न्यूज़

  • Home
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • दिल्ली में अटका सिर्फ रायपुर का कोड, सवा लाख स्मार्ट कार्ड फंसे
--Advertisement--

दिल्ली में अटका सिर्फ रायपुर का कोड, सवा लाख स्मार्ट कार्ड फंसे

दिल्ली से यूनिक रिक्वेस्ट प्रदेश के 14 जिलों के लिए तो आ गई, लेकिन केवल रायपुर जिले का कोड अटक गया है। इस वजह से यहां...

Danik Bhaskar

Apr 17, 2018, 03:25 AM IST
दिल्ली से यूनिक रिक्वेस्ट प्रदेश के 14 जिलों के लिए तो आ गई, लेकिन केवल रायपुर जिले का कोड अटक गया है। इस वजह से यहां के बचे हुए सवा लाख लोगों का स्मार्ट कार्ड अटक गया है। हेल्थ अफसरों के मुताबिक रायपुर का कोड दिल्ली में क्यों अटका, यह बात अब तक वहां से स्पष्ट नहीं की गई है। लेकिन जब तक कोड नहीं आता, तब तक नए और छूटे हुए लोगों का स्मार्ट कार्ड बनाना संभव नहीं है। इन सभी लोगों ने नवंबर में स्मार्ट कार्ड के लिए आवेदन दिए थे, जिन्हें शासन ने दिल्ली भेज दिया था। तब से लोगों को इसका इंतजार है।

स्वास्थ्य विभाग ने नवंबर में छूटे हुए लोगों के नौ लाख 92 हजार फार्म जमा करवाए थे। सभी फार्म की एंट्री व स्क्रूटिनी होने के बाद नामों को दिल्ली भेजा गया है। दिसंबर में सूची भेजी गई थी, लेकिन कोड नहीं आने से समस्या बढ़ गई है। जनवरी में कोड आ जाना था, लेकिन रायपुर का कोड नहीं आ रहा है। बाकी 14 जिलों में कोड आ गया है। अधिकारियों का कहना है कि वहां से कोड आते ही शिविर लगाकर स्मार्ट कार्ड बनाए जाएंगे। कहां शिविर लगाना है, यह तय कर लिया गया है। सभी वार्डों में शिविर लगेंगे। प्रदेश में 55 लाख 62 हजार स्मार्ट कार्ड एक्टिव हैं। इनके अलावा छूटे हुए लोगों से सितंबर से नवंबर तक फार्म जमा करवाया गया। इस बार नए व पुराने स्मार्ट कार्ड को आधार नंबर से लिंक किया जाएगा, ताकि फर्जी स्मार्ट कार्ड वाले मुफ्त इलाज का लाभ न उठा सकें।



इस बीच, अधिकांश पात्र मरीज अस्पताल से या तो बिना इलाज कराए लौट रहे हैं या कैश पेमेंट कर रहे हैं।

अंबेडकर में आधार जरूरी

स्मार्ट कार्ड वाले मरीजों का कार्ड अभी आधार से लिंक नहीं किया गया है। यही कारण है कि अंबेडकर समेत निजी अस्पतालों में आधार नंबर को अनिवार्य कर दिया गया है। निजी अस्पतालों में इसमें सख्ती भी बरती जा रही है। डॉक्टरों का कहना है कि किसी मरीज की माैत होने के बाद फार्म में अाधार नंबर लिखना अनिवार्य है। इसलिए मरीजों से आधार नंबर ले रहे हैं।

Click to listen..