पेज 6



अंतरराष्ट्रीय बाजार की बात करें तो सोने की कीमत दबाव में है। सिंगापुर में हाजिर सोने की कीमत शुक्रवार को 0.47% घटकर 1,241.10 डॉलर प्रति औंस रही। वहीं, चांदी 0.66% घटकर 16.82 डॉलर प्रति औंस रही।

-----

इसलिए सस्ता हुआ सोना :

- अमेरिका में महंगाई के आंकड़े जारी होने से डॉलर को बल मिला।

- डॉलर के मजबूत होने से सोने में निवेश का आकर्षण कम हुआ।

- स्थानीय वैवाहिक मांग के न होने से भी सेंटिमेंट कमजोर हुआ।

- स्थानीय ज्वैलर्स-खुदरा विक्रेताओं से ओर से भी मांग कम निकली।

-----

दो महीने में दाम 1,300 रुपए घटे

8 फरवरी - 30,950

28 फरवरी - 31,390

15 मार्च - 31,450

31 मार्च - 31,350

14 अप्रैल - 32,100

30 अप्रैल - 32,200

15 मई - 32,450

31 मई - 32,000

15 जून - 32,190

30 जून - 31,420

13 जुलाई - 31,115

(दिल्ली में सोने की रु./10 ग्राम)

- 8% सस्ता हुआ है ग्लोबल मार्केट में तीन महीने में सोना। अप्रैल के मध्य में कीमत 1,350 डॉलर प्रति औंस थी, अब 1,241 डॉलर है।

---

वैश्विक कीमतों के मुकाबले घरेलू बाजार में नहीं घटे दाम:

विश्लेषकों के मुताबिक डॉलर में तेजी से ग्लोबल मार्केट में सोने की कीमतों पर दबाव है। अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व अगस्त के मध्य में ब्याज दरें बढ़ा सकता है। इस अंदेशे में सोने के भाव कम बने हुए हैं। खास बात यह है कि पिछले कुछ समय में अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने के दाम जितने घटे हैं, उतने भारतीय बाजार में नहीं घटे। इसकी वजह रुपए के कमजोर होने से सोने का आयात महंगा होना है।

-----



दिवाली तक तेजी नहीं

पैराडाइम कमोडिटीज, अहमदाबाद के सीईओ बीरेन वकील का मानना है कि दिवाली तक सोने में तेजी की गुंजाइश नहीं है। अभी शेयर, म्यूचुअल फंड और निवेश के अन्य माध्यमों में अधिक रिटर्न मिल रहा है।