Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» संभावित बगावत रोकने पीसीसी ने नेताओं को दी सीख- रहें एकजुट

संभावित बगावत रोकने पीसीसी ने नेताओं को दी सीख- रहें एकजुट

चुनाव लड़ने के लिए इस्तीफे का दौर शुरू हाेने के बाद पीसीसी ने अभी से डैमेज कंट्रोल शुरू कर दिया है। कोर कमेटी के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 13, 2018, 03:25 AM IST

चुनाव लड़ने के लिए इस्तीफे का दौर शुरू हाेने के बाद पीसीसी ने अभी से डैमेज कंट्रोल शुरू कर दिया है। कोर कमेटी के सदस्यों को इस्तीफा देकर टिकट की दावेदारी कर रहे ऐसे नेताआें पर नजर रखने कहा गया है जो टिकट न मिलने पर विरोधी पार्टी में जा सकते हैं।

पीसीसी चीफ भूपेश बघेल के बंगले में हुई कोर ग्रुप की बैठक में टिकट वितरण आैर चुनाव प्रणाली का पाॅवर पाइंट प्रजेंटेशन भी दिया गया। तय किया गया सरकार से नाराज होकर आंदोलन करने वाले संगठनों पर खास नजर रखें। साथ ही पार्टी से नाराज लोगों को एकजुट रखने की सीख दी गई। बैठक में यह बात भी उठी कि दावेदारी करना आैर टिकट मिलना दोनों अलग-अलग चीजें हैं। इसलिए ऐसे नेताआें से पार्टी के लिए ही काम करवाना उनकी जिम्मेदारी है। परिवर्तन यात्रा शुरू करने को लेकर भी रणनीति तैयार की गई। बैठक के दौरान जिले आैर प्रदेश स्तर पर बनाई जा रही कार्यकारिणी को लेकर भी गंभीरता से बातचीत की गई। शेष|पेज 8



पीसीसी द्वारा जिला आैर ब्लाक कांग्रेस कमेटियों के पदाधिकारियों की घोषणा की जा रही है। इसके बाद पीसीसी की कार्यकारिणी भी घोषित की जाएगी। बैठक के दाैरान सभी नेताआें से उनके ऐसे समर्थकों के नाम मांगे गए जिन्हें पीसीसी में जगह दी जानी है। बघेल ने कहा कि पीसीसी में योग्य लोग ही होंगे। बैठक में नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव, कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. शिव डहरिया, रामदयाल उइके, चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष डाॅ. चरणदास महंत, सत्यनारायण शर्मा, रविन्द्र चौबे, धनेन्द्र साहू, मोहम्मद अकबर आदि मौजूद थे।



प्रेजेंटेशन से बताया- नाराज वर्ग को पक्ष में करेंगे

बैठक में पाॅवर प्वाइंट प्रजेंटेशन भी दिया गया। पीसीसी अध्यक्ष ने इसके जरिए बताया कि किस तरह बूथ स्तर पर लोगों काे मैनेज करना होगा आैर कैसे मतदान की प्रक्रिया को बढ़ाया जाएगा। लोगों को अपने पक्ष में करने के लिए किस तरह सत्ताधारी दल की कमियों को उजागर करते हुए प्रदेश के उन लोगों को अपने पक्ष में करना होगा जो सरकार से नाराज हैं। खासकर पिछले तीन-चार महीनों में अन्य जितने संगठनों ने धरना-प्रदर्शन किया है, उन सबको साधने के लिए खास प्लानिंग की गई है। सबको भरोसा दिलाना होगा कि कांग्रेस की सरकार बनते ही उनकी मांगें पूरी की जाएगी।

एक-दूसरे के खिलाफ बयानबाजी पर रोक

बैठक में टिकट वितरण की प्लानिंग से लेकर बूथ स्तर तक काम करने की प्रक्रिया पर बात हुई। इसके अलावा एक और अहम मुद्दा उठा, वह है नेताआें द्वारा एक-दूसरे के खिलाफ की जाने वाली बयानबाजी का। इस मामले में भी गंभीरता से विचार किया गया। तय किया गया कि पार्टी में अब कोई भी नेता एक-दूसरे के खिलाफ किसी भी तरह की बयानबाजी नहीं करेगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×