न्यूज़

--Advertisement--

बच्चों ने गौतम बुद्ध के विचारों पर लिखे निबंध, सेवा के कार्यक्रम भी

पूर्णिमा तिथि पर गौतम बुद्ध की जयंती सोमवार को मनाई गई। इस मौके पर शहर के बौद्ध विहारों में दिनभर विविध धार्मिक...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:25 AM IST
बच्चों ने गौतम बुद्ध के विचारों पर लिखे निबंध, सेवा के कार्यक्रम भी
पूर्णिमा तिथि पर गौतम बुद्ध की जयंती सोमवार को मनाई गई। इस मौके पर शहर के बौद्ध विहारों में दिनभर विविध धार्मिक कार्यक्रम आयोजित हुए। त्रिशरण और पंचशील का पाठ किया गया। गुढ़ियारी स्थित बौद्ध विहार में बड़ी संख्या में लोग जुटे और जयंती मनाई।

इस क्रम में राज्य अल्पसंख्यक आयोग ने राजधानी के गांधी उद्यान में पीपल वृक्ष के नीचे बुद्ध प्रतिमा के समक्ष बौद्ध सम्मेलन का आयोजन किया। इस दौरान स्कूल-कॉलेज के विद्यार्थियों और प्रबुद्ध नागरिकों के लिए निबंध, चित्रकला और भाषण प्रतियोगिता तथा संगोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में राज्य अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह केंबो, सदस्यगण तौकीर रजा तथा बौद्ध धम्म गुरु भदंत डॉ. बुद्धर| संबोधि (महाथेरो) कामठी, भंते महेन्द्र, भदंत संधसेना ब्रम्हचारीनागर| और आशा चौधरी प्राध्यापक दर्शन शास्त्र छत्तीसगढ़ महाविद्यालय रायपुर तथा सूर्या इंडियन कार्यक्रम के निर्णायक गण उपस्थित थे। निबंध प्रतियोगिता का विषय विश्व शांति स्थापित करने में बुद्ध के विचारों का योगदान था। बुद्ध के ध्यान की विधि का युवाओं के बेहतर भविष्य में महत्व पर संगोष्ठी हुई। संसार के दुखों से मुक्ति हेतु मध्यम मार्ग की प्रासंगिकता विषय पर भाषण प्रतियोगिता रखी गई। कार्यक्रम के समापन के पश्चात पुरस्कार एवं सम्मान पत्र दिए गए।

सखी महिला मंडल ने किया छांछ वितरण

बुद्ध पूर्णिमा के मौके पर चिंताहरण हनुमान मंदिर में सखी महिला मंडल ने छाछ वितरण किया। इस मौके पर उमा जोशी, मंजू शर्मा, मंजू बजाज, सुधा ढेरे, अर्चना इंगुलकर, छाया ढेरे, शैलेंद्री परगनिहा आदि शामिल रहे।

प्रासंगिक और प्रेरक हैं भगवान बुद्ध के विचार: सीएम

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने 30 अप्रैल को भगवान गौतम बुद्ध की जयंती के अवसर पर जनता को बधाई और शुभकामनाएं दी । उन्होंने शुभकामना संदेश में कहा कि सत्य, अहिंसा, दया और करुणा जैसे सर्वोत्तम मानव मूल्यों पर आधारित भगवान बुद्ध के मूल्यवान विचार ढाई हजार साल का लंबा वक्त गुजर जाने के बावजूद आज भी प्रासंगिक और प्रेरणादायक हैं। छत्तीसगढ़ के जनजीवन पर भी सैकड़ों वर्षों से भगवान बुद्ध के उपदेशों का गहरा और अमिट प्रभाव रहा है।

X
बच्चों ने गौतम बुद्ध के विचारों पर लिखे निबंध, सेवा के कार्यक्रम भी
Click to listen..