Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» बी-फॉर्मा की परीक्षा 10 माह बाद भी नहीं, सेमेस्टर खत्म होने से पहले ही वसूल ली दूसरे सेमेस्टर की फीस

बी-फॉर्मा की परीक्षा 10 माह बाद भी नहीं, सेमेस्टर खत्म होने से पहले ही वसूल ली दूसरे सेमेस्टर की फीस

रायपुर

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 13, 2018, 03:20 AM IST

रायपुर डीबी स्टार

डीबी स्टार टीम को छात्रों से जानकारी मिली कि एक वर्ष बीतने आने को है और बीफॉर्मा के पहले सेमेस्टर की परीक्षा ही नहीं हुई है। टीम ने इसकी पड़ताल की तो खुलासा हुआ कि सितंबर 2017 में 47 स्टूडेंट्स ने बीफॉर्माे कोर्स के लिए एडमिशन लिया। इस दौरान आयुष विश्वविद्यालय ने उन स्टूडेंट्स से दूसरे सेमेस्टर की फीस भी पहले ही सेमेस्टर के दौरान वसूल ली। इतना ही नहीं, समय सीमा के भीतर परीक्षा कराने के बजाय अब तक पहले सेमेस्टर की परीक्षा नहीं कराई गई। अब यूर्निवसिटी प्रबंधन यह दलील दे रहा है कि सीसीआई से अनुमति नहीं मिलने की वजह से पहले सेमेस्टर की परीक्षा नहीं करवाई जा सकी। इससे स्टूडेंट्स के भविष्य पर असर पड़ रहा है।

वेबसाइट पर दिया गया नंबर भी गलत, नहीं होता संपर्क

आयुष विश्वविद्यालय के लिए वेबसाइट पर छात्रों के लिए जो नंबर दिया गया है। उस नंबर पर फोन लगाने पर नहीं लगता है। इससे छात्रों को परेशानी होती है। वहीं इसके अलावा कोई भी जिम्मेदार भी नहीं है जिससे इन छात्रों को किसी प्रकार का जबाव मिल सके। सबसे बड़ी बात यह है कि इन छात्रों को पढ़ाने वाले ज्यादातर शिक्षक संविदा में है जिनके पास पढ़ाने के अलावा किसी प्रकार की जिम्मेदारी नहीं है।

अब प्रभारी बोले 20 जुलाई से होगी परीक्षा

 बीफॉर्मा के कोर्स को संचालन के लिए सीसीआई से निर्देश सितंबर 2017 में आया था। जिससे पहले सेमेस्टर के एग्जाम में देरी हो गई है। 20 जुलाई से पहले सेमेस्टर की परीक्षा शुरु होगी। डॉ. मनीष राठौर, प्रभारी ,बी-फॉर्मा, आयुष विश्वविद्यालय

फैक्ट फाइल

छात्रों की संख्या

47

सभी छात्रों की फीस

32 हजार रुपए प्रति छात्र दो सेमेस्टर की है फीस, प्रबंधन ने पहले ही ले ली

एक छात्र से दो सेमेस्टर के लिए विश्वविद्यालय प्रबंधन ने 32 हजार रुपए प्रति छात्र के हिसाब से फीस ली गई है। 47 छात्रों से विवि प्रबंधन ने 15 लाख रुपए फीस के रुप में लिया गया है। वहीं छात्रांे को आगामी 6 सेमेस्टर के लिए अभी 45 लाख रुपए और लिया जाना है।

6 महीने में होनी थी सेमेस्टर परीक्षा

विश्वविद्यालय प्रबंधन की मानें तो एक सेमेस्टर की परीक्षा 6 महीने में ली जानी थी। इसी समयावधि में एक सेमेस्टर का काेर्स भी पूरा करना होता है। लेकिन यहां शिक्षकों की कमी के चलते पहले सेमेस्टर के कोर्स ही पूरा नहीं हो पाया है। पहले सेमेस्टर की परीक्षा फरवरी में हो जानी थी। वहीं दूसरे सेमेस्टर की परीक्षा अगस्त से सितंबर के बीच होनी चाहिए। वहीं जब करीब दस महीने बाद तक पहले सेमेस्टर की ही परीक्षा नहीं हो पाई है तो दूसरे सेमेस्टर की परीक्षा का सवाल ही नहीं उठता है।

नया रायपुर में करना है शिफ्ट

आयुष विश्वविद्यालय में चल रहे बी फॉर्मा के कोर्स को आगामी सत्र में नया रायपुर में शिफ्ट करना हैं। वहां इसके लिए भवन निर्माण का कार्य पूरा हो चुका है। आयुष विवि के जिम्मेदारों का कहना है बीफॉर्मा के कोर्स के संचालन का निर्देश सीसीआई से सितंबर 2017 में आया था। जिसके बाद इस कोर्स के लिए एडमिशन शुरु किया। जिससे पहले सेमेस्ट का एग्जाम लेट हो रहा है।

बी फॉर्मा के सेमेस्टर चार साल में

08

60लाख रुपए

प्रति छात्र फीस

01

28000 रुपए

4 साल में पूरा करने हैं 8 सेमेस्टर

बी फॉर्मा के लिए 4 साल में 8 सेमेस्टर का कोर्स पूरा करना है। लेकिन ऐसे ही हालात रहे तो आगे का काेर्स कैसे निर्धारित समय में पूरा होगा। इतना ही नहीं, एक-एक सेमेस्टर चार से पांच माह पीछे चल रहे है, जबकि स्टूडेंट्स के पहले सेमेस्टर की पढ़ाई पूरी हो चुकी है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×