न्यूज़

  • Home
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • इलाज में देरी, नाराज युवक ने जूडो को जड़ा तमाचा इमरजेंसी सेवा ठप कर निकले, 4 घंटे इलाज नहीं
--Advertisement--

इलाज में देरी, नाराज युवक ने जूडो को जड़ा तमाचा इमरजेंसी सेवा ठप कर निकले, 4 घंटे इलाज नहीं

अंबेडकर अस्पताल में सोमवार की रात किडनी रोग विभाग की आईसीयू में एक मरीज के बेटे ने जूनियर डाक्टर को तमाचा मार...

Danik Bhaskar

Apr 17, 2018, 03:20 AM IST
अंबेडकर अस्पताल में सोमवार की रात किडनी रोग विभाग की आईसीयू में एक मरीज के बेटे ने जूनियर डाक्टर को तमाचा मार दिया। उसके बाद बवाल मच गया। इमरजेंसी ड्यूटी छोड़कर सारे जूनियर डाक्टर आपात चिकित्सा अधिकारी सीएमओ के कक्ष के पास जमा हो गए। उन्होंने हमलावर युवक की तुरंत गिरफ्तारी नहीं किए जाने हड़ताल पर जाने की घोषणा कर दी।

इसकी खबर मिलते ही अस्पताल अधीक्षक सहित अन्य अधिकारी आनन-फानन में पहुंचे। डाक्टरों को समझाइश दी और तुरंत प्रशासनिक अमले को मारपीट की रिपोर्ट दर्ज कराने भेजा। उसके बाद जूनियर डाक्टर शांत हुए। हालांकि इस विवाद के कारण अस्पताल में करीब 4 घंटे इमरजेंसी सेवांए ठप रहीं। मरीजों की देखभाल नर्सों और पैरामेडिकल स्टाफ ने की। जूनियर डाक्टर चेतावनी देकर ड्यूटी पर लौटे हैं। आरोपी युवक की गिरफ्तारी नहीं होने पर उन्होंने मंगलवार की शाम 5 बजे अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की घोषणा की है। जूनियर डाक्टर युवक के साथ घटना के दौरान मौजूद उसकी एक महिला रिश्तेदार की भी गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। अस्पताल में देर शाम लगभग साढ़े सात बजे घटनाक्रम शुरू हुआ और रात तकरीबन 11 बजे तक चलता रहा। इस दौरान किसी भी वार्ड में जूनियर डाक्टर नहीं थे। मरीजों का इलाज नर्सें और पैरामेडिकल स्टाफ ही कर रहा था।

क्या हुआ वार्ड में : सिविल लाइन के शिव दुबे किडनी रोग विभाग में भर्ती हैं। उनका चार-पांच दिनों से डायलिसिस चल रहा है। सोमवार की शाम 7 बजे उनकी तबियत खराब होने लगी। परिजनों ने डॉक्टरों से इलाज करने का आग्रह किया। जब बार-बार आग्रह के बाद भी इलाज के लिए डॉक्टर नहीं पहुंचे तो परिजनों का गुस्सा भड़क गया। इसी बीच निश्चेतना विभाग के एक डाक्टर किसी मरीज को देखने पहुंचे। मरीज के परिजन समझ नहीं सके कि ये कौन से डाक्टर हैं।

पिता के इलाज में देरी से खिन्न युवक ने निश्चेतना के डाक्टर को ही घेर लिया। उन्होंने जब इलाज करने से मना किया तो उसने तमाचा मार दिया। थोड़ी देर में खबर जूनियर डाक्टरों के बीच फैल गई। साढ़े 7 बजे के आसपास सीएमओ कार्यालय के पास डाक्टरों की भीड़ जमा हो गई। हॉस्टल से भी डाक्टर पहुंच गए। सीएमओ में भीड़ के कारण इमरजेंसी में आने वाले मरीजों को वार्ड भेजने में काफी मुश्किल हुई। बलौदाबाजार के गिरिजाशंकर को लगातार उल्टी हो रही थी। वह मुश्किल से सीएमओ के पास पर्ची देने जा सके।

युवक का आरोप उनकी मां को धक्का दिया जूडो

दूसरी ओर जूडो को थप्पड़ मारने वाले युवक का कहना है कि इलाज की गुजारिश करने के बाद भी डॉक्टर मरीज का इलाज नहीं कर रहे थे। इससे उनकी मां को गुस्सा आ रहा था। इस पर उन्होंने जूडो से यही कहा कि मरीज की स्थिति खराब हो रही है, इसलिए तत्काल इलाज शुरू कर दें। ऐसा सुनते ही जूडो नाराज हो गए और उनकी मां को धक्का दे दिया। इससे उनकी मां गिर गई। इसी से झगड़ा बढ़ा

वर्जन

जूडो के साथ मारपीट उचित नहीं है। ऐसी घटनाओं से डाक्टरों का मनोबल गिरता है। वार्डों में गार्डों की संख्या बढ़ाई जाएगी, जिससे इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति न हो।

डाॅ. विवेक चौधरी, प्रभारी डीन

.........

जूडो के साथ परिजन आए दिन मारपीट करते हैं। हम सुरक्षा की भावना से काम कर रहे हैं। आरोपी को मंगलवार शाम तक गिरफ्तार नहीं किया गया तो हम अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे।

डाॅ. श्रेयस जायसवाल, अध्यक्ष जेडीए

Click to listen..