--Advertisement--

मेडिकल काउंसिलिंग के आखिरी दिन खाली रह गईं पीजी की नौ सीटें

रायपुर | काउंसिलिंग के आखिरी दिन नेहरू मेडिकल कॉलेज व सिम्स बिलासपुर में नॉन क्लीनिकल विभाग एनाटाॅमी, पीएसएम व...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:45 AM IST
रायपुर | काउंसिलिंग के आखिरी दिन नेहरू मेडिकल कॉलेज व सिम्स बिलासपुर में नॉन क्लीनिकल विभाग एनाटाॅमी, पीएसएम व फोरेंसिक मेडिसिन की नौ पीजी सीटें अलाट नहीं हो पाई। ये सीटें लैप्स हो गई हैं। पीजी में एडमिशन का आखिरी दिन शुक्रवार को है। पिछले चार साल से नॉन क्लीनिकल विभाग की सीटें लैप्स हो रही हैं। पिछले साल 11, 2016 में 15 व 2015 में 12 पीजी सीटें लैप्स हुई थीं। इस साल लैप्स हुई सीटों में नेहरू मेडिकल कॉलेज में एनाटाॅमी की तीन, सिम्स में एनाटॉमी की तीन व फोरेंसिक मेडिसिन की दो व पीएसएम की एक सीट शामिल है।



सिम्स में फोरेंसिक मेडिसिन विभाग तो है, लेकिन एचओडी ही नहीं है। इसलिए एमबीबीएस डॉक्टर एडमिशन नहीं ले रहे हैं। दूसरा बड़ा कारण यह है कि पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों की प्रैक्टिस नहीं के बराबर चलती है। ऐसे में कोई फोरेंसिक मेडिसिन में एडमिशन नहीं लेना चाहते। एनाटॉमी की सीटें खाली होने के पीछे कारण यह है कि निजी मेडिकल कॉलेज टीचिंग के लिए कम वेतन में एमएससी एनाटॉमी वालों की भर्ती कर लेते हैं। इससे उनका पैसा भी बचता है और एमसीआई से भी मान्यता है।

एमसीआई ने निजी कॉलेजों को 30 फीसदी नॉन मेडिकल फैकल्टी करने की छूट दे रखी है।