Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» पत्रकारिता विश्वविद्यालय के तीसरे दीक्षांत समारोह में बतौर चीफ गेस्ट शामिल हुए उप-राष्ट्रपति, 249 स्टूडेंट्स को डिग्री और 19 को गोल्ड मेडल से किया गया सम्मानित

पत्रकारिता विश्वविद्यालय के तीसरे दीक्षांत समारोह में बतौर चीफ गेस्ट शामिल हुए उप-राष्ट्रपति, 249 स्टूडेंट्स को डिग्री और 19 को गोल्ड मेडल से किया गया सम्मानित

जमाना आईटी का है। गूगल अच्छा है, लेकिन गूगल कभी भी गुरु का स्थान नहीं ले सकता। गुरु को कभी मत भूलना। पत्रकारिता के...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 17, 2018, 03:30 AM IST

पत्रकारिता विश्वविद्यालय के तीसरे दीक्षांत समारोह में बतौर चीफ गेस्ट शामिल हुए उप-राष्ट्रपति, 249 स्टूडेंट्स को डिग्री और 19 को गोल्ड मेडल से किया गया सम्मानित
जमाना आईटी का है। गूगल अच्छा है, लेकिन गूगल कभी भी गुरु का स्थान नहीं ले सकता। गुरु को कभी मत भूलना। पत्रकारिता के छात्रों से ये बातें कहीं उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने। माैका था कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के तीसरे दीक्षांत समारोह का। बुधवार को पंडित दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में हुए समारोह में उप-राष्ट्रपति बतौर चीफ गेस्ट शामिल हुए।

उन्होंने स्टूडेंट्स को मां, जन्मभूमि और मातृभाषा का हमेशा सम्मान करने की सीख भी दी। अपना उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा, दक्षिण में चले हिंदी विरोधी आंदोलनों से पहले मैं भी जुड़ा था। लेकिन बाद में समझ आया कि हिंदी के बिना देश में कुछ भी संभव नहीं है। हिंदी के बिना हिंदुस्तान आगे नहीं बढ़ सकता। इंग्लिश से आपत्ति नहीं है, लेकिन मातृभाषा में पढ़ना, लिखना और बोलना आना चाहिए। मातृभाषा के सम्मान में कही उनकी इस बात काे पत्रकारिता के छात्रों ने भी तालियों से सराहा। समारोह में 2014-15 और 2016-17 के बीच एम फिल करने वाले 23 रिसर्चर, पीजी के 122 और ग्रेजुएशन के 104 स्टूडेंट्स को डिग्री दी गई। 19 स्टूडेंट्स को गोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया।

सभी स्टूडेंट गाउन की जगह ट्रेडिशनल गेटअप में शामिल आए। बॉयज कुर्ता-पायजामा और गर्ल्स कोसा साड़ी में नजर आईं। यूनिवर्सिटी का नाम लिखा साफा और गुलाबी कलर की पगड़ी पहनकर स्टूडेंट्स ने डिग्री ली। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल, कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, उच्च शिक्षा मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय, मंत्री अजय चंद्राकर, सांसद रमेश बैस, विधायक सत्यनारायण शर्मा मौजूद रहे।

विवि के कुलपति प्रो. डॉ. मानसिंह परमार ने स्वागत उद्बोधन और कुलसचिव डॉ. अतुल कुमार तिवारी ने आभार प्रदर्शन किया। समारोह में विवि की स्मारिका "केटीयू न्यूज' के दीक्षांत विशेषांक का विमोचन भी किया गया।

उप-राष्ट्रपति बोले-मां, जन्मभूमि और मातृभाषा का करें सम्मान, मैंने भी हिन्दी विरोधी आंदोलनों में लिया था हिस्सा, बाद में समझ में आया हिंदी बिना देश में कुछ संभव नहीं।

जमाना आईटी का पर गूगल कभी नहीं ले सकता गुरु की जगह: वेंकैया नायडू

एमफिल के टॉपर योगेश वैष्णव को गोल्ड मेडल से सम्मानित करते समारोह के चीफ गेस्ट उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू, सीएम डॉ. रमन सिंह व अन्य अतिथि।

मातृभाषा में करें बात : वेंकैया

उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि अपने घर और पड़ोस में सभी से मातृभाषा में ही बात करें। अंग्रेजी बोलने वालो के साथ अंग्रेजी बोलो, लेकिन छत्तीसगढ़ वालों के साथ अंग्रेजी में क्यों बोलना? भावना और मातृभाषा एक साथ चलती है। मन की बात व्यक्त करने का मातृभाषा अच्छा माध्यम है। इसमें पढ़ना, लिखना और चर्चा करना जरूरी है। इसके लिए आंदोलन होना चाहिए। सरकारी नौकरी के लिए व्यक्ति को मातृभाषा आनी चाहिए। भारत में ऐसी स्थिति कभी न बने, जब सभी अंग्रेजी में बात करें। पहले हिन्दी हो फिर इंग्लिश का नंबर आए। शिक्षा के बाद लोग विदेश जाना चाहते हैं। आप देखिए वहां के लोग यहां आ रहे हैं।, तो वहां जाने की कोई जरूरत ही नहीं है। उन्होंने देश में अनुसूचित जातियों, जनजातियों, महिलाओं और पिछड़े वर्गों के करोड़ों लोगों तक सूचनाएं सही मायने में, सही संदर्भों के साथ और सही समय पर पहुंचाए जाने की आवश्यकता जाहिर की।

गौरवशाली है राज्य में पत्रकारिता का इतिहास: सीएम

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ में पत्रकारिता का गौरवशाली इतिहास रहा है। भारतीय पत्रकारिता को नई ऊर्जा, नई दिशा देने में छत्तीसगढ़ का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। लोकतंत्र में पत्रकारिता सिर्फ समाचार देने का माध्यम ही नहीं है, बल्कि देश और समाज को सही दिशा देना भी इसका महत्वपूर्ण उद्देश्य है। सोशल मीडिया के तकनीकी औजारों, वेबसाइट, फेसबुक, वाट्सअप से इन दिनों स्मार्टफोन पर दुनिया के हर कोने से सूचनाओं का सैलाब उमड़ रहा है। इन सूचनाओं की सच्चाई का पता सिर्फ विवेक से ही लगाया जा सकता है। समाचार देने के पहले घटनाओं और तथ्यों की पुष्टि करना बेहद जरूरी है।

इन्हें मिला गोल्ड मेडल

एम. फिल के लिए योगेश वैष्णव, मनोज भट्ट, बिचित्रानंद पंडा, सुमेधा चौधरी को गोल्ड मेडल से सम्मानित किया। योगेश वैष्णव को ग्रेजुएशन के लिए भी गोल्ड मेडल मिल चुका है। पीजी से हर्षित शर्मा, रविशंकर शर्मा, जूलियट मोटवानी, शुभम रॉय, तनुज भवर, दीक्षा यादव, अर्चना चौहान, व्योमकेश पांडेय, प्रवीण कुमार, अमरकांत गुप्ता, योगिनी दीपक हाटे, वर्षा शर्मा और दीप्ति साहू को गोल्ड मेडल मिला। ग्रेजुएशन से प्रथमेश त्रिपाठी और पार्थ शर्मा को गोल्ड मेडल से नवाजा गया।

गोल्ड मेडलिस्ट दीप्ति साहू अपने बच्चे के साथ पहुंचीं दीक्षांत समारोह में।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×